राजस्थान / ओलों की मार से फसलें तबाह, किसानों ने जगह-जगह जाम लगाया, मंत्री विश्वेंद्र ने कहा- उचित मुआवजा मिलेगा

कुम्हेर में चुंगी रोड पर किसानों ने लगाया जाम। किसानों ने खराब हुई गेहूं की बालियां हाथ में लेकर मुआवजे की मांग की। कुम्हेर में चुंगी रोड पर किसानों ने लगाया जाम। किसानों ने खराब हुई गेहूं की बालियां हाथ में लेकर मुआवजे की मांग की।
कुम्हे में ओलों से खराब हुई गेहूं की फसल। कुम्हे में ओलों से खराब हुई गेहूं की फसल।
वहीं पर्यटन एवं देवस्थान मंत्री विश्वेंद्र सिंह ने ओला प्रभावित इलाकों का दौरा कर हालात का जायजा लिया। वहीं पर्यटन एवं देवस्थान मंत्री विश्वेंद्र सिंह ने ओला प्रभावित इलाकों का दौरा कर हालात का जायजा लिया।
X
कुम्हेर में चुंगी रोड पर किसानों ने लगाया जाम। किसानों ने खराब हुई गेहूं की बालियां हाथ में लेकर मुआवजे की मांग की।कुम्हेर में चुंगी रोड पर किसानों ने लगाया जाम। किसानों ने खराब हुई गेहूं की बालियां हाथ में लेकर मुआवजे की मांग की।
कुम्हे में ओलों से खराब हुई गेहूं की फसल।कुम्हे में ओलों से खराब हुई गेहूं की फसल।
वहीं पर्यटन एवं देवस्थान मंत्री विश्वेंद्र सिंह ने ओला प्रभावित इलाकों का दौरा कर हालात का जायजा लिया।वहीं पर्यटन एवं देवस्थान मंत्री विश्वेंद्र सिंह ने ओला प्रभावित इलाकों का दौरा कर हालात का जायजा लिया।

  • चुंगी रोड, गागरसोली, अस्तावन, सैत समेत अन्य सड़क मार्गों पर रोका रास्ता
  • मंत्री के समझाने पर किसानों ने खोला जाम, जल्द राहत पहुंचाने की मांग की

दैनिक भास्कर

Mar 07, 2020, 12:25 PM IST

कुम्हेर (भरतपुर). ओलावृष्टि से नष्ट फसल के शत-प्रतिशत मुआवजे की मांग को लेकर भरतपुर में शनिवार को किसानों ने कस्बे के चुंगी रोड समेत अन्य सड़क मार्गों पर जाम लगा दिया। उधर, पर्यटन एवं देवस्थान मंत्री विश्वेंद्र सिंह ने अतिवृष्टि एवं ओलावृष्टि प्रभावित क्षेत्रों को दौरा कर हालात जाने।

किसानों ने कुम्हेर के चुंगी रोड, गागरसोली, अस्तावन, सैत सहित अन्य सड़क मार्गों पर जाम लगा दिया। किसानों ने मौसम की मार से नष्ट हुई फसलों का शत प्रतिशत मुआवजा, बिजली बिल माफ करने व मुआवजा माफ करने की मांग को लेकर रास्ता रोक दिया तथा प्रदर्शन किया।

प्रभावित इलाकों के दौरे पर निकले कैबिनेट मंत्री विश्वेंद्र सिंह जाम वाली जगहों पर पहुंचे और किसानों को समझाया। विश्वेंद्र ने कहा कि इससे बड़ा कहर कुछ हो नहीं सकता। यह सौ फीसदी नुकसान है। सरकार इसको लेकर संवेदनशील है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत खुद अपने स्तर पर इस मामले को देख रहे हैं। उन्होंने भी अधिकारियों को जल्द से जल्द गिरदावरी कराने के निर्देश दिए हैं। वहीं अपने दौरे में विश्वेंद्र ने किसानों की समस्या हल करने को लेकर अधिकारियों को निर्देश दिए।

एक सप्ताह में चौथी बार ओलावृष्टि से बड़ा नुकसान

पिछले एक सप्ताह के दौरान जिले में शुक्रवार को चौथी बार ओलावृष्टि हुई। इस दौरान सेवर, कुम्हेर, नदबई और डीग ब्लॉक में बेर से लेकर नींबू के आकार तक के ओले पड़े। किसानों का दावा है कि ओलों का वजन करीब 100 ग्राम तक रहा होगा। इससे इन ब्लॉक्स में गेहूं और सरसों की फसलें पूरी तरह तबाह हो गई हैं जबकि अन्य क्षेत्रों में भारी फसली नुकसान हुआ है।

इससे पहले जिले में 29 फरवरी, एक और 5 मार्च को भी ओलावृष्टि हो चुकी है। पर्यटन एवं देवस्थान मंत्री विश्वेंद्र सिंह ने जिले में 100 फीसदी नुकसान बताते दुबारा से गिरदावरी कराने के निर्देश दिए हैं। इसके साथ ही सीएम से बात करके किसानों को मुआवजे के अलावा भरतपुर के लिए स्पेशल पैकेज मांगा है। जिला कलेक्टर ने सरकार को भेजी प्राथमिक रिपोर्ट में जिले में 60 से 100 फीसदी तक खराबा बताया है। साथ ही राजस्व और कृषि विभाग के कर्मचारियों की छुट्टी रद्द कर तुरंत सर्वे के निर्देश दिए हैं।

इधर, शहर में भी तेज बारिश के साथ करीब पांच मिनट तक ओलावृष्टि हुई। इसके बाद शाम करीब 4.30 बजे फिर तेज बारिश के साथ करीब 10 मिनट तक शहरभर में ओले पड़े। शहर में ओलों से बड़ी संख्या में तोते मरने की भी खबर हैं। जिले में 50 से ज्यादा बिजली के खंभे टूट गए वहीं कई ट्रांसफार्मर भी फुंक गए।

न्यूज व फोटो : राहुल कुमार


 

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना