राजस्थान / गहलोत बोले- अपराधों की मॉनिटरिंग के लिए सेल बनेगा; पहलू खां मामले में पिछली सरकार ने की लापरवाही



Ashok Gehlot says, negligence by the earlier government cannot be imagined in Pehlu Khan case
X
Ashok Gehlot says, negligence by the earlier government cannot be imagined in Pehlu Khan case

  • प्रदेश में मनाई जाएगी राजीव गांधी की 75वीं जयंती, एक साल तक होंगे कार्यक्रम

Dainik Bhaskar

Aug 19, 2019, 09:55 AM IST

जयपुर (बाबूलाल शर्मा)। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा- कि प्रदेश में जघन्य अपराधाें की मॉनिटरिंग के लिए सेल बनाया जाएगा। पहलू खान मामले में पिछली सरकार ने लापरवाही बरती। इस मामले में कई खामियां रहीं, जिससे आरोपी बरी हो गए। मुख्यमंत्री ने रविवार को बजट घोषणाओं पर चर्चा की। बैठक में पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय राजीव गांधी की 75 वीं जयंती मनाने को लेकर भी चर्चा की गई।

 

गहलोत ने कहा कि बैठक में पहलू खां मामले पर गहन चर्चा हुई। इस मामले में पिछली भाजपा सरकार ने घोर लापरवाही बरती। कोर्ट ने हाल ही सुनाए अपने फैसले में सभी आरोपियों को बरी कर दिया। गहलोत ने कहा कि मुजरिम संदेह के आधार पर बरी किए गए। इस वारदात की वीडियोग्राफी करने वालों को गवाह नहीं बनाया गया। इन सब बातों के कारण आरोपी बरी हो गए।

 

पहलू खां मामले मे यह बोले गहलोत

  • एक अप्रेल 2017 को घटना घटित हुई
  • 16 घंटे बाद एफआईआर दर्ज हुई। चार दिन बाद मेडिकल हुआ।
  • आरोपियों को अरेस्ट करने की तत्परता नहीं दिखाई गई।
  • मामले की जांच तीन अलग-अलग अधिकारियों ने की और तीनों ने ही नामजद आरोपियों को घटना में शरीक माना लेकिन जिन छह लोगों को नामजद किया उन्हें अरेस्ट नहीं किया गया।
  • जिस घटना से मोबाइल मिलने की बात कही थी उसे जब्त नहीं किया गया।
  • आरोपियों की घटनास्थल पर मौजूदगी के बारे में कॉल डिटेल प्राप्त की लेकिन सक्षम अधिकारी से वांछित प्रमाण पत्र नहीं लिया गया।

 

राज्य सरकार द्वारा उठाए गए कदम

  • एडीजी क्राइम की निगरानी में एक एसआईटी का गठन किया है जो 15 दिन में अपनी रिपोर्ट पेश करेगी।
  • इस प्रकरण में अनुसंधान और अभियोजन के दौरान रही कमियों को पहचान कर दूर किया जाएगा और सभी तथ्यों और उपलब्ध साक्ष्यों को एकत्र करने के साक्ष्य ही प्रत्येक की बारीकी से जांच की जाएगी।

 

जघन्य अपराधों की मॉनिटरिंग के लिए यूनिट

  • भविष्य में गंभीर एवं सनसनीखेज अपराध का त्वरित एवं प्रभावी अनुसंधान हो सके, न्यायालय में प्रभावी पैरवी हो, यह सुनिश्चित करने के लिए एडीजी क्राइम के सुपरविजन में एक विशेष इकाई के रूप में जघन्य अपराध मॉनिटरिंग यूनिट (हीनियस केस मॉनिटरिंग यूनिट) का गठन।
  • इसका प्रभारी अधिकारी आईजी रैंक का पुलिस ऑफिसर होगा। एक डीआईजी और दो एसपी रैंक के अधिकारी, दो विधि अधिकारी तथा प्रत्येक रेंज व पुलिस कमिश्नरेट क्षेत्र में एक-एक अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक या पुलिस उप अधीक्षक रैंक का अधिकारी इसमें शामिल होगा।

 

बैठक के बाद मुख्यमंत्री गहलोत ने बताया कि बजट घोषणा करना अलग बात है उनको लागू करना अहम है। बैठक में तय किया गया कि बजट घोषणाओं को तय समय पर लागू किया जाएगा। इसके लिए लगातार मॉनिटरिंग की जाएगी। गहलोत ने कहा कि सरकार ने पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की 75 जयंती मनाने का निर्णय किया है। इस मौके पर सालभर कार्यक्रम होंगे। पंचायत स्तर पर चुनाव हों या देश में कंप्यूटर क्रांति, इंटरनेट राजीव गांधी की देन हैं। उन्होंने आईटी क्षेत्र को विकसित किया। राजीव गांधी ने भारत को विकसित देश बनाने का सपना देखा था। सरकार चाहती है कि उनकी यह सोच हम युवाओं तक पहुंचाएं। जयंती कार्यक्रम सोमवार से शुरू होंगे। जयपुर के बिड़ला ऑडिटोरियम में शुभारंभ कार्यक्रम होगा।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना