इंटरव्यू / एमपी-गुजरात की तर्ज पर राजस्थान में विधायकों को तोड़ने की तैयारी पर बोले पूनियां- हम किसी की सरकार नहीं गिराएंगे

भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनियां। भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनियां।
X
भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनियां।भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनियां।

राज्यसभा चुनावों में भाजपा पर खरीद-फरोख्त के आरोपों पर जवाब दिया- कांग्रेस अपने कर्मों से ही एक दिन अल्पमत में आएगी यह तय है

दैनिक भास्कर

Mar 23, 2020, 02:41 AM IST

जयपुर. राज्यसभा चुनावाें में ओंकार सिंह लखावत काे आखिरी वक्त पर नामांकन भरवाकर भाजपा ने चुनावाें में सियासी तड़का लगा दिया है। कांग्रेस के पास अपने दाेनाें प्रत्याशियाें काे राज्यसभा पहुंचाने लायक पर्याप्त वाेट हैं, लेकिन भाजपा इस उम्मीद में है कि उसे कांग्रेस के अंतर्विरोध का कुछ फायदा मिल जाएगा। भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनियां का कहना है कि भाजपा ने किसी भी कांग्रेस के विधायक से संपर्क नहीं किया है और न ही हम प्रदेश में अशोक गहलोत की सरकार को गिराना चाहते हैं लेकिन उन्हें यह लगता है कि कांग्रेस सरकार ठीक तरह से काम नहीं कर रही है तो हम उनसे अंतरात्मा की आवाज पर वोट देने की अपील करते हैं- इसके अलावा पूनियां ने राज्यसभा चुनावों को लेकर सियासी गलियारों में उठ रहे तमाम सवालों के जवाब भी दिए।

भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष को कांग्रेस के अंतर्विरोध का फायदा मिलने की उम्मीद

प्रश्न: राज्यसभा में दाे सीट के लिहाज से भाजपा के पास नंबर नहीं फिर भी आखिरी वक्त में ओंकार सिंह लखावत नामांकन कराया। क्या एमपी और गुजरात की तर्ज पर राजस्थान में कांग्रेस विधायकों को तोड़ने की तैयारी है?

पुनियां- एमपी में और राजस्थान में बहुत अंतर है। हम किसी की सरकार नहीं गिराएंगे। जहां तक लखावत को उतारने का सवाल है तो हमारे पास 23 वोट एक्सट्रा हैं और हम चाहते हैं कि ये वोट हमारे प्रत्याशी को ही मिलें। 


प्रश्न: सीएम अशोक गहलोत भाजपा पर हॉर्स ट्रेडिंग का आरोप लगाते हैं। क्या भाजपा खरीद-फरोख्त की राजनीति कर रही है?
पुनियां- देश में आपात काल कांग्रेस की देन है। 91 बार कांग्रेस ने ही अन्य दलों की सरकार को गिराया, लेकिन यदि हमारी अपील से अन्य किसी पार्टी का विधायक हमें वोट देता है तो हम उसका स्वागत करेंगे।

प्रश्न: अब तक न तो किसी कांग्रेस विधायक और न ही निर्दलीय विधायक ने खुलकर आपको समर्थन देने की घोषणा की है? फिर भी उम्मीद है कि कोई आपके पास आएगा? 
पुनियां- भले ही उनके विधायक या निर्दलीय हों कुछ मर्यादाएं रहती हैं। हमें उम्मीद है कि जो लोग सरकार के काम-काज से खुश नहीं है, हम उनका स्वागत करेंगे। भले ही उनकी संख्या एक-दो, पांच या दस जो भी हो।  

प्रश्न: लखावत के नामांकन के बाद आपको दिल्ली में गृह मंत्री अमित शाह ने बुलाया। क्या अन्य पार्टियों के विधायकों से उच्च स्तर पर कोई बातचीत करवाई गई?
पुनियां- दिल्ली में मैं सिर्फ अमित शाह से मिलने ही नहीं गया था। दिल्ली में शीर्ष नेताओं से मिला था लेकिन पार्टी की गतिविधियों को लेकर। मुझे मेरी कार्यकारिणी भी बनानी है। इसके अलावा तीन दिन तो मैं प्रदेश के सांसदों से ही मिला था।

प्रश्न: चर्चा काफी जोरों से है कि कुछ दिनों पहले पूर्व सीएम वसुंधरा राजे और कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष सचिन पायलट की मुलाकात हुई थी। सच क्या है? 
पुनियां- मेरी जानकारी के मुताबिक उनकी कोई मुलाकात नहीं हुई।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना