जयपुर / 50 साल पुराने 3 बंगले तोड़कर रेजीडेंट हॉस्टल फेकल्टी क्वार्टर बनाएंगे, काम जनवरी से शुरू

जेके लोन के पीछे टूटेंगे तीनों बंगले जेके लोन के पीछे टूटेंगे तीनों बंगले
X
जेके लोन के पीछे टूटेंगे तीनों बंगलेजेके लोन के पीछे टूटेंगे तीनों बंगले

  • एसएमएस मेडिकल कॉलेज को मिलेंगे Rs.150 करोड़, Rs.42 करोड़ जारी
  • उपकरण, फेकल्टी और भवन सम्बन्धी काम होंगे

दैनिक भास्कर

Dec 16, 2019, 03:04 AM IST

जयपुर (संदीप शर्मा). एसएमएस अस्पताल मेडिकल कॉलेज में 150 करोड़ रुपए के काम होंगे। मरीजों के इलाज के लिए उपकरण, पढ़ाई के लिए फेकल्टी, डॉक्टर्स और रेजीडेंट्स के लिए भवन बनाए जाएंगे। इसके लिए प्रारंभिक तौर पर 42 करोड़ रुपए स्वीकृत हाे चुके है।

मेडिकल कॉलेज के अधिकारियों की पीडब्ल्यूडी अधिकारियों के साथ बैठक भी हो चुकी है। विभागीय अधिकारियों की मानें तो जनवरी माह से ही गर्ल्स हॉस्टल, रेजीडेंट हॉस्टल और फेकल्टी क्वाटर बनना शुरू हो जाएंगे। गौरतलब है कि स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट और गर्वमेंट ऑफ इंडिया की ओर से विभिन्न मद में मेडिकल कॉलेज को 150 करोड़ रुपए मिलेंगे।

जेके लोन अस्पताल के पीछे तीन बड़े बंगले बने हुए हैं। इनमें डॉ. सीएल नवल, डॉ. अनिता सिंघल और डॉ. गोवर्धन मीणा का रेजीडेंस बना हुआ है। अब इनमें से डॉ. नवल और डॉ. गोवर्धन के बंगल को तोड़कर वहां डॉक्टर्स के लिए फेमिली हॉस्टल बनाया जाएगा। इसके अलावा अन्य एक बंगले की जगह फेकल्टी क्वाटर बनाए जाएेंगे। यहां करीब 45 फ्लेटस बनेंगे, जिसमें डॉक्टर्स रह सकेंगे।


ऐसा इसलिए किया गया
ऐसा इसलिए किया गया है क्योंकि एमबीबीएस और अन्य मेडिकल सीट 150 तक बढ़ गई हैं। एमसीआई के नियमों के तहत सीट बढ़ाने के साथ ही वहां सुविधाओं को भी बढ़ाया जाना जरूरी है। इसलिए गर्वमेंट ऑफ इंडिया से भी पैसा आ रहा है और कॉलेज और अस्पताल में व्यवस्थाएं सुधारने के लिए स्मार्ट सिटी के तहत काम किया जाएगा।


गर्ल्स हॉस्टल का बढ़ेगा दायरा, रेजीडेंट को फायदा
अभी एमबीबीएस की छात्राओं के लिए गर्ल्स हॉस्टल छोटा पड़ने लगा है। हॉस्टल के पीछे ही आर्मी एरिया को कवर कर पूरा गर्ल्स हॉस्टल बनाया जाएगा। साथ ही रेजीडेंट हॉस्टल के पीछे खाली पड़ी जमीन पर भी भवन बनाया जाएगा, जो कि रेजीडेंट के रहने के काम आ सकेगा।


बजट आ गया है
एसएमएस मेडिकल कॉलेज के प्रिंसीपल डॉ. सुधीर भंडारी व बिल्डिंग कमेटी के चेयरमैन डॉ. एसएम शर्मा ने बताया- मेडिकल काॅलेज में काम कराने के लिए यूडीएच मंत्री शांति धारीवाल से मांग की गई थी। उन्हाेंने स्मार्ट सिटी प्राेजेक्ट के तहत मंजूरी दे दी है। बजट आ गया और 100 करोड़ रुपए और आने हैं। जनवरी में ही काम शुरू करने के प्रयास हैं।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना