मंडे पॉजिटिव / कैंसर मरीजों को बेहोश कर दी जा सकेगी ब्रेकी थैरेपी



Brecky Therapy Can Be Cured Cancer Patients
X
Brecky Therapy Can Be Cured Cancer Patients

Dainik Bhaskar

Jun 17, 2019, 04:34 AM IST

जयपुर. एसएमएस अस्पताल में मुंह, बच्चेदानी, प्रोस्टेट, गला, जीभ व गाल जैसे कैंसर से पीड़ित मरीजों को अब बेहोश करके यानी जनरल एनेस्थेसिया के जरिए ब्रेकी थैरेपी दी जा सकेगी। मौजूदा स्थिति में प्रोस्टेट, बच्चेदानी व गले का कैंसर मरीजों को ब्रेकी थैरेपी देने के लिए दूसरे ऑपरेशन थिएटर में ले जाना पड़ता है। रेडियोथैरेपी विभाग में मॉडर्न ऑपरेशन थिएटर का काम प्रारंभ हो गया है, अगले दो-तीन में माह में मरीजों को सुविधा मिलने लगेगी।

 

रेडियोथैरेपी विभाग के अध्यक्ष डॉ.संदीप जैन का कहना है कि ब्रेकी थैरेपी दी जाने वाले मरीजों को एक ही छत के नीचे सारी सुविधा उपलब्ध होगी। यह एक ऐसी तकनीक है, जिससे ट्यूमर के अलावा किसी और अंग के साइड इफेक्ट होने का खतरा नहीं रहता। मरीज के शरीर पर रेडिएशन का दुष्प्रभाव कम पड़ता है। 

 

अब ट्रॉमा सेंटर में ही हो सकेगी एचआईवी जांच
एसएमएस अस्पताल के ट्रॉमा सेन्टर में एचआईवी जांच के लिए मरीजों को इधर-उधर भटकना नहीं पड़ेगा। जांच सुविधा 24 घंटे राउंड द क्लॉक एक कमरे में सैंपल कलेक्शन से लेकर रिपोर्ट की सुविधा उपलब्ध रहेगी। सरकारी स्तर पर पहला सेन्टर है, जहां एचआईवी टेस्ट राउंड द क्लॉक उपलब्ध है। इसके अलावा हेपेटाइटिस बी और सी जांच की 24 घंटे सुविधा मिलेगी।

 

एचआईवी व हेपेटाइटिस बी व सी जांच की सुविधा 24 घंटे नहीं होने से मरीजों को खासी दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है। अस्पताल अधीक्षक डॉ.डी.एस.मीणा का कहना है कि सेन्टर पर मरीजों का ग्राफ लगातार बढ़ रहा है। यहां पर जांच सुविधा के बाद मरीजों को अस्पताल के मुख्य भवन की सैन्ट्रल लैब में नहीं जाना पड़ेगा।

COMMENT