--Advertisement--

अलवर को अतिसंवेदनशील बताते हुए पैरा मिलिट्री फोर्स की 15 अतिरिक्त कंपनियां मांगी, केंद्र ने 10 की मंजूरी दी

अलवर को अतिसंवेदनशील बताते हुए पैरा मिलिट्री फोर्स की 15 अतिरिक्त कंपनियां मांगी, केंद्र ने 10 की मंजूरी दी

Danik Bhaskar | Jan 17, 2018, 02:41 PM IST

जयपुर. प्रदेश के अलवर एवं अजमेर लोकसभा और मांडलगढ़ विधानसभा क्षेत्र में शांतिपूर्ण मतदाता के लिए सेंट्रल पैरा मिलिट्री फोर्स की 45 कंपनियां तैनात की जाएगी। केंद्र सरकार ने इसकी मंजूरी दे दी है। हरियाणा की सीमा से सट्टे अलवर संसदीय क्षेत्र के लिए राज्य सरकार ने अकेले अलवर के लिए 15 अतिरिक्त कंपनियों की मांग रखी थी। हालांकि, केंद्र सरकार ने 10 अतिरिक्त कंपनियां प्रदेश को उपलब्ध कराने पर रजामंदी दे दी है। गृह विभाग एवं राज्य पुलिस को इस बारे में केंद्रीय गृह मंत्रालय ने अवगत भी करवा दिया है। जानें पूरा मामला...


- गृह विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों ने बताया कि प्रदेश में उपचुनाव के लिए सेंट्रल पैरा मिलिट्री फोर्स की 51 कंपनियां मांगी गई थी।

- एक कंपनी में करीब सौ जवान होते हैं, इस लिहाज से 5100 सुरक्षा बलों की आवश्यकता थी। लेकिन, केंद्र सरकार ने सिर्फ 35 कंपनियां ही भेजने के लिए मंजूरी दी थी। ऐसे में गृह विभाग की तरफ से पिछले सप्ताह एक बार फिर केंद्रीय गृह मंत्रालय को चिट्ठी लिखी गई।

- इसमें हवाला दिया गया कि अलवर सीट का क्षेत्र हरियाणा से लगता हुआ है। इसलिए, वहां अतिरिक्त सुरक्षा की जरूरत को देखते हुए 15 और कंपनियां भेजी जाए।

- राज्य निर्वाचन विभाग के अधिकारियों ने भी केंद्र सरकार से अतिरिक्त सुरक्षा बल मुहैया करवाने के लिए विशेष आग्रह किया गया था।

- गृह विभाग का कहना है कि केंद्र सरकार ने राज्य सरकार के प्रस्ताव पर 10 और कंपनियां भेजने की सहमति दी है। इस तरह 45 कंपनियां मिल जाएगी।

- राज्य पुलिस के अतिरिक्त यह जाप्ता तैनात किया जाएगा। जल्द ही यह कंपनियां राज्य को मिल जाएगी।