--Advertisement--

सिर्फ 21 की उम्र में आर्मी लेफ्टिनेंट बना ये लड़का, 15 दिन में किया ऐसा कमाल

सिर्फ 21 की उम्र में आर्मी लेफ्टिनेंट बना ये लड़का, 15 दिन में किया ऐसा कमाल

Danik Bhaskar | Dec 21, 2017, 02:37 PM IST

पाली. वीडी नगर निवासी शिक्षक पिता मनोहर चौधरी और शिक्षिका संतोष चौधरी के इकलौते पुत्र आदित्य नागल ने सिर्फ 17 साल की उम्र ही एनडीए एग्जाम पास कर लिया था। इसके बाद 4 साल तक सिकंदराबाद में लेफ्टिनेंट का प्रशिक्षण लेकर 9 दिसंबर को वे सेना में लेफ्टिनेंट बन गए। खास बात यह कि पूरे देश से इस बैच में 139 युवाओं का चयन हुआ था। इसमें से आदित्य नागल राजस्थान से एकमात्र लेफ्टिनेंट थे।

- 12वीं कक्षा तक शहर के एक निजी स्कूल में अध्ययन करने के बाद एनडीए की परीक्षा देने के लिए आदित्य बहन उर्वशी के पास दिल्ली चला गया। रक्षा मंत्रालय में सेक्शन ऑफिसर के पद पर कार्यरत बहन ने सिर्फ 15 दिन तक भाई को एनडीए की परीक्षा को लेकर मोटिवेट किया।

- इसका नतीजा यह रहा कि भाई ने अपनी बहन और माता-पिता के सपने को पूरा करते हुए एनडीए की परीक्षा उत्तीर्ण कर ली।

आदित्य की घुड़सवारी भी अच्छी


आदित्य पढाई के साथ-साथ घुड़सवारी भी अच्छी करता है। उन्होंने घुड़सवारी में भी कई मेडल जीते हैं।

रक्षा मंत्रालय में सरकारी नौकरी के साथ भाई की पढ़ाई पर फोकस


- उर्वशी ने अपने छोटे भाई आदित्य के सेना के प्रति जज्बे को देखते हुए दिल्ली बुलाकर दिन-रात तैयारी कराई। साथ ही, कई ऑफिसर से भी मिलाया, ताकि भाई का हौसला बढ़ सके। इसके बाद भाई ने भी अपनी बहन के सपने को पूरा करने के लिए दिन-रात मेहनत की।

सिर्फ 17 साल में चयन, 4 साल के प्रशिक्षण के बाद 21 साल में बना लेफ्टिनेंट


आदित्य का जब एनडीए में चयन हुआ तो वो मात्र 17 साल का था। इसके बाद उसे चार साल तक सिकंदराबाद और बिहार के गया में प्रशिक्षण दिया गया। मात्र 21 साल की उम्र में वे लेफ्टिनेंट बन गए हैं। संभवतया पाली जिले का पहला बेटा है जो इतनी छोटी उम्र में ही सेना में लेफ्टिनेंट के पद तक पहुंच गया।

एक ही बेटा इसके बाद भी शिक्षक दपंती ने भेजा सेना में

आदित्य के माता-पिता दोनों शिक्षक है। उनका एक ही बेटा है आदित्य। इसके बाद भी देश सेवा के जज्बे को देखते हुए उन्होंने बेटे को सेना में जाने के लिए सहर्ष प्रेरित किया। माता-पिता को भी अब अपने बेटे पर गर्व है कि उनका बेटा देश सेवा में आगे अाया।

फोटोज- मनीष शर्मा