--Advertisement--

ख्वाजा साहब के उर्स का निमंत्रण डाक टिकट बने आकर्षण का केंद्र

ख्वाजा साहब के उर्स का निमंत्रण डाक टिकट बने आकर्षण का केंद्र

Danik Bhaskar | Jan 21, 2018, 04:08 PM IST
ऐसा है यह डाक टिकट। ऐसा है यह डाक टिकट।


अजमेर। महान सूफी संत हजरत ख्वाजा मोइनुद्दीन हसन चिश्ती का 806वां उर्स मार्च में शुरू होगा। उर्स को लेकर तैयारियां जारी हैं। देश-विदेश में खादिमों के जरिए डाक के माध्यम से निमंत्रण भेजे जा रहे हैं। इस बार इस निमंत्रण पत्र पर एक विशेष प्रकार के डाक टिकट जायरीन और लोगों के आकर्षण का केंद्र बने हैं। जानिए और इस बारे में ...


- गरीब नवाज के सालाना उर्स के निमंत्रण भेजे जा रहे हैं। लिफाफों पर लगाया जाने वाला डाकटिकट इस बार अलग नजर आ रहा है। डाक विभाग की विशेष योजना का लाभ खादिम ए ख्वाजा उठा रहे हैं।

माय डाक टिकट

- डाक विभाग ने माय डाक टिकट के नाम से एक विशेष स्कीम चला रखी है। इसमें संबंधित व्यक्ति अपने स्वयं के फोटो अथवा अन्य किसी फोटो के साथ डाक टिकट छपवा सकता है। इस बार अधिकतर खादिमों ने ख्वाजा गरीब नवाज की दरगाह के साथ ही स्वयं की फोटो भी डाक टिकट्स पर छपवाई है। यह खूबसूरत डाक टिकट लिफाफों पर लगाकर देश-विदेश में निमंत्रण के लिए भेजे जा रहे हैं।

यह है फायदा
- खादिमों का कहना है इस नए टिकट का फायदा यह है कि अकीदतमंद को गरीब नवाज की दरगाह का दीदार लिफाफे पर ही हो जाता है। जानकारी मिल रही है कि देश-विदेश में जब यह पहुंच रहे हैं तो इन्हें पाने वाला व्यक्ति श्रद्धा के तौर पर इस टिकट को भी संभाल कर रखता है।
- कुछ खादिमों ने दरगाह के डाक टिकट पर अपना फोटो भी छपवाया है। इससे एक प्रकार से उर्स के साथ-साथ खादिम भी अपना प्रचार कर रहे हैं।

- खादिम सैयद यासिर गुर्देजी ने बताया की नई तकनीक का प्रयोग बदलते परिवेश में खादिम भी कर रहे हैं। इसका अच्छा रिजल्ट सामने आ रहा है। ख्वाजा साहब के उर्स में अधिक से अधिक जायरीन शिरकत करें उसके लिए अधिक से अधिक संसाधनों का उपयोग किया जा रहा है।
- डाक के अलावा इंटरनेट और सोशल मीडिया का भी सहारा सालाना उर्स के प्रचार के लिए किया जा रहा है।

- देश के विभिन्न हिस्सों के साथ ही विदेशों से भी बड़ी संख्या में जायरीन सालाना उर्स में भाग लेने के लिए आते हैं और गरीब नवाज के दर पर अपनी मुरादें पेश करते हैं।

फोटो : आरिफ कुरैशी