Hindi News »Rajasthan »Jaipur »News» Aspirants Waiting For Appointment

तीन साल परीक्षा का इंतजार किया, चयनित हुए एक साल हुआ अभी भी नियुक्ति की प्रतीक्षा

राजस्थान लोक सेवा आयोग द्वारा आयोजित एलडीसी 2013 की प्रक्रिया पूरी होने का नाम नहीं ले रही है।

आरिफ कुरैशी | Last Modified - Jul 02, 2018, 06:13 PM IST

  • तीन साल परीक्षा का इंतजार किया, चयनित हुए एक साल हुआ अभी भी नियुक्ति की प्रतीक्षा
    धरने पर बैठे अभ्यर्थी।


    - एलडीसी 2013 का मामला परीक्षा परिणाम के लिए भूख हड़ताल

    अजमेर। राजस्थान लोक सेवा आयोग द्वारा आयोजित एलडीसी 2013 की प्रक्रिया पूरी होने का नाम नहीं ले रही है। पहले इस परीक्षा का करीब 3 साल तक अभ्यर्थियों ने परीक्षा होने का इंतजार किया। उसके बाद परिणाम जारी हुए भी एक साल हो गया। अब इस परीक्षा में अपात्र रहे अभ्यर्थियों के विरुद्ध बेरोजगार परीक्षा परिणाम की मांग कर रहे हैं। आयोग द्वारा अब तक परीक्षा परिणाम नहीं घोषित किए जाने से खफा अभ्यर्थियोंं ने सोमवार से भूख हड़ताल शुरू कर दी।


    आयोग कार्यालय के पास करीब एक सप्ताह से जारी धरना- भूख हड़ताल में बदल गया है। पहले दिन चार अभ्यर्थियों विनीत फौजदार, राहुल कुमार, महेंद्र सिंह और हिमांशु फौजदार भूख हड़ताल पर बैठे। अभ्यर्थियों का कहना है कि पिछले तीन महीने से आयोग प्रशासन बार-बार अभ्यर्थियो को गुमराह कर रहा है, लेकिन परिणाम घोषित नहीं कर रहा। इसे देखते हुए अभ्यर्थियों ने पहले धरना शुरू किया, अब भूख हड़ताल शुरू कर दी है।

    ज्ञापन सौंपे

    इस मामले को लेकर अभ्यर्थियों के प्रतिनिधिमंडल ने जयपुर में मुख्य सचिव, कार्मिक विभाग के मुख्य सचिव, कलेक्टर और आयोग सचिव पी सी बेरवाल को भी ज्ञापन दिए और रिजल्ट जल्द से जल्द घोषित करने की मांग की। आयोग द्वारा आयोजित एलडीसी भर्ती परीक्षा 2013 करीब 5 साल से चल रही है।

    हालांकि आयोग ने इस भर्ती परीक्षा का परिणाम पूर्व में घोषित कर दिया था, लेकिन अभी कई अपात्र अभ्यर्थियों के चलते पद रिक्त है। इन पदों को भरने के लिए ही अभ्यर्थी आयोग से परिणाम रि शफल करने की मान कर रहे हैं।

    फोटो : आरिफ कुरैशी



दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×