--Advertisement--

4 साल का प्यार फिर शादी, देसी छोरे की दुल्हन बनी विदेशी मेम

4 साल का प्यार फिर शादी, देसी छोरे की दुल्हन बनी विदेशी मेम

Dainik Bhaskar

Dec 13, 2017, 11:03 AM IST
राजस्थान के चित्तौड़गढ़ में य राजस्थान के चित्तौड़गढ़ में य

चित्तौड़गढ़. सात समंदर पार न्यूयोर्क शहर की युवती क्रिसी शहर के युवक गौरव व्यास के साथ शादी के बंधन में बंध गई। दोनों ने यहां सात फेरे लिए। अमेरिकन दुल्हन ने चित्तौड़गढ़ आकर पूरी तरह हिंदू रीति-रिवाज के अनुसार शादी की रस्में पूरी की। अपने देश से क्रिसी के परिजनों ने कन्यादान किया। जानें क्या रहा खास...


- शादियों के सीजन में शहर के कपासन मार्ग स्थित एक रिसोर्ट में तीन दिन पहले हुई एक शादी सबसे अलग रही। बिरला सीमेंट वर्क्स में क्वालिटी कंट्रोल मैनेजर आनंदीलाल व्यास के इंजीनियर पुत्र गौरव की शादी अमेरिका निवासी क्रिसी से हुई। हिंदू रीति रिवाज से रस्मों के लिए क्रिसी अपनी माता डेबी, भाई ब्रेनडेन और भाभी केला के साथ यहां पहुंची।

पढ़ाई के दौरान हुआ प्यार


- गौरव सात साल पहले आईआईटी मुंबई से बीटेक करने के बाद न्यूयोर्क गए थे। यूएस में एमएस की पढाई के दौरान उसी काॅलेज में क्रिसी उर्फ क्रिस्टीना बरनाल्डो से संपर्क हुआ।
- पढ़ाई के बाद दोनों का न्यूयोर्क में ही एक कंपनी में एक साथ ही जॉब मिल गया। चार साल की दोस्ती गहरी हुई तो बात शादी तक पहुंच गई।
- गौरव ने पहले अपने माता वंदना व्यास-पिता आनंदीलाल से बात की। उनकी रजामंदी से विवाह की तारीख दस दिसंबर तय हुई। गौरव ने अपने शहर चित्तौड़ में पहुंचकर हिन्दू रीति-रिवाज से शादी करने की बात रखी तो क्रिसी और उसके परिवार ने इसे स्वीकार कर लिया।
- वह दो दिसंबर को ही चित्तौड़गढ़ पहुंच गया। गौरव के घर पर विवाह संबंधी रस्में शुरू हो गई। मुख्य रस्में रिसोर्ट में नौ दस दिसंबर को हुई। अमेरिकन दुल्हन क्रिसी ने भारतीय परिधान में सज संवर कर गौरव के साथ सात फेरे लेकर सात जन्मों का रिश्ता जोड़ा। सात समंदर पार से आई दुल्हन को रिश्तेदारों ने ढेरों आशीर्वाद दिए। नवदंपती 15 दिसंबर को वापस न्यूयोर्क लौट जाएंगे।

दुल्हन क्रिसी प्यार से बन गई कृष्णा और खुशी...


- शहर के दाधीच परिवार में नवेली दुल्हन का मूल नाम क्रिसी उर्फ क्रिस्टीना बरनाल्डो है, पर यहां शादी की रस्मों के दौरान गौरव के रिश्तेदार उसे प्यार से कृष्णा खुशी के नाम से पुकारने लगे।
- अमेरिका के कोलोराडो निवासी 28 वर्षीय क्रिसी ने कहा कि उसे भारतीय परिधान रीति-रिवाज में शादी करके अच्छा लगा।
- दूल्हा 31 वर्षीय गौरव कहते हैं कि क्रिसी शुरू से भारतीय संस्कृति के बारे में जानने में रुचि दिखाती रही। यहां तक कि क्रिसी के साथ उनके माता-पिता भाई हिन्दी भाषा सीख रहे हैं। यह परिवार अब हिंदी के कई शब्द पहचानने बोलने लगा है।

फोटोज- राकेट पटवारी

X
राजस्थान के चित्तौड़गढ़ में यराजस्थान के चित्तौड़गढ़ में य
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..