सदन में बंदूक लेकर गुस्से बसपा विधायक मनोज न्यांगली / सदन में बंदूक लेकर गुस्से बसपा विधायक मनोज न्यांगली

सदन में बंदूक लेकर गुस्से बसपा विधायक मनोज न्यांगली

Mar 05, 2018, 03:08 PM IST
बसपा विधायक मनोज न्यांगली। बसपा विधायक मनोज न्यांगली।

जयपुर. विधानसभा की सुरक्षा में सोमवार को खुद उसके ही सदस्य ने सेंध लगा दी। बसपा विधायक मनोज न्यांगली सोमवार को न केवल पिस्टल लेकर विधानसभा पहुंचे, बल्कि करीब 2 घंटे तक सदन की कार्यवाही में हिस्सा भी लिया। प्रदेश में अभी तक का यह पहला मामला है, जब कोई विधायक सदन में यूं हथियार लेकर पहुंचा हो। जाने पूरा मामला...

- नियमानुसार सदन में विधायकों को मोबाइल तक ले जाने की अनुमति नहीं है, वहां विधायक का पिस्टल के साथ सदन में बैठे रहना सुरक्षा व्यवस्था पर गंभीर सवाल खड़े कर गया।

- विधानसभा सचिव पृथ्वीराज ने कहा कि इस संबंध में रिपोर्ट तलब कर ली गई है। दूसरी ओर, न्यांगली ने कहा कि उनसे गलती हो गई है। मीडिया के सवालों में उन्होंने इस गलती के लिए माफी भी मांगी। न्यांगली पश्चिमी गेट से बाहर निकल रहे थे तभी उनकी कमर पर लटकी पिस्टल कैमरे में आ गई।
- घटनाक्रम के अनुसार सरकार से विशेष सुरक्षा प्राप्त बसपा विधायक मनोज न्यांगली सोमवार सुबह सदन में पहुंचे। उन्होंने शून्यकाल में पर्ची के माध्यम से पंचायतीराज एवं ग्रामीण विकास विभाग के अधीन डीआरडीए कर्मचारियों के वेतन विसंगतियों से संबंधित मसला उठाया। बाद में न्यांगली पश्चिमी गेट से बाहर निकल रहे थे। जहां मीडिया से बातचीत करते समय उनकी कमर पर लटकी पिस्टल कैमरे में आ गई। इसका खुलासा होते की एक तरह से सनसनी फैल गई।

- मीडियाकर्मियों ने उनसे पिस्टल के संबंध में सवाल पूछा तो जबाव देते नहीं बना। आखिर में उन्होंने सफाई दी कि वे जल्दबाजी में ऐसा कर बैठे।

मांगी माफी, कहा- सुरक्षा कारणों से रखते हंै पिस्टल


विधायक मनोज न्यांगली ने इस पूरे घटनाक्रम पर माफी मांगते हुए कहा कि क्षेत्र से वे सीधे ही सदन में पहुंचे और गलती से पिस्टल लेकर सदन में आ गए थे। ऐसी गलती नहीं दोहराई जाएगी। वैसे हथियार का उनके पास लाइसेंस है और सुरक्षा कारणों से अपने साथ रखते हैं।

जानिए, कैसे सुरक्षा चक्र तोड़ते हैं विधायक

मुख्य भवन के द्वार पर डोर फ्रेम मेटल डिटेक्टर 'डीएफएमडी' लगा है। यह शरीर को आठ हिस्सों में स्केन करता है। मल्टी लाइट्स के जरिए बताता है कि कौनसे हिस्से पर धातु या कोई अन्य चीज है। लेकिन अधिकांश जनप्रतिनिधि बगल से निकल जाते हैं। अगर यह कभी बीप की आवाज देता है तो सुरक्षाकर्मियों द्वारा विधायक-अफसरों को टोेका नहीं जाता। विधायकों की तलाशी का प्रावधान नहीं है। लेकिन विधानसभा द्वारा जारी बुलेटिन में साफ हिदायत है कि वे किसी प्रकार का अस्त्र-शस्त्र लेकर नहीं आ सकते।


वाई श्रेणी सुरक्षा मिली है, बुलेट प्रूफ जैकेट भी पहनकर रहते हैं


सार्दुलपुर से बसपा विधायक मनोज न्यांगली को उन पर हुए हमले के बाद से सरकार ने वाई श्रेणी की सुरक्षा दे रखी है। गैंगवार के चलते उनके भाई वीरेंद्र की भी हत्या कर दी गई थी। न्यांगली बुलेट प्रूफ जैकेट भी पहनकर रहते हैं। सुरक्षा कारणों के चलते वे ऐसा करते हैं।

फोटो : मनोज शर्मा

X
बसपा विधायक मनोज न्यांगली।बसपा विधायक मनोज न्यांगली।
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना