Hindi News »Rajasthan »Jaipur »News» CM Raje Inaugurates E Library In Rajasthan HC

राजस्थान हाईकोर्ट में शुरू हुई प्रदेश की पहली ई—लाइब्रेरी, मुख्यमंत्री ने किया उद्घाटन

प्रदेश के अधिवक्ताओं का ई-लाइब्रेरी का सपना अब पूरा हो गया है।

Vishnu Sharma | Last Modified - Apr 01, 2018, 05:05 PM IST

  • राजस्थान हाईकोर्ट में शुरू हुई प्रदेश की पहली ई—लाइब्रेरी, मुख्यमंत्री ने किया उद्घाटन
    ई लाइब्रेरी का शुभारंभ करने पहुंची सीएम राजे।

    जयपुर। प्रदेश के अधिवक्ताओं का ई-लाइब्रेरी का सपना अब पूरा हो गया है। यह ई-लाइब्रेरी अब राजस्थान हाईकोर्ट की जयपुर पीठ में बनकर तैयार है। करीब तीन करोड़ की लागत से बनी यह एयर कंडीशन्ड ई-लाइब्रेरी राजस्थान की पहली और देश की पांचवीं ई-लाइब्रेरी है।

    - मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे और राजस्थान हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश प्रदीप नंद्राजोग ने रविवार को जयपुर पीठ में इस ई-लाइब्रेरी का उद्घाटन किया।

    - इस अवसर पर राजस्थान हाईकोर्ट के जस्टिस एमएन भंडारी, जस्टिस केएस झवेरी, सांसद रामचरण बोहरा सहित न्यायिक अधिकारी, वरिष्ठ अधिवक्ता और बार एसोसिएशन के पदाधिकारी मौजूद रहे।

    राजस्थान की पहली व देश की यह पांचवीं ई-लाइब्रेरी
    - जानकारी के अनुसार राजस्थान हाईकोर्ट में शुरू हुई यह ई-लाइब्रेरी कानूनी जानकारियों से जुड़ी है। इससे पहले ज्यूडिशियल ट्रेनिंग एवं रिसर्च इंस्टीट्यूट, लखनऊ, रोहिणी जिला न्यायालय दिल्ली, लखनऊ हाईकोर्ट और बार काउंसिल आॅफ इंडिया, नई दिल्ली के आॅफिस में इस तरह की लॉ ई-लाइब्रेरी संचालित है।

    - इन चार जगहों के बाद अब राजस्थान हाईकोर्ट में शुरुआत हुई है। लेकिन जयपुर पीठ में बनी यह ई-लाइब्रेरी इनमें सबसे बड़ी व आधुनिक है।
    - जानकारी के अनुसार करीब साढ़े 7 हजार स्कवायर फीट में यह लाइब्रेरी तैयार की गई है। जो कि पूरी तरह से एयर कंडीशन्ड है।
    - हाईकोर्ट में बनी इस ई-लाइब्रेरी को ऑल इंडिया रिपोर्टर प्राइवेट लिमिटेड ने तैयार किया है।
    इसी कंपनी ने पहले से संचालित चारों ई-लाइब्रेरी को भी तैयार किया था।
    - इस ई-लाइब्रेरी में कानून से जुड़ी करीब 10 हजार किताबें भी उपलब्ध रहेंगी।
    - इसमें 15 कम्प्यूटर्स और लीगल रिसर्चर भी उपलब्ध करवाए गए हैं ताकि कानून से जुड़ी कोई भी अहम जानकारी उपलब्ध करवा सकें।
    - इस ई-लाइब्रेरी में 1914 से लेकर अब तक सुप्रीम कोर्ट व देश के सभी उच्च न्यायालयों के जजमेंट सहित कानून की सभी किताबें विषय के अनुसार उपलब्ध रहेगी।
    ये सभी सामग्री ऑफलाइन व ऑनलाइन रहेगी।


दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×