--Advertisement--

जम्मू में शहीद हुए बीएफएफ में तैनात राजस्थान के तीन सपूत, पाक गोलीबारी में हुए शहीद

Dainik Bhaskar

Jun 13, 2018, 01:05 PM IST

जम्मू में शहीद हुए बीएफएफ में तैनात राजस्थान के तीन सपूत, पाक गोलीबारी में हुए शहीद

cross border firing in jammu by pakistan and three soilders of rajasthan martyrs

जयपुर. जम्मू में बुधवार अलसुबह पाकिस्तान की ओर से हुई गोलाबारी में बीएसएफ में तैनात चार जवान शहीद हो गए। इनमें एक असिस्टेंट कमांडेंट समेत शहीद हुए तीन जवान राजस्थान के थे।

- जानकारी के अनुसार जम्मू के सांबा सेक्टर स्थित रामगढ़ क्षेत्र में पाकिस्तान की ओर से सीज फायर का उल्लंघन कर गोलीबारी की गई थी। इसमें शहीद जितेंद्र सिंह चौधरी (31) बीएसएफ में असिस्टेंट कमांडेंट थे।

- वह राजस्थान में भरतपुर जिले के सलेमपुर गांव के रहने वाले थे। पिछले लंबे अरसे से जितेंद्र सिंह का परिवार जयपुर में मानसरोवर स्थित रजत पथ पर रह रहा है। उनके तीन साल का एक बेटा है। पिछले लंबे अरसे से जितेंद्र सिंह जम्मू के सांबा सेक्टर में तैनात थे। उनकी पत्नी व बेटा जम्मू में ही साथ रह रहे थे।

- इसी गोलीबारी में बीएसएफ में जितेंद्र सिंह के साथ एएसआई रामनिवास राजस्थान में सीकर जिले के रहने वाले थे। जबकि कांस्टेबल हंसराज गुर्जर राजस्थान के ही अलवर जिले के रहने वाले थे।

- इसके अलावा सबइंस्पेक्टर रजनीश भी इस नापाक फायरिंग में शहीद हो गए। बताया जा रहा है कि इसी फायरिंग हमले में करीब पांच अन्य जवान घायल हो गए। इसकी सूचना मिलते ही घर परिवार में शोक छा गया। रोते बिलखते रिश्तेदारों के शहीदों के पैतृक घर आना शुरु हो गया।

शाम को ही माता पिता को ट्रेन से जयपुर के लिए रवाना किया था

- जानकारी के अनुसार जितेंद्र सिंह के माता पिता उनसे मिलने जम्मू गए थे। वहां जितेंद्र ने अपने माता पिता को वैष्णो देवी के दर्शन करवाए। इसके बाद मंगलवार शाम को जितेंद्र ने उन्हें जयपुर के लिए ट्रेन में बैठाकर रवाना किया। दो दिन की छुटि्टयों के बाद जितेंद्र सिंह मंगलवार को फिर से ड्यूटी पर चले गए।

- इसके बाद बुधवार तड़के पाकिस्तान ने गोलीबारी शुरु कर दी। इसमें सांबा सेक्टर के रामगढ़ में चौकी पर तैनात असिस्टेंट कमांडेंट जितेंद्र सिंह समेत करीब एक दर्जन जवान घायल हो गए। इनमें चार शहीद हो गए।

जयपुर पहुंचते ही माता पिता को मिली बेटे के शहीद होने की सूचना

- बुधवार सुबह जितेंद्र सिंह के माता पिता जम्मू में बेटे से मिलकर जयपुर पहुंचे। इसके कुछ देर बाद ही उन्हें बेटे के शहीद होने की सूचना मिली। यह सुनकर उन्हें यकीन ही नहीं हुआ कि जिस बेटे ने मंगलवार को उन्हें ट्रेन में बैठाकर हंसी खुशी से रवाना किया।

- उससे दोबारा नहीं मिल पाएंगे। जितेंद्र सिंह के शहीद होने की सूचना मिलने पर विधायक घनश्याम तिवाड़ी उनके मानसरोवर स्थित घर पहुंचे और शोक व्यक्त किया।


X
cross border firing in jammu by pakistan and three soilders of rajasthan martyrs
Astrology

Recommended

Click to listen..