--Advertisement--

जयपुर

जयपुर

Danik Bhaskar | Dec 15, 2017, 06:36 PM IST

जयपुर। एक्टर दर्शन दवे ने हाल ही में दैनिक भास्कर को अपने नए म्यूजिक वीडियो के बारे में बताया। दर्शन ने कहा कि मैं अपने पिछले म्यूजिक वीडियो 'दिल तू है दीवाना' के एक साल बाद फिर आपके समक्ष अपना नया म्यूजिक वीडियो रिलीज़ कर रहा हूं। इस म्यूजिक वीडियो के बारे में कुछ मजेदार बातें आपसे शेयर करना चाहूंगा। यहां देखिए दर्शन दवे का नया म्यूजिक वीडियो....

- यह मेरा पहला इंस्ट्रुमेंटल का म्यूजिक वीडियो है, इसमें दर्शक मुझे सिंथेसाइजर पे मेरी एक मौलिक धुन बजाते हुए सुन और देख पाएंगे।

- यह एक 'one man crew' video है। यह वीडियो मेरा पहला ऐसा प्रयास है जिसमें मेरे अलावा एक भी और क्रू मेंबर नहीं है। ना सहायक ना स्पॉट बॉय। मैंने पहले धुन कंपोज की, फिर उसे अरेंज किया फिर प्रोग्रामिंग, मिक्सिंग, वीडियो डायरेक्शन, प्रोडक्शन , एडिटिंग , स्पेशल इफेक्ट्स और फिर ग्राफिक्स भी स्वयं किया।

- मुझे पहले भी वीडियोज में दर्शकों ने काफी सारे डिपार्टमेंट्स संभालते हुए देखा है पर इस बार जो इस वीडियो की सबसे अनूठी बात है वो यह कि इस वीडियो का फिल्मांकन किसी कैमरामैन के बिना हुआ है। मैंने खुद ही खुद को शूट किया है, अभिनय करते वक्त खुद को ना देख पाना क्‍योंकि सबसे बड़ी चुनौती है इसलिए मैंने कैमरा के सामने होकर भी खुद को देख पाने के तरीके निकाले और तब इसका फिल्मांकन हुआ।

- इस तरह का प्रोफेशनल फिल्मांकन सेल्फी वीडियो बनाने जैसा नहीं, बिना कैमरा मैन लेंस वाले कैमरा को ऑपरेट करना, उनका फोकस , एक्सपोजर और बिना क्रू कैमरा के मूवमेंट्स निर्धारित करना दुष्कर था पर उसे मैं निभा पाया ।

- स्पेशल इफेक्ट्स कर पाने के लिए बहुत अध्ययन, ट्रेनिंग और कई प्रयोग करने की आवश्यकता पड़ी , घर का एक हिस्सा दिनों तक सेट बना रहा,दीवारें फर्श ढकने पड़े , मैं सोता भी वही था जहां चारों तरफ तार, स्क्रीन्स और लाइट्स भरी हुई थी।

- स्क्रीन्स की लाइटिंग करना , अपनी पोजिशंस और मूवमेंट को एडिटिंग को ध्यान में रखते हुए संयोजित करना ,स्पेशल इफेक्ट्स के लिए अपने शरीर पर पहनी एक्सेसरीज को इस्तेमाल करना, कैमरा के फोकस और मूवमेंट को नियंत्रित रखना और शूट के पहले और बाद की सारी तैयारियां करके सारे डिपार्टमेंट्स को शॉट के वक्त समन्वित करना बहुत चुनौतीपूर्ण पर मजेदार था ।

- इतने वर्षों में प्रेस से जुड़े कुछ लोगों से जुड़ाव महसूस करता हूं और कई बार वे मेरी शूट्स कवर करने की इच्छा ज़ाहिर करते हैं , अब बताइये उन्हें मैं ऐसा करने के लिए कैसे आमंत्रित करूं , जहां एक अभिनेता अकेला एक लोकेशन पे नाच रहा है , एक्टिंग कर रहा है , सेट खुद बना रहा है और फिर एक्शन और कट भी खुद ही कर रहा है ,उन्हें वो शूट लगेगी ही नहीं , क्योंकि कभी कभी तो जो भी हो रहा होता है वो बच्चों का खेल लग रहा होता है , क्‍योंकि एडिटिंग में मैं उसका क्या करूंगा यह सिर्फ मेरे दिमाग में होता है।

- एक और बड़ा सवाल जो सब मुझसे अक्सर पूछते हैं कि जब इतने सालों से मैं निरंतर एक अभिनेता के तौर पे काम कर रहा हूं तो मुझे क्या जरूरत महसूस हुई कि मैं पर्दे के पीछे के सारे डिपार्टमेंट्स में भी खुद को ट्रेन करूं।

- कुछ का इशारा इस तरफ भी होता है कि शायद मुझे खुद को सब क्रेडिट्स देने का शौक है , ये सच नहीं है, ना ही इतना आसान हो सकता है , और ना ही हर शॉट के बाद अपनी वैनिटी वैन में जाकर आराम करने से ज़्यादा सुखद जहां 100 और लोग आपको बेस्ट दिखाने के लिए मेहनत करते हैं । मैं वो जिंदगी भी जीता रहा हूं और उसे एन्जॉय भी किया है।पर एक वजह से सालों से में लैपटॉप पर सैकंडों tutorials और लिंक्स लेके, machines लेके शूट पे जाता रहा हूं , खाली वक्त में पढ़ता रहा हूं आजतक सीख रहा हूं । आज भी हर शूट पे मेरी वैनिटी में तार बिखरे रहते हैं और नोट्स बनाते बनाते कितने ही रजिस्टर्स भर गए जो मुझे मेरे साइंस ग्रेजुएशन के दिन याद दिलाते हैं,और पूरी यूनिट इसी असमंजस में रहती थी कि ये करता क्या रहता है।

- एक मात्र वजह जो ये सब सीखने का कारण बनी वो यह थी कि हालांकि मैं बचपन से अभिनेता ही बनना चाहता था पर इस लाइन से जुड़े ग्लैमर , लाइफस्टाइल , पार्टीज या चकाचौंध मुझे सिर्फ मेरा काम कर पाने से ज़्यादा आनंद नहीं देती।

- मुझे वो सब आकर्षित नहीं करता , मुझे सादा जीवन सुख देता है पर साथ ही मैं दुनिया की इस सबसे क्रिएटिव लाइन में अपना काम जारी रखना चाहता हूं । मैं चाहता था कि मैं मुंबई के अलावा भी अपने होमटाउन में, अपने परिवार के साथ रह पाऊं ,किसी टापू पर जी पाऊं ,किसी गांव में रह सकूं पर अपना फिल्म मेकिंग का काम जारी रख सकूं। जरूरी नहीं होगा कि हर जगह मेरी सहायता करने को इतने सारे डिपार्टमेंट्स के एक्सपर्ट हों , सबको बुक करके एक यूनिट की तरह सबका इंतजाम करके ले जाना एक ऑप्शन है उसका मतलब फिर उस सारे काम को प्रोफेशनल सेटअप में फिट करना होगा ,जिसमें फिर वक्त , जगह , बजट लोगों को उनकी पसंद का ही कुछ बना के बेच पाने की मजबूरी होगी और मौलिकता फिर घर छोड़ के आनी पड़ेगी , जिससे फिर अपनी पसंद की जगह में अपनी पसंद की जिन्दगी जी पाने की इच्छा से समझौता करना होगा। हो सकता है वक्त के साथ कोई उपाय मिल जाए , पर अभी खुद सब सीखना ही एक ऑप्शन है।

- ये विचार मुझे सालों पहले आ गया था और मुझे ये भी समझ आ गया था कि सब डिपार्टमेंट्स का काम सीखने का मतलब है, काम आने वाली उनकी सारी मशीनों और सिस्टम सीखना। ये समझ आ गया कि गाने का आज के दौर में बिना अरेंजमेंट , प्रोग्रामिंग ,मिक्सिंग ,मास्टरिंग के बिना कोई अर्थ नहीं और अभिनय , बिना डायरेक्शन , प्रोडक्शन , एडिटिंग , और स्पेशल इफेक्ट्स किसी काम का नहीं , हर डिपार्टमेंट के अलग अलग operating systems , hardwares , softwares और plugins सीखना और फिर उनमें अनुभवी बनना ,जो की मुझे भी सोचने में अव्यवहारिक लगता था , इसलिए ये बात किसी से शेयर नहीं की पर आज में ये सब कर पा रहा हूं ।

सब कुछ दीवानगी सा था पर इसी की बदौलत मैं इतने वर्षों प्रोफेशनली काम करने के बाद , आज उसी कुर्सी पर बैठ कर फिर अपने वीडियो को फाइनल टच देता हूं जिसपर बैठ कर पढाई करता था और सपने देखता था कि कभी अभिनेता बनूंगा। आज काम कर पाने के लिए किसी शहर से बंधे रहना मजबूरी नहीं , मैं आज किसी भी उस टापू पे रह के फिल्म बना सकता हूं जहां बिजली हो।

- मैंने फेसबुक पर जयपुर के फिल्म मेकिंग के इच्छुक दोस्तों के लिए एक पेज बना कर उन्हें आमंत्रित किया है, अगर शराब पीने वालों के, ताश खेलने वालों के, स्नूकर, कैरम, लिटरेचर और पर्वतारोहियों के क्लब हो सकते हैं तो फिल्म बनाने के इच्छुक लोगों के क्यों नहीं शायद इसलिए नहीं कि मजेदार सिनेमा बना पाने के सुख से ज़्यादा आज भी 'फिल्म' शब्द लोगों के नामी और अमीर बनने के सपने को ज़्यादा हवा देता है और इतनी मेहनत शायद सबके शौक के दायरे में नहीं आ सकती, पर फिर भी मुझे उम्मीद है कि मैं जयपुर में कुछ ऐसे लोगों को ढूंढ पाऊंगा।

मेरे इस वीडियो को ' DD's tune of happiness ' नाम से यू ट्यूब पर देखा जा सकता है। इसमें मैंने अभिनय और सिंथेसाइजर बजाने के अलावा डायरेक्शन , प्रोडक्शन , एडिटिंग , स्पेशल इफेक्ट्स , ग्राफिक्स , म्यूजिक कम्पोजिंग , अरेंजमेंट , प्रोग्रामिंग और मिक्सिंग भी की है। शिल्पा शिंदे के साथ बनाए पिछले वीडियो 'दिल तू है दीवाना ' की श्रंखला में ये मेरा दूसरा वीडियो होगा।

आगे की स्लाइड्स में देखिए और फोटोज.....