--Advertisement--

एक साथ उठी परिवार के आठ लोगों की अर्थी, आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे पर हादसे में हुई थी मौत

अलवर जिले में बानसूर तहसील के गांव रतनपुरा बालावास में एक ही परिवार के आठ सदस्यों की अर्थियां उठी तो कोहराम मच गया।

Danik Bhaskar | Jul 12, 2018, 04:22 PM IST

- आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे हाइवे पर बोलेरो कंटेनर की भिडंत में हुई थी मौत
- अलवर से बोलेरो सवार परिवार यूपी के सीतापुर में नैमिषारण्य में दर्शन करने जा रहे थे


बानसूर(अलवर)। जिले में बानसूर तहसील के गांव रतनपुरा बालावास में एक ही परिवार के आठ सदस्यों की अर्थियां उठी तो कोहराम मच गया। हर आंख में आंसू निकल पड़े। रिश्तेदार परिजन अर्थियों से लिपटकर बिलख पड़े। बुधवार तड़के 3:57 बजे उत्तरप्रदेश के आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे पर तेज रफ्तार बोलेरो गाड़ी सड़क पर खड़े कंटेनर में जा घुसी थी।

- क्षतिग्रस्त बोलेरो में सवार परिवार मन्नत पूरी होने पर उत्तरप्रदेश के सीतापुर जिले में नैमिषारण्य में दर्शन करने जा रहा था। हादसे में घायल दो बच्चों समेत बोलेरो का ड्राइवर गंभीर घायल हाे गया था। उन्हें यूपी के कानपुर मेडिकल कॉलेज रैफर किया गया था। जहां उनका उपचार चल रहा है। हादसे के वक्त बोलेरो में 11 लोग सवार थे।

- हादसे के वक्त ये सभी यात्री गाड़ी में फंसे थे। जिन्हें खिड़की तोड़कर निकाला गया। घटना के बाद कंटेनर चालक बोलेरो को टक्कर मारकर भाग निकला था। जिसे हाइवे पेट्रोलिंग गश्ती दल ने करीब एक किलोमीटर आगे पकड़ लिया। ये परिवार खेतीबाड़ी करता था।


आठ अर्थियां उठने पर मचा काेहराम, गांव में घरों के नहीं जले चूल्हे
- बुधवार रात को पोस्टमार्टम के बाद शव यूपी से अलवर स्थित गांव पहुंचे। तब गांव में कोहराम मच गया। गुरुवार को घर की दहलीज से एक साथ आठ अर्थियां उठी तो चीख पुकार मच गई। परिजन रिश्तेदार शवों से लिपटकर रो पड़े। इस दौरान हजारों की संख्या में ग्रामीण इकट्‌ठा रहे। इस दौरान स्थानीय विधायक और अन्य जनप्रतिनिधि भी मौजूद रहे।

- वहीं, जयपुर ग्रामीण से सांसद और केंद्रीय मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौड़ ने इस दु:खद घटना पर खेद जताते हुए कहा कि हादसे का पता चलते ही उन्होंने यूपी के पुलिस अौर प्रशासनिक अधिकारियों से बातचीत कर तत्काल घायलों को राहत पहुंचाने के निर्देश दिए थे।

इन लोगों की हुई हादसे में मौत
-जानकारी के अनुसार हादसे में ख्यालीराम पुत्र मोठूराम यादव (80), संतोष पत्नी घासीराम (55), राजू पुत्र घासीराम (32), अनिल पुत्र घासीराम(22) व शालू (6) पुत्री राजू है। इसके अलावा राजू पुत्र रामजीलाल यादव (40), सुनीता पत्नी विक्रम (25) है। ये एक ही परिवार के सदस्य है। इसके अलावा विद्या देवी पत्नी उमराव (62) है। वहीं, हादसे में मृतक राजू यादव का बेटे अंकित (11) व साहिल (5) तथा गाड़ी का ड्राइवर पप्पू पुत्र सुल्तान गंभीर घायल हो गए थे। इन तीनों का कानपुर मेडिकल हॉस्पिटल में उपचार चल रहा है।