--Advertisement--

दो लड़कियों समेत खत्म हो गया परिवार, बचे सिर्फ मां-बाप

दो लड़कियों समेत खत्म हो गया परिवार, बचे सिर्फ मां-बाप

Dainik Bhaskar

Jan 13, 2018, 12:48 PM IST
जयपुर के विद्याधर नगर का मामला जयपुर के विद्याधर नगर का मामला


जयपुर। जयपुर के विद्याधर नगर में शनिवार सुबह एक घर में आग लगने से पांच लोग जिंदा जल गए। हादसे में हंसता खेलता परिवार बिखर गया। मरने वालों में दो लड़कियां, दो लड़के और एक बुजुर्ग है। इनमें एक लड़का बच्चों का कजिन था। मरने वाले सभी बच्चे स्टूडेंट थे और अपना भविष्य संवारने में लगे थे। हादसे में लड़कियों के मां-बाप की जान बच गई क्योंकि वे शहर से बाहर थे। दोनों लड़कियां व बुजुर्ग की जलने से मौत हुई जबकि लड़कों की दम घुटने से मौत हुई। जानिए और इस बारे में ...


- विद्याधरनगर के सेक्टर नौ में आरएससीबी ऑफिस के पास संजीव गर्ग के दो मंजिला मकान में आग लग गई। हादसे के समय मकान में पांच लोग थे। इनमें संजीव गर्ग के पिता महेंद्र गर्ग (80), संजीव की दो बेटियां अपूर्वा (22) व अर्पिता (23), संजीव का बेटा अनिमेश (17) तथा उसका कजिन शौर्य।

ऐसे थे सपने

- अनिमेष 11वीं क्लास में पढ़ता था तथा वह डीपीएस का स्टूडेंट था। अपूर्वा आरएएस की तैयारी कर रही थी और अर्पिता सेंट जेवियर्स से एमबीए कर रही थी। वहीं शौर्य कूकस स्थित एमईटी में पढ़ता था। उसके एग्जाम चल रहे थे, वह एग्जाम देने जयपुर आया था। परिजनों व आस-पास के लोगों के अनुसार गर्ग परिवार के सभी बच्चे पढ़ाई में होशियार थे। अपूर्वा प्रशासनिक क्षेत्र में जाकर लोगों की सेवा करना चाहती थी।

- किसी ने सपने में भी नहीं सोचा था कि परिवार कुछ ही मिनटों में बिखर जाएगा।

आग लगी देख लोगों ने दी सूचना

- सुबह मकान में आग लग गई। मकान को जलता देख आस-पास के लोगों ने फायर बिग्रेड व पुलिस को सूचना दी। थोड़ी देर में एक पीसीआर वैन वहां आई। पुलिस के एक जवान ने रस्सी के सहारे ऊपरी मंजिल से एक लड़के को निकाला। इसके बाद उसने चद्दर में लपेट कर दूसरे लड़के को निकाला।
- इसके बाद फायर बिग्रेड पहुंच गई। फायर ब्रिगेड कर्मी घर में दाखिल हुए तब तक दोनों लड़कियों व बुजुर्ग की मौत हो चुकी थी।

एक लड़के की सांसें चल रही थीं
- पुलिस के जवान ने जब पहले लड़के को निकाला तब उसकी सांसें चल रही थीं। दोनों को अस्पताल ले जाने पर डाक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।
- वहीं दोनों लड़कियों व बुजुर्ग की मौत पहले ही हो चुकी थी।

सिलेंडर फटने से लगी आग ?
- आग लगने का कारण अभी पता नहीं चला है पर माना जा रहा है कि आग सिलेंडर फटने से लगी। लोगों के अनुसार उन्होंने धमाके की आवाज सुनी थी। हालांकि यह जांच में ही स्पष्ट होगा कि आग कैसे लगी।

लोगों में गुस्सा

- लोगों का आरोप है कि सूचना के एक घंटे बाद फायर ब्रिगेड पहुंची। फायर ब्रिगेड का ऑफिस यहां से महज 100 मीटर की दूरी पर है।
- इसके बाद भी उनके पास संसाधन सही नहीं थे। यहां आने के बाद उनकी लैडर नहीं खुली। इसके अलावा आग बुझाने के लिए पाइप भी छोटा था।
- अगर दमकल समय से पहुंच जाती तो लोगों की जिंदगी बचाई जा सकती थी।

संजीव गर्ग व उनकी पत्नी शहर से बाहर थे
- घर के मालिक संजीव गर्ग व उनकी पत्नी आगरा गए हुए थे। हादसे की जानकारी मिलने पर वे जयपुर पहुंचे।

आगे की स्लाइड्स में देखिए और फोटोज
फोटो : निरंजन चौहान

X
जयपुर के विद्याधर नगर का मामलाजयपुर के विद्याधर नगर का मामला
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..