--Advertisement--

प्रदेश की ब्यूरोक्रेसी को पूर्व सीएम की वार्निंग, दबाव में आकर ना लें गलत फैसले

विधानसभा चुनाव से पहले आईएएस अफसरों के किए गए तबादले के 40 घंटे के भीतर पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने निशाना साधा है।

Dainik Bhaskar

May 02, 2018, 07:37 PM IST
Former CM gehlot warnings to state bureaucracy, do not come under pressure, wrong decisions

- सीएस सहित आईएएस 83 आईएएस अफसरों के फेरबदल के 40 घंटे के भीतर अशोक गहलोत ने सरकार पर साधा निशाना


जयपुर। विधानसभा चुनाव से ठीक छह माह पहले मुख्यसचिव सहित बड़े पैमाने पर आईएएस अफसरों के किए गए तबादले के 40 घंटे के भीतर पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने निशाना साधा है। गहलोत ने कहा कि किसी भी अफसर को भाजपा सरकार के दबाव में आकर गलत कार्य करने की जरूरत नहीं है।

फिर नतीजे भुगतने को भी तैयार रहे ब्यूरोक्रेसी

- यदि कोई अफसर गलत कार्य करता है तो वह नतीजे भुगतने के लिए भी तैयार रहे। बाद में, वह यह न कहे कि कांग्रेस सरकार उनका उत्पीड़न कर रही है।

- उन्होंने कहा कि अफसरों को कतई यह भ्रम नहीं होना चाहिए कि प्रदेश में कांग्रेस की सरकार नहीं आ रही है। कांग्रेस की सरकार आ रही है।

- सत्ता में आने के बाद ऐसे कार्यों की जांच कराकर दोषी अफसरों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। वह बुधवार को अपने आवास पर एक प्रेस कांफ्रेंस में बोल रहे थे।

गहलोत ने इन मुद‌दों पर भी साधा बीजेपी सरकार पर निशाना

- गहलोत ने कहा कि भाजपा सत्ता का दुरुपयोग करके हर जिलों में पार्टी कार्यालय के नाम पर जमीन खरीद रही हैं। सत्ता में आने के बाद कांग्रेस की ओर से इसकी भी जांच कराई जाएगी।

- मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे पर निशाना साधते हुए कहा कि वह लगातार हवा में उड़ रही हैं। वह उड़ते उड़ते कहीं ऐसा न हो कि राजनीति के हवा में उड़ जाए। उनकी केंद्र में सीएम की सुनवाई नहीं हो रही है। इससे अच्छा तो रहता की मुख्यमंत्री खुद ही त्याग पत्र दे देती।

बीजेपी ने तबादलों को उद्योग बना दिया, माफिया पनपा

- भाजपा ने प्रदेश में तबादले को एक उद्योग बना दिया है। पहली बार ऐसा हो रहा जब अपने कार्यकर्ताओं से एक फारमेट में आवेदन मंगाए जा रहे हैं। प्रदेश में पहली बार बजरी माफिया पनप रहा है।

- सुप्रीम कोर्ट को सरकार गुमराह कर रही है। तकनीकी आधार पर बजरी के नाम पर लूट चल रही है। खान आवंटन के समय रोके गए सीमेंट ब्लाक को फिर से बहाल कर दिया गया। प्रदेश भर में आपराधिक घटनाओं में बढ़ोत्तरी हुई है। बाघों की मौत हो रही है। ये सरकार हर वर्ग पर लाठी चार्ज करा रही है। इस सरकार को लाठी चार्ज के तौर पर जानी जाएगी।


पार्टी के युवा नेता बड़ी लाइनें खींचें
- पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत कहा कि पार्टी के युवा नेताओं को लंबी लाइन खींचना चाहिए। उन्होंने स्पष्ट किया कि यह लाइन खींचने की बात सचिन पायलट के लिए नहीं बल्कि देशभर के तमाम युवा नेताओं के बारे में दिया था।

बयान के पीछे मकसद क्या है, टीचर और स्टूडेंट का सुनाया किस्सा

- एक टीचर और स्टूडेंट्स की कहानी बताते हुए क्लियर किया कि इस बयान के पीछे उनका मकसद क्या था। एक क्लास में टीचर ने बोर्ड पर लाइन खींच दी। फिर टीचर ने स्टूडेंट्स से बिना इस लाइन को मिटाए छोटी करने का सवाल किया।

- इस पर एक स्टूडेंट ने छोटी लाइन के बराबर दूसरी बड़ी लाइन खींचते हुए उसे बिना मिटाए ही छोटी कर दी। लिहाजा, युवा नेताओं को बड़ी लाइन खींचते हुआ आगे बढ़ना चाहिए, जिससे कि उन्हें सीनियर्स नेताओं के अनुभव का लाभ मिलता रहे। गहलोत ने कहा कि युवा नेताओं के लिए यह अच्छा होगा कि लाइन मिटाए नहीं, उसे बड़ी करें।

X
Former CM gehlot warnings to state bureaucracy, do not come under pressure, wrong decisions
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..