--Advertisement--

एक हजार अगर बत्ती से असम की एक कटवर्क साड़ी तैयार होती है Print Story Local Save जेकेके के साउथ विंग में सिल्क इंडिया सिल्क क्राफ्ट फेयर के जरिए 15 राज्यों के आर्ट एंड क्राफ्ट को एग्जीबिट किया गया है।

एक हजार अगर बत्ती से असम की एक कटवर्क साड़ी तैयार होती है Print Story Local Save जेकेके के साउथ विंग में सिल्क इंडिया सिल्क क्राफ्ट फेयर के जरिए 15 राज्यों के आर्ट एंड क्राफ्ट को एग्जीबिट किया गया है।

Danik Bhaskar | Jan 15, 2018, 06:12 PM IST
जयपुर में चल रहा क्राफ्ट मेला। जयपुर में चल रहा क्राफ्ट मेला।

जयपुर. लैदर बैग हो या जूट बैग,पॉटरी हो या फिर फैब्रिक क्राफ्ट फेयर में जयपुराइट्स के लिए कई फैशन ट्रेंड देखने को मिल रहे है। घर में साज -सज्जा की बात हो या फेस्टिव के लिए फैब्रिक और साड़ियों के रेंज ट्रेडिशनल हैंड क्राफ्ट चीजें लोगों को पसंद आ रही है। जानें क्या रहा खास...

- फेयर में कोलकाता, असम, उड़ीसा, अहमदाबाद, कश्मीर, बरेली, दिल्ली, नागालैंड, आगरा, अलीगढ, खुरजा, टीकमगढ़ से आर्टिजन्स अपनी कलाओं के कई रंगों के क्राफ्ट के जरिए दिखाया है।
- इनमें बनारसी,किताब,कश्मीरी सिल्क जैकेट्स,सिल्क साड़ी,कांजीवरम,लखनऊ का चिकनकारी, कोलकाता के लैदर बैग,सहारणपुर का वुडन फर्नीचर,खुरजा का सेरेमिक आर्ट ,शांति निकेतन के हैंड बैग्स,भागलपुर का सिल्क,झारखंड के कॉटन और सिल्क फैब्रिक शामिल हैं।
- एक हजार अगरबत्ती से बनी असम की कटवर्क साड़ी-फेयर में असम के आर्टिजन ने असम की कई ट्रेडिशन साडियों को एग्जीबिट किया है। जिसमें कटवर्क साड़ी अपने अलग अंदाज के कारण लोगों द्वारा काफी पंसद की जा रही है।
- आर्टिजन टीनू रॉय ने बताया कि आॅफ वाइट कलर में बनने वाली इस साड़ी की खासियत ये है कि इन्हें तैयार करने के लिए 1 हजार अगरबत्तियों को यूज में लिया जाता है।
- एक अगर बत्ती को जला कर साड़ी में एक होल किया जाता है।इसी तरह से एक हजार अगरबत्ती को जला कर पूरी साड़ी में क्राफ्ट किया जाता है। ये साड़ी मुख्य रूप से टस्सर फैब्रिक पर बनाई जाती है।
- ज्यादा तर ये सिंगल कलर पर तैयार किए जाते है और ऑफ वाइट कलर में ही बनाई जाती है। इनकी कीमत 7 से 9 हजार रूपए तक है।