जयपुर

--Advertisement--

जयपुर में साढ़े चार घंटे तक नजरबंद रहे विधायक जिग्नेश मेवाणी, यूं चला नाटकीय घटनाक्रम

जयपुर में साढ़े चार घंटे तक नजरबंद रहे विधायक जिग्नेश मेवाणी, यूं चला नाटकीय घटनाक्रम

Danik Bhaskar

Apr 15, 2018, 03:56 PM IST
पुलिस अधिकारी करते रहे समझाइश पुलिस अधिकारी करते रहे समझाइश

- मेड़ता में सभा में जाने वाले थे जिग्नेश

- जिग्नेश से मिलने पहुंचे एक पूर्व राज्यमंत्री अरेस्ट, स्टैंडिंग वारंट थे जारी

जयपुर। गुजरात के बड़गांव से निर्दलीय विधायक जिग्नेश मेवाणी रविवार को जयपुर पहुंचे। नागौर के मेड़तारोड रवाना होने से पहले जिग्नेश को पुलिस ने एयरपोर्ट के बाहर रोक लिया और करीब साढ़े चार घंटे तक नजरबंद रखा। इस बीच कई बार जिग्नेश और उनके समर्थकों के बीच पुलिस अधिकारियों से बहस होती रही। आखिरकार, दोपहर को जिग्नेश को पाबंद कर एक नोटिस की तामील करवाई। तब पुलिस ने जिग्नेश को रवाना किया।

यूं चला नाटकीय घटनाक्रम:
- नागौर जिले के मेड़तारोड में रविवार को राज्य स्तरीय डा. भीमराव अम्बेडकर जयंती समारोह में हिस्सा लेनेे के लिए जिग्नेश मेवाणी रविवार सुबह करीब 10 बजे जयपुर एयरपोर्ट पहुंचे। जिग्नेश यहां से सड़क मार्ग से मेड़ता जाने वाले थे।

नागौर पुलिस ने एयरपोर्ट पर ही किया पाबंद
- इससे पहले ही कुचामन सिटी के उपाधीक्षक विद्याप्रकाश चौधरी के नेतृत्व में सादा वस्त्रों में पुलिस टीम नागौर से जयपुर एयरपोर्ट पहुंच गई। सीओ विद्याप्रकाश ने एयरपोर्ट से उतरते ही विधायक जिग्नेश को नागौर के कलेक्टर और एसपी के आदेश तामील करवाकर मेड़ता नहीं जाने के लिए पाबंद कर दिया। इसकी सूचना जयपुर कमिश्नरेट के अधिकारियों को भी दी।

डीसीपी पूर्व और अन्य पुलिस अफसर भी पहुंचे
- इसके बाद डीसीपी पूर्व कुंवर राष्ट्रदीप और जवाहर सर्किल थानाप्रभारी राजेश सोनी भी एयरपोर्ट के बाहर पहुंच गए। जहां जिग्नेश और उनके तीन-चार समर्थक इनोवा कार में मौजूद थे। तब पुलिस ने जिग्नेश को वहीं रोक लिया। उन्हें धारा 144 को देखते हुए आगे जाने से रोक दिया और नजरबंद रखा।

मेवाणी से मिलने पहुंचे पूर्व राज्य मंत्री को किया गिरफ्तार
- इसी बीच जिग्नेश के जयपुर आने की सूचना पर पूर्व राज्यमंत्री रहे गोपाल केशावत और अन्य दलित संगठनों के पदाधिकारी उनसे मिलने पहुंच गए।

- समर्थकों को बढ़ने की आशंका से एडिशनल डीसीपी हनुमान सिंह समेत मालवीय नगर और बजाजनगर थाने का पुलिस जाब्ता मौके पर बुला लिया गया। बजाज नगर पुलिस ने मौके पर मौजूद गोपाल केशावत को गिरफ्तार कर लिया।

- डीसीपी पूर्व कुंवर राष्ट्रदीप का कहना था कि केशावत के खिलाफ बजाज नगर थाने में दर्ज आठ साल पुराने मुकदमे में कोर्ट से स्टैंडिंग वारंट जारी था, जिसमें गोपाल केशावत को गिरफ्तार किया है।
- इसके अलावा मौके पर ही जिग्नेश के एक समर्थक को भी हिरासत में लिया जो अपने मोबाइल से जिग्नेश की लाइव भाषण प्रसारित करना चाह रहा था।

साढ़े चार घंटे बाद आदेश दिखाकर किया पाबंद, फिर रवाना किया
- दोपहर करीब दो बजे ट्रांसपोर्ट नगर थानाप्रभारी नरेश मीणा मौके पर जयपुर कमिश्नरेट के अतिरिक्त पुलिस कमिश्नर नितिनदीप बल्लगन के आदेश लेकर पहुंचे। इसमें जिग्नेश को 15 अप्रेल से 30 अप्रेल तक जयपुर में किसी भी तरह की सभा, रैली या भाषण नहीं करने के लिए पाबंद कर दिया गया। आदेशों की तामील करवाने के बाद दोपहर करीब ढ़ाई बजे पुलिस ने जिग्नेश को रवाना किया। इस बीच पुलिस की एक टीम को उनकी निगरानी में रवाना किया।

मेवाणी की पुलिस अफसरों से होती रही बहस
- वहीं, नजरबंद हुए विधायक जिग्नेश मेवाणी की पुलिस अफसरों से बहस होती रही। मेेवाणी का कहना था कि वह भारतीय संविधान और भीमराम अंबेडकर पर बात करने आए थे। फिर भी जयपुर पुलिस ने बिना किसी ऑर्डर के एयरपोर्ट के बाहर काफी देर रोके रखा। इसको कानूनी चैलेंज देने की बात कही।

- मेवाणी ने अपनी गाड़ी में निगरानी के लिए सादा वस्त्रों में एक पुलिसकर्मी के बैठाने का भी विरोध किया। इस पर उसे वापस उतार लिया गया। साथ ही, पहले यह कहते हुए तामील नोटिस पर हस्ताक्षर करने से मना कर दिया कि वह जयपुर में सभा करने नहीं आए। फिर क्यों नोटिस में इसका हवाला दिया गया है।


Click to listen..