जयपुर

--Advertisement--

उधार के आठ लाख लौटाने का दबाव डाला, साथी ने कर डाली कांस्टेबल की हत्या

उधार के आठ लाख लौटाने का दबाव डाला, साथी ने कर डाली कांस्टेबल की हत्या

Danik Bhaskar

Mar 12, 2018, 06:42 PM IST
राजस्थान के कोटपूतली का मामला राजस्थान के कोटपूतली का मामला


कोटपूतली. यहां जिले में परिचित व्यक्ति पर आठ लाख रुपयों की उधारी रकम मांगने का दबाव डालना एक पुलिस कांस्टेबल की हत्या वजह बनी। रुपए लौटाने से बचने के लिए कांस्टेबल के साथी ने ही हत्या की साजिश रची। मामले में कार्रवाई करते हुए जयपुर ग्रामीण जिले की कोटपूतली थाना पुलिस ने आज आरोपी को गिरफ्तार कर लिया। जानें पूरा मामला...


- एसपी जयपुर ग्रामीण रामेश्वर सिंह ने बताया कि गिरफ्तार आरोपी गिर्राज शर्मा है।

- वह जयपुर जिले की प्रागपुरा तहसील में सेठों का मोहल्ला, वार्ड नंबर 2, प्रागपुरा का रहने वाला है। पिछले लंबे अरसे से आरोपी गिर्राज की पुलिस कांस्टेबल ख्यालीराम से दोस्ती थी।

- मृतक कांस्टेबल कोटपूतली थाने की चतुर्भुज पुलिस चौकी पर तैनात था। वह 8 मार्च को सुबह करीब साढ़े 10 बजे पुलिस चौकी से पावटा स्थित बैंक जाने की कहकर निकला था। इसके बाद वापस नहीं लौटा।

- अगले दिन 9 मार्च को कोटपूतली के गांव पवाना अहीर के पास कांस्टेबल ख्यालीराम की लाश सड़क किनारे पर लावारिस हालत में मिली थी। उसकी वर्दी गायब थी और शरीर को र​रस्सियों से बांध रखा था। वारदात के बाद ख्यालीराम के बेटे भुनेश्वर ने हत्या का मुकदमा दर्ज करवाया। जिस पर पुलिस ने पड़ताल शुरु की। तब एएसपी रामस्वरूप शर्मा के निर्देशन में पुलिस ने पड़ताल शुरु की। जिसमें सामने आया कि कांस्टेबल ख्यालीराम को हत्या से पहले अंतिम बार आरोपी गिर्राज शर्मा के साथ देखा गया था। कॉल डिटेल में भी उनके बीच बातचीत होने का खुलासा हुआ।

- पुलिस टीम आरोपी गिर्राज के घर पहुंची तब वह गायब मिला। इससे पुलिस का शक गहरा गया। आखिरकार पुलिस ने आरोपी गिर्राज को धरदबोचा। पहले उसने ख्यालीराम के एक प्राइवेट गाड़ी से कोटपूतली जाना बताया। बाद में, सख्ती से पूछताछ में गिर्राज ने ख्यालीराम की हत्या करना कबूल कर लिया।

- एएसपी रामस्वरूप शर्मा के मुताबिक आरोपी गिर्राज ने बताया कि उसने कांस्टेबल ख्यालीराम से करीब आठ लाख रुपए उधार लिए थे। ख्यालीराम ने रुपए लौटाने के लिए गिर्राज पर काफी दबाव डाला। पहले वह टालमटोल करता रहा।

- आखिरकार रुपए लौटाने से बचने के लिए गिर्राज ने ख्यालीराम की हत्या की साजिश रची और 8 मार्च को उसे फोन कर पावटा बुलाया। फिर बातों में लगाकर लस्सी में नशीली गोलियां मिलाकर पिला दी। बेहोश होने पर ख्यालीराम को गाड़ी की सीट पर बेठाकर इधर उधर घुमाता रहा। देर रात अंधेरा होने पर गिर्राज ने ख्यालीराम की गला घोंटकर हत्या कर दी। ​उसकी वर्दी उतारकर एक नाले में फेंक दी। उसके शरीर को रस्सियों से बांध कर सड़क किनारे फेंक दिया और फिर वहां से चला गया। पुलिस अब आरोपी को रिमांड पर लेकर गहनता से पूछताछ करेगी।

Click to listen..