--Advertisement--

चलती बस की छत पर 5 घंटे तड़पता रहा, खून टपकते हुए नीचे गिरा तो खुला राज

चलती बस की छत पर 5 घंटे तड़पता रहा, खून टपकते हुए नीचे गिरा तो खुला राज

Danik Bhaskar | Dec 22, 2017, 01:50 PM IST
राजस्थान के श्रीगंगानगर के पा राजस्थान के श्रीगंगानगर के पा

घड़साना. राजस्थान के श्रीगंगानगर के पास कस्बे के बस स्टैंड पर गुरुवार दोपहर बाद तीन बजे उस समय हड़कंप मच गया, जब एक निजी बस की छत पर खून से लथपथ लाश मिली। पता चलते ही ड्राइवर-कंडक्टर ने सवारियों की मदद से उसे नीचे उतारकर बस के पीछे जमीन पर लेटा दिया और वहां से फरार हो गए। यह देख मंडी के व्यापारी और बस की सवारियों का वहां हुजूम लग गया लेकिन किसी ने भी उसे अस्पताल ले जाने की जहमत नहीं उठाई। लोगों की सूचना पर मौके पर सीओ अनूपगढ़ सोहनराम थाना प्रभारी विक्रमसिंह चौहान मौके पर पहुंचे। जानें पूरा मामला...


- पुलिस ने बस की छत का मुआयना कर आवश्यक सबूत जुटाए। पुलिस ने आकर उसकी जेब से मोबाइल निकाला। मोबाइल स्विच ऑफ था इसलिए पहले उसे चार्ज किया गया। फिर नंबर डायल कर उसका पता पूछा। सवा घंटे बाद बाद शव को अस्पताल की मोर्चरी में रखवाया।
- शव का पोस्टमार्टम शुक्रवार सुबह किया गया। सूचना पाकर मृतक का बेटा भाई अस्पताल पहुंचे। उन्होंने हत्या की आशंका से इनकार किया है। - पुलिस को आशंका है कि बस की छत पर बैठे इस मृतक के संभवत: किसी पेड़ की डाल से चोट लगी होगी। यह निजी बस सुबह 8:30 बजे मोहनगढ़ के पास सुथार मंडी से रवाना हुई थी जो वाया घड़साना-अनूपगढ़ होते हुए शाम को करीब 7:30 बजे श्रीगंगानगर पहुंचती है।

घर बच्चों के लिए दो थैले मूंगफली लेकर जा रहा था


- मृतक की पहचान 65 जीबी के भंवर राम नायक उम्र 45 वर्ष पुत्र गंगूराम के रुप में हुई है। मृतक सुथार मंडी के पास 80 आरडी में किसी का खेत ठेके-हिस्से पर लेकर काम करता था।
- मृतक के परिजनों ने बताया कि मृतक ने मूंगफली बो रखी थी। मूंगफली निकालकर नई फसल बोने के बाद वह अपने बच्चों के लिए दो थैले भरकर मूंगफली लेकर अपने घर लौट रहा था।
- प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि जब बस यहां पहुंची तो बस की छत से खून टपक रहा था। इसी बीच एक सवारी अपना सामान उतारने छत पर चढ़ी तो उसने बताया कि ऊपर एक व्यक्ति घायल पड़ा है। जब उसे नीचे उतारा तो चालक-परिचालक उसे नीचे छोड़ फरार हो गए। हालांकि दोनों का दावा है कि घायल की मौत हो चुकी थी। लेकिन दोनों ही उसे अस्पताल तक नहीं ले गए।
- इस बीच, सड़क पर पड़े शव को लोगों ने देखा। उसकी फोटो खींच सोशल मीडिया पर डाले। लेकिन किसी ने उसे कपड़े से ढंकना तक सही नहीं समझा।

फोटोज- पवन तिवारी