--Advertisement--

एमयूजे के प्रेसिडेंट प्रो. संदीप संचेती को भाव भीनी विदाई

एमयूजे के प्रेसिडेंट प्रो. संदीप संचेती को भाव भीनी विदाई

Danik Bhaskar | Feb 13, 2018, 06:18 PM IST

जयपुर. मणिपाल विश्वविद्यालय जयपुर के प्रेसिडेंट, प्रो. संदीप संचेती को 13 फरवरी को एक समारोह में उनके पांच वर्ष पूर्ण होने पर भाव भीनी विदाई दी गई। कार्यक्रम का शुभारंभ डॉ.सुधा रॉय ने स्वागत भाषण से किया। इस अवसर पर विश्वविद्यालय के प्रो-प्रेसिडेंट, प्रो. एन. एन. शर्मा, विश्वविद्यालय की रजिस्ट्रार, प्रो. वंदना सुहाग, डीन, फेकल्टी ऑफ आर्ट एंड लॉ, प्रो. मृदुल श्रीवास्तव ने फेलिसिटेशन उद्बोधन दिया। जानें क्या रहा खास...

- कार्यक्रम में प्रो. संदीप संचेती के पांच साल में किए गए कार्यों को अडिय़ो-वीडियो प्रजंटेशन के माध्यम से प्रस्तुत किया गया।
- क्वालिटी एश्योरेंस के निदेशक, प्रो. राजेश सोलंकी ने साइटेशन रीडिंग की। मणिपाल विश्वविद्यालय जयपुर के चेअरपर्सन, प्रो. के. रामनारायण ने प्रेसिडेंट, प्रो. संदीप संचेती को साइटेशन एवं स्मृति चिन्ह भेंट किया।
- कार्यक्रम में प्रेसिडेंट, प्रो. संदीप संचेती ने शेपिंग विजन के संबंध में अपने विचार व्यक्त किए। इसके पश्चात विश्वविद्यालय के चेअरपर्सन, प्रो. के. रामनारायण ने ट्रांजिशनल प्रस्तुत किया।
- विश्वविद्यालय के प्रो-प्रेसिडेंट, प्रो. एन. एन.शर्मा ने एमयूजे के प्रेसिडेंट डेजिग्नेटेड, प्रो. जी. के. प्रभु का स्वागत किया। साथ ही प्रेसिडेंट डेजिग्नेटेड, प्रो. जी. के. प्रभु के जीवनवृत एवं अनुभव पर आधारित वीडियो प्रजंटेशन प्रस्तुत किया गया।
- इस अवसर पर प्रेसिडेंट डेजिग्नेटेड, प्रो. जी. के. प्रभु ने सस्टेंस स्पीच प्रस्तुत की। कार्यक्रम के अंत में प्रो. सुधी राजीव ने सभी को धन्यवाद दिया। कार्यक्रम के बाद प्रेसिडेंट, ऑफिस में हेडिंग-टेकिंग ओवर सेरेमनी का आयोजन किया गया।
- प्रेसिडेंट डेजिग्नेटेड, प्रो. जी. के प्रभु 14 फरवरी से विधिवत रूप से बतौर प्रेसिडेंट, मणिपाल विश्वविद्यालय जयपुर पदभार ग्रहण करेंगे। कार्यक्रम में मणिपाल एज्यूकेशन ग्रुप के प्रेसिडेंट, राजन पादुकोण, मणिपाल एज्यूकेशन ग्रुप के हैड, एचआर, नीतीश मोहंती, विश्वविद्यालय के विभिन्न फेकल्टी के डीन, स्कूल्स के निदेशक, विभागों के विभागाध्यक्ष, फेकल्टी सदस्य मौजूद थे। कार्यक्रम के आरंभ में विश्वविद्यालय की डॉ. प्रस्शती जैन एवं परिधि जैन ने गणवेष वंदना प्रस्तुत की।