--Advertisement--

मैने कभी नहीं सोच कि फिल्मों में डांस करूंगा- जेएलएफ में नवाजुद्दीन सिद्दकी

मैने कभी नहीं सोच कि फिल्मों में डांस करूंगा- जेएलएफ में नवाजुद्दीन सिद्दकी

Dainik Bhaskar

Jan 27, 2018, 01:20 PM IST
जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल में पह जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल में पह

जयपुर. लिटरेचर फेस्टिवल में दूसरे दिन एक्टर नवाजुद्दीन का सेशन सबसे खास रहा। जिन्होंने नंदिता दास के साथ मंटो पर चर्चा की। नवाज के फैंस की भीड़ यहां भी नजर आई। बता दें की नंदिता दास मंटो पर फिल्म बना रही हैं। नवाज इस फिल्म में मंटो का किरदार निभा रहे हैं। जानें क्या बोले नवाज...


- नवाज ने बताया कि मंटो को करने की सबसे बड़ी दिक्कत ये थी कि उन्होंने हमेशा सच लिखा। जो देखा वही लिखा, मैं ऐसा नहीं हूं। मैं बहुत झूठ बोलता हूं, मंटो जैसा मैं नहीं हो सकता।
- उन्होंने बताया कि अप मंटो की शूटिंग खत्म हो चुकी है मैं उस किरदार से अब बाहर निकल चुका हूं, लेकिन मंटो के अंदर जो इगो थी वो अभी भी मेरे अंदर है। जो लोग मेरी कहानी को बर्दाश नहीं कर सकते इसका मतलब ये जमाना ही नाकाबिले बर्दाश्त है।
- इसका मतलब जो लोग मेरी एक्टिंग को पसंद नहीं कर सकते तो आप में ही कोई कमी है।

गांव में नहीं था झूठ का चलन


- नवाज ने बताया कि जब गांव में रहता था तो झूठ का इतना चलन नहीं था जो सामने है वो बोल देते थे। जैसे-जैसा जमाना बदला मैं मुंबई आया तो वहां लोगों को बना-बना कर बोलता सुना। इसके साथ मैं भी पोल्यूटेड होता चला गया।
- मंटो का मेरे बचपन से बहुत जुड़ाव है। जब मैं सच बोलता था। मंटो को भी इसलिए ही महसूस कर पाया जैसे एक बच्चा होता है जो देखता है समझ में आता है वही बोलता है।
मैने कभी नहीं सोचा कि फिल्मों में डांस करूंगा
- नवाज ने कहा कि कमर्शियल फिल्मों में मेरा भी एक डांस नंबर रखने लगे हैं। हालांकि मुझे डांस नहीं आता। मैने कभी नहीं सोचा था कि फिल्मों में डांस करूंगा। न करना चाहता, लेकिन कमर्शियल फिल्मों में पैसा ज्यादा है।
- आगे नवाज ने बताया उनका पसंदीदा ऐतिहासिक किरदार मुगले आजम

2012 से मंटो के बारे में सोचना शुरू किया- नंदिता दास


- नंदिता दास ने कहा कि नवाज एक ऐसे एक्टर हैं जो रमन राघव भी कर सकते हैं और गैंग ऑफ वासीपुर भी और मांझी भी। इसके आगे नंदिता ने बताया कि नवाज और मंटो काफी मिलते जुलते करेक्टर हैं। दोनों का गुस्सा काफी तेज है।
- वहीं दोनों का सेंस ऑफ ह्यूमर भी है और एरोगेंट भी हैं। नवाज ने बड़ी खूबसूरती से इस रोल को अदा किया है।
- नंदिता ने आगे बताया कि डायरेक्टर एक रोल से इतनी जल्दी बाहर नहीं आ सकते। 2012 में मैने इस फिल्म के बारे में सोचना शुरू किया था। जिसके बाद की जर्नी बहुत लंबी रही।
- नंदिता ने बताया कि नवाज ने मंटो करने के लिए एक भी पैसा नहीं लिया है।

X
जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल में पहजयपुर लिटरेचर फेस्टिवल में पह
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..