--Advertisement--

बीज बेचने के बहाने 30 लाख की ऑनलाइन ठगी, नाइजीरियन समेत चार गिरफ्तार

बीज बेचने के बहाने 30 लाख की ऑनलाइन ठगी, नाइजीरियन समेत चार गिरफ्तार

Danik Bhaskar | Apr 01, 2018, 07:41 PM IST

-जनवरी में फोन पर संपर्क कर बातों में फंसाया

-गिरोह में नागालैंड की एक युवती भी शामिल

-आदर्श नगर थाना पुलिस और क्राइम ब्रांच की संयुक्त कार्रवाई

जयपुर. बीज बेचने के बहाने एक व्यक्ति‍ से ऑनलाइन करीब 30 लाख रुपए की ठगी करने वाली गैंग का पर्दाफाश हुआ है। मामले में आदर्श नगर थाना पुलिस ने गिरोह में शामिल एक नाइजीरियन और दो महिलाओं समेत चार आरोपियों को रविवार को गिरफ्तार कर लिया।


-पुलिस कमिश्नर संजय अग्रवाल ने बताया कि गिरफ्तार आरोपी चिनेदु नवांकु (35) साल निवासी लागोस, नाइजीरिया हाल ग्रेटर नोएडा, उत्तरप्रदेश में रहता है। इसके अलावा ग्रेटर नोएडा निवासी राहुल कुमार उर्फ राकेश यादव (24), आरोपी गीता देवी उर्फ नेहा उम्र (36), आरोपी टोली आओमी (28) निवासी नागालैंड हाल ग्रेटर नोएडा, यूपी है।


- पुलिस कमिश्नर ने बताया कि 15 फरवरी को जनता कॉलोनी, आदर्श नगर निवासी प्रभाकर मंगल ने मुकदमा दर्ज करवाया था। जिसमें बताया कि उनका जेसिका अल्बर्ट नाम की एक महिला ने संपर्क हुआ था।

- बातचीत में जेसिका ने 22 जनवरी प्रभाकर मंगल को राकेश शर्मा के मोबाइल नंबर देते हुए कहा कि राकेश अपने पार्टनर के साथ बीज बेचने का व्यवसाय करता है। उसकी मोनिका एंटरप्राइजेज के नाम से फर्म भी है।


युवती ने बातचीत में यूं फंसाया:


- प्रभाकर के मुताबिक जेसिका ने यह भी बताया कि उनकी कंपनी भी बीज खरीदना चाहती थी। इसके लिए वह भी राकेश की फर्म से बीज के सैंपल लेकर गई थी। ये सैंपल उनकी कंपनी ने स्वीकार कर लिए।


- इस तरह, जेसिका की बातों में आकर प्रभाकर मंगल ने भी राकेश शर्मा से बातचीत की। तब उसने खुद का आफिस नोएडा व आगरा में होना बताया। साथ ही, कहा की उनकी फर्म बीज खरीदने वाले की बताई जगह पर होम डिलीवरी कर देते है।


सैंपल भेजने के बहाने सवा 2 लाख, फिर 30 लाख की ठगी


- इसके बाद बीज के सैंपल भेजने के बहाने आरोपी राकेश ने प्रभाकर से अपने बैंक अकाउंट में सवा 2 लाख रुपए जमा करवा लिए। इसके बाद मुकेश शर्मा नाम का एक व्यक्ति प्रभाकर के पास आया और बीज के सैंपल देकर चला गया।


- ये सैंपल पसंद आने पर प्रभाकर मंगल ने गिरोह की बातों में आकर मोनिका एंटरप्राइजेज के बैंक अकाउंट में करीब 30 लाख रुपए जमा करवा दिए। इसके बाद काफी दिनों तक बीज उसके घर डिलीवर नहीं हुए।

- तब प्रभाकर ने कंपनी के प्रतिनिधियों से संपर्क करने की कोशिश की तो हो नहीं सका। ठगी का पता चलने पर प्रभाकर मंगल ने मुकदमा दर्ज करवाया।


मोबाइल नंबर व बैंक खाते की डिटेल से पकड़े गए

- एडिशनल पुलिस कमिश्नर प्रफुल्ल कुमार व डीसीपी क्राइम विकास पाठक के निर्देशन में क्राइम ब्रांच की टीम और आदर्श नगर थानाप्रभारी बृजभूषण अग्रवाल के नेतृत्व में एक टीम गठित की।

- सायबर सेल टीम की मदद से पुलिस ने गिरोह के मोबाइल नंबरों और उन बैंक अकाउंट के बारे में जानकारी जुटाई। जिनमें रुपए जमा करवाए गए थे।

- तब पुलिस को गिरोह के ग्रेटर नोएडा में होने का पता चला। इसके बाद पुलिस ने वहां दबिश देकर खाताधारक नाइजीरियन और अन्य आरोपियों को धरदबोचा।