--Advertisement--

डेढ़ साल में 10वीं बार टला एयरपोर्ट का निजीकरण, कंपनियां नहीं ले रहीं रुचि

डेढ़ साल में 10वीं बार टला एयरपोर्ट का निजीकरण, कंपनियां नहीं ले रहीं रुचि

Danik Bhaskar | Mar 07, 2018, 05:22 PM IST
जयपुर एयरपोर्ट। जयपुर एयरपोर्ट।

जयपुर। जयपुर एयरपोर्ट के ऑपरेशन एंड मेंटिनेंस (ओएंडएम) का निजीकरण एक बार फिर अप्रैल तक टल गया है। पिछले डेढ़ साल से एयरपोर्ट का निजीकरण किया जाना प्रस्तावित है, लेकिन निजी कंपनियों के कमजोर रुझान के चलते एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया को निजीकरण की निविदा की तिथि बार-बार बढ़ानी पड़ रही है। जानिए और इस बारे में ...

- एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया (एएआई) ने फिर से टेंडर को एक महीने के लिए बढ़ा दिया है। एयरपोर्ट अथॉरिटी पिछले डेढ़ साल में 10 बार बिड सब्मिट करने की तारीख बढ़ा चुकी है। निजी फर्मों को अब नए सिरे से 10 अप्रैल तक बिड सब्मिट करने का समय दिया गया है।

- 10 अप्रैल तक बिड मिलने के बाद 12 अप्रैल को तकनीकी निविदा खोला जाना संभव है। दरअसल एयरपोर्ट के टर्मिनल भवन और पार्किंग एरिया का ऑपरेशन एंड मेंटीनेंस का कार्य निजी कंपनियों को दिया जाना है, लेकिन एयरपोर्ट अथॉरिटी से जुड़े सूत्रों का कहना है कि निजी कंपनियों के रुचि नहीं दिखाने के चलते ही लगातार तारीख बढ़ानी पड़ रही है।

- गौरतलब है कि एयरपोर्ट के ओएंडएम के लिए दिल्ली एयरपोर्ट का संचालन करने वाली कंपनी जीएमआर, मुंबई एयरपोर्ट का संचालन करने वाली कंपनी जीवीके सहित बंगाल एट्रोपोलिस, डीएए इंटरनेशनल सहित अन्य कंपनियां बिडिंग प्रक्रिया में शामिल हुई हैं।