--Advertisement--

आज भी हो सकती है बारिश

आज भी हो सकती है बारिश

Danik Bhaskar | Mar 05, 2018, 10:32 AM IST
बहरोड़ में रविवार को बरसात के स बहरोड़ में रविवार को बरसात के स


जयपुर। पूर्वी राजस्थान में रविवार को हुई बारिश के बाद सोमवार को भी हल्की बारिश की आशंका है। रविवार को ओले गिरने से खड़ी फसल बर्बाद हो गई थी। सीकर जिले में किसानों को भारी नुकसान हुआ है। मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने फसल खराबे पर सीकर कलेक्टर से रिपोर्ट मांगी है। उल्लेखनीय है कि ओलों से सीकर जिले में 60 से 90 प्रतिशत तक फसल खराब होने की आशंका है। जानिए और इस बारे में ....


- मौसम विभाग के अनुसार जयपुर में आशिक बादल छाए रहेंगे। बिजली गरजने के साथ हल्की बारिश हो सकती है। वहीं अधिकतम और न्यूनतम तापमान 30 तथा 16 डिग्री सेल्सियस रह सकता है।

राज्य में हो सकती है हल्की बारिश
- मौसम विभाग के अनुसार राज्य में कुछ स्थानों पर बिजली गरजने के साथ हल्की बारिश हो सकती है।
- हालांकि रविवार दोपहर बाद हुई बारिश के बाद मौसम खुल गया था।

फसलों में 60 से 90 फीसदी तक के नुकसान का अंदेशा
सीकर के श्रीमाधोपुर के जोरावरनगर में ओलों की चाद बिछ गई थी। ओलों की चादर बिछने से यहां बर्फबारी जैसा नजारा दिख रहा था।
- बहरोड़ (अलवर) उपखंड क्षेत्र में दोपहर बाद मौसम ने करवट बदली। तेज गर्जना के साथ रिमझिम बारिश का दौर शुरू हुआ। वही बहरोड़ विधानसभा क्षेत्र के विभिन्न गांवों में ओलावृष्टि होने से फसलों को खासा नुकसान हुआ है। रुक-रुककर कभी तेज तो कभी रिमझिम बारिश का दौर जारी रहा। खराब मौसम को देखते हुए किसानों की चिंता बढ़ी गई। बहरोड़ में रबी फसल की कटाई का दौर शुरू हो चुका है। ऐसे में बारिश होने से कटी हुई फसलों एवं खेतों में तैयार लहरा रही फसल को नुकसान होगा।

सीएम ने दिए गिरदावरी के निर्देश

- मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने ओलावृष्टि प्रभावित जिलों में फसलों को हुए नुकसान पर चिंता जताई। उन्होंने आपदा प्रबंधन एवं राहत विभाग के अधिकारियों एवं प्रभावित जिलों के कलेक्टर्स को नुकसान का आकलन कर जल्द रिपोर्ट भिजवाने को कहा है।

- उल्लेखनीय है कि राजस्थान में सवा माह बाद बारिश : 23 जनवरी को जयपुर में 2.4 व पिलानी में 2.2 मिमी. बारिश हुई थी।

इसलिए हुई थी बारिश

- मौसम विभाग के अनुसार चक्रवाती हवाओं के कारण मौसम पलटा। पिछले चार-पांच दिन से बढ़ रहे तापमान से वाष्पीकरण हुआ और पश्चिमी विक्षोभ के कारण आई हवाओं से मिलकर चक्रवाती हवाओं ने रुख बदला।