--Advertisement--

जयपुर

जयपुर

Danik Bhaskar | Jan 06, 2018, 01:48 PM IST

जयपुर। राजस्थानी रैपिंग सिंगर बावले छोरे संकल्प-संभव का राजस्थानी फोक मेशप ऑडियो की आज लांचिंग होगी। राजस्थानी फोक सोंग के सलेक्टेड 7 फोक सोंग के मुखड़े को एक ही धुन बनाकर मिक्स किया है। अपना रेपिंग स्टाइल डालकर राजस्थानी फोक मेशप गीत तैयार किया है। जिस में म्यूजिक कपिल जागिड़ जयपुर ने दिया। इस राजस्थानी फोक मेशप बनाने का उद्देश्य आज के यूथ ओर आने वाली पीढ़ी को राजस्थानी संगीत संस्कृति की तरफ आकर्षित करना है।

- राजस्थानी फोक सोंग नए अंदाज में पेश करके बावले छोरे राजस्थानी संगीत संस्कृति को आगे बढ़ाने का कार्य कर रहे हैं। इस से पहले बावले छोरों के आपणो राजस्थान रंगीलो राजस्थान बाट ब्याव की राजस्थानी सोंग सुपर हिट हो चुके हैं। इन गीतों को करोड़ों लोगों ने देखा है।

-पॉली राजस्थान के जुड़ाव भाई संकल्प-संभव को राजस्थान सहित देश भर में बावले छोरे के नाम से जाना जाता है। बावले छोरे का टाइटल फिल्म जगत की हस्ती कर्ण जोहर ने दो वर्ष पूर्व संकल्प-संभव की अदा और शैली से प्रभावित होकर दिया।

-इसके बाद से ही संकल्प-संभव ने ठान लिया कि वे अपनी मायड़ भाषा मारवाड़ी (राजस्थानी)को एक मुकाम पर लेकर जाएंगे। वे राजस्थानी में रैपिंग सोंग लिख कर खुद ही गाने लगे।

-देखते ही देखते बावले छोरों के रैपिंग सोंग ने राजस्थान के लोगों को ही नहीं देश-विदेश के लोगों को भी बावला कर दिया। इन के पांच राजस्थानी सोंग को मात्र एक वर्ष में एक करोड़ ग्यारह लाख लोग देख चुके हैं।

-बावले छोरों को राजस्थानी शैली में रैपिंग सोंग के लिए राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे एवं पाली जिला कलेक्टर नागौर जिला कलेक्टर भी सम्मानित कर चुके हैं। राजस्थान सरकार के मंत्री राजकुमार रिणवा बावले छोरों की राजस्थानी शैली से इस कद्र प्रभावित हुए कि उन्होंने भारत माता की जय सोंग में बावले छोरों के साथ रोल भी किया। हाल ही में जी टीवी पर एक रियल्टी शो इंडियाज बेस्ट जुड़वां में तीन महीने तक चले इस शो में देश भर से सलेक्शन होकर आई 12 जुड़वां जोडिय़ों को पछाड़ते हुए बावले छोरे इस शो के उपविजेता बने।

- वे पिछले दो वर्षों में राजस्थान सरकार के टूरिज्म विभाग द्वारा आयोजित मारवाड़ फेस्टिवल रणकपुर महोत्सव में दो बार भाग लेकर देश-विदेश के सैलानियों को अपनी कला से मुग्ध कर चुके हैं।