Hindi News »Rajasthan News »Jaipur News» Residents Doctors Remain On Strike In Jaipur

रेजिडेंट डॉक्टरों के हड़ताल का दूसरा दिन, चिकित्सा व्यवस्था ‘बेपटरी’

रेजिडेंट डॉक्टरों के हड़ताल का दूसरा दिन, चिकित्सा व्यवस्था ‘बेपटरी’

Surendra Swami | Last Modified - Dec 19, 2017, 09:54 AM IST

जयपुर।सेवारत डॉक्टरों की हड़ताल के बाद एसएमएस मेडिकल कॉलेज से जुड़े अस्पतालों के रेजीडेंट डॉक्टर्स ने मंगलवार को दूसरे दिन भी कार्य बहिष्कार किया जिसके चलते चिकित्सा व्यवस्था ठप रही। अस्पतालों के आउटडोर से इमरजेन्सी तक अफरा-तफरी मची रही। मरीज ‘धरती के भगवान’ को तलाशते रहे। एसएमएस अस्पताल में रेजिडेंट डॉक्टरों के कार्य बहिष्कार पर जाने से दूरदराज से आउटडोर में आने वाले मरीज डॉक्टर को दिखाने के लिए घंटों इंतजार करते नजर आए। जानिए और इस बारे में ....

- भर्ती मरीजों को वार्ड में न तो दवा मिली और जांच की पर्ची के लिए भी परिजन इधर-उधर भटकते रहे। इमरजेन्सी में आने वाले घायल व आईसीयू में भर्ती गंभीर मरीज भगवान भरोसे रहे। यही हालात जेके लोन, इंस्टीट्यूट ऑफ रेस्पीरेटरी डिजीज, गणगौरी बाजार, जनाना चांदपोल व सांगानेरी गेट स्थित महिला चिकित्सालय के रहे। हालांकि एसएमएस अस्पताल प्रशासन का दावा है कि असिस्टेंट प्रोफेसर को तैनात करने पर मरीजों को किसी तरह की दिक्कत का सामना नहीं करना पड़ा।

भूमिगत हुए रेजिडेंट्स

- इधर, रेस्मा के तहत सेवारत चिकित्सकों को गिरफ्तारी से एसएमएस मेडिकल कॉलेज के रेजीडेंट गिरफ्तारी के डर से भूमिगत हो गए हैं।

आईसीयू , इनडोर व इमरजेन्सी में रेजिडेंट

- मेडिकल कॉलेज से जुड़े अस्पतालों की आईसीयू, इमरजेन्सी व भर्ती मरीजों के साथ 24 घंटे रेजिडेंट ही रहते हैं। दवा, जांच लिखने जैसे काम रेजिडेंट डॉक्टर ही करते हैं। और मरीजों की हालत गंभीर होने पर संबंधित यूनिट के डॉक्टर से फोन पर बातचीत करके इलाज करते हैं।

इधर, जयपुरिया अस्पताल में रेजीडेंट का कार्य बहिष्कार नहीं

- राजस्थान यूनिवर्सिटी ऑफ हैल्थ साइंस से जुड़े जयपुरिया अस्पताल की अधीक्षक डॉ. रेखा सिंह का कहना है कि जयपुरिया अस्पताल में रेजीडेंट डॉक्टरों ने कार्य बहिष्कार नहीं किया है। हमारे यहां मरीजों को दिक्कत नहीं है।

व्यवस्था की है

- आपातकालीन व्यवस्थाओं पर फोकस रखा गया है ताकि मरीजों को किसी तरह की दिक्कत नहीं आएं। - डा. यू. एस. अग्रवाल, प्राचार्य, एसएमएस मेडिकल कॉलेज

रेजीडेंट कार्य बहिष्कार का एसएमएस अस्पताल पर असर
- औसतन रोजाना 10 हजार के ओपीडी के बजाय 8246 मरीज
- 500 के बजाय 307 मरीज भर्ती
- हर दिन 250 ऑपरेशन, लेकिन सोमवार को 103 ऑपरेशन
- एसएमएस में रोजाना होती है 25 से 30 मौतें, लेकिन पिछले 24 घंटे की बात की जाए तो सोमवार देर रात तक 15 से ज्यादा मरीजों ने तोड़ा दम।
- इमरजेन्सी ओपीडी: 56
(उपयुक्त स्थिति सोमवार की है)



India Result 2018: Check BSEB 10th Result, BSEB 12th Result, RBSE 10th Result, RBSE 12th Result, UK Board 10th Result, UK Board 12th Result, JAC 10th Result, JAC 12th Result, CBSE 10th Result, CBSE 12th Result, Maharashtra Board SSC Result and Maharashtra Board HSC Result Online
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Jaipur News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: rejidents ki hdetaal ke dusre din bhi chikitsaa beptri, daaktron ka hotaa raha intjaar
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Jaipur

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×