--Advertisement--

एयर इंडिया ने 50 यात्रियों का लगेज छोड़ भरी उड़ान, यात्रियों ने किया एयरपोर्ट पर हंगामा

एयर इंडिया ने 50 यात्रियों का लगेज छोड़ भरी उड़ान, यात्रियों ने किया एयरपोर्ट पर हंगामा

Dainik Bhaskar

Jan 28, 2018, 05:44 PM IST
डेमाे पिक। डेमाे पिक।

जयपुर। दुबई से जयपुर आने वाले यात्री रविवार को एक बार फिर एयरलाइन की अव्यवस्थाओं का शिकार बन गए। ऐसा पिछले चार दिन में दूसरी बार हुआ। दरअसल दो दिन पहले ही एयर इंडिया की जयपुर-दुबई की फ्लाइट ने 40 यात्रियों का लगेज बिना लिए उड़ान भरी थी। तो रविवार को फिर एयर इंडिया ने अपनी दुबई की फ्लाइट में बिना यात्रियों को सूचित किए, उनका लगेज दुबई ही छोड़ दिया। जानिए और इस बारे में ....

- एयर इंडिया की यह फ्लाइट दुबई से देर रात 11:10 बजे जयपुर के लिए रवाना हुई थी। फ्लाइट जब जयपुर पहुंची तो कई यात्रियों को उनका लगेज नहीं मिला। यात्रियों ने पूछताछ की तो पता चला कि लगभग 50 यात्रियों का लगेज दुबई में ही छोड़़ दिया गया है। यात्रियों ने हंगामा किया तो एयरलाइन कर्मचारियों ने कहा कि फ्लाइट में क्षमता से अधिक वजन होने पर इंजन गर्म हो जाता है। इस कारण लगेज को दुबई में छोड दिया गया है। अब तो कल ही आपको लगेज मिल सकेगा।

- जयपुर निवासी मनीषा सोनी ने बताया कि वे शनिवार को दुबई से जयपुर के लिए एयर इंडिया की फ्लाइट से रवाना हुई थीं, जयपुर पहुंचीं, तो पता चला कि उनका लगेज दुबई छोड़ दिया गया है, और अब वह सोमवार की फ्लाइट से जयपुर लाया जाएगा जबकि उन्हें सोमवार को मुंबई के लिए निकलना था।

- मनीषा का आरोप है कि एयरलाइन कंपनी ने उन्हें इस बारे में पहले सूचना नहीं दी थी। ऐसे में उन्हें बिना वजह जयपुर रुकना पड़ा। इससे उनकी आगे की यात्रा भी प्रभावित हो गई।

- इसी तरह अन्य कई यात्रियों का भी कहना था कि उन्हें अमृतसर, जम्मू या अन्य शहर जाना था, एयरलाइन की इस अव्यवस्था से उनका आगे का शेड्यूल गड़बड़ा गया है। इसे लेकर यात्रियों ने जयपुर एयरपोर्ट पर हंगामा भी किया।

एक्सेस फेयर, कॉर्डिनेशन की कमी और पैनल्टी है परेशानी की प्रमुख वजह

- इस परेशानी की तीन प्रमुख वजह हैं। पहली तो यह कि एयरलाइंस कंपनियां एक्सेस लगेज फेयर के लालच में यात्रियों का सामान बुक तो कर लेती हैं, लेकिन जब विमान में क्षमता से अधिक सामान हो जाता है तो स्थानीय एयरपोर्ट पर मौजूद ग्राउंड हैंडलिंग एजेंसी (जीएचए) यात्रियों के सामान को रेंडमली निकाल देती है क्योंकि सामान को बैली (विमान के नीचे बना हुआ बॉक्स, जहां लगेज रखा जाता है) तक पहुंचाने में काफी समय लग जाता है। इसलिए एयरलाइंस स्टाफ को इस बात का पता भी देरी से लगता है। एयरलाइंस द्वारा इस बारे में यात्रियों को उड़ान से पहले इसलिए नहीं बताया जाता है क्योंकि एयरलाइंस अगर स्थानीय एयरपोर्ट द्वारा दिए गए स्लॉट में अपना विमान नहीं उड़ाती हैं, तो इसके लिए उन्हें भारी-भरकम पैनल्टी चुकानी पड़ती है। जिससे बचने के लिए वह फ्लाइट का संचालन निर्धारित स्लॉट में ही करती हैं, और बाद में गंतव्य पर पहुंचकर यात्रियों को इसकी सूचना दी जाती है। हालांकि इसके बाद यात्रियों के छूटे हुए सामान को उनके घर तक पहुंचाने की जिम्मेदारी भी संबंधित एयरलाइंस की ही होती है।

X
डेमाे पिक।डेमाे पिक।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..