--Advertisement--

एबिलिटी रन में दौड़े पेरा प्लेयर्स , बोले- इंसान अगर ठान ले तो लक्ष्य पाना असंभव नहीं

एबिलिटी रन में दौड़े पेरा प्लेयर्स , बोले- इंसान अगर ठान ले तो लक्ष्य पाना असंभव नहीं

Danik Bhaskar | Dec 04, 2017, 05:49 PM IST

जयपुर. इंसान मानसिक रूप से विकलांग हो सकता है लेकिन शरीर से नहीं , हर एक मनुष्य हर काम को करने में सक्षम है इसी सोच के साथ बहुत से पैरा प्लेयर्स ने जयपुर रनर्स 5 ,10 और 21 किलोमीटर की अलग अलग केटेगरी में दौड़ लगाई।


- दौड़ की शुरुआत गोल्फ क्लब सेंट्रल पार्क से हुई। एबिलिटी रन का फ्लैग ऑफ संस्कृति युवा संस्था के अध्यक्ष और जयपुर मैराथन के आयोजक पंडित सुरेश मिश्रा, पेरा एशियन गेम्स में रजत पदक विजेता शताब्दी अवस्थी , यस बैंक के रीजनल हेड गौरव शरण ने किया।
- इस अवसर पर वर्ष 2012 में ‘कौन बनेगा करोड़पति’ शो में 50 लाख जीतकर सुर्खियों में आई सवाईमाधोपुर निवासी पेरा एशियन गेम्स में रजत पदक विजेता शताब्दी ने कहा की - ‘जिंदगी तो एक बार मिलती है, हंसकर जियो या रोकर।

- हादसे में अपाहिज होकर भी मैं आज तक नहीं रोई, रोना कोई सॉल्यूशन नहीं ।’ और आपको आगे बढ़ने के लिए मानसिक रूप से मजबूत होकर अपने आप को आगे बढ़ाना है हर आदमी में एबिलिटी है आगे बढ़ने की, बस जरूरत है तो लगातार दौड़ते रहने की , रुकना नहीं है , चलते रहना है।

- इंसान अगर ठान ले तो लक्ष्य पाना असंभव नहीं है, मेरे एक हाथ नहीं है लेकिन में किसी भी सूरत में किसी भी सामान्य एथलीट से कम नहीं हूं। यह कहना था महाराणा प्रताप अवार्ड विजेता पेरा शिक्षक महेश नेहरा का जिन्होंने पेरा प्लेयर्स के साथ 21 किलोमीटर की दौड़ पूरी की , रन के बाद सभी फिनिशर को मेडल्स दिए गए।