--Advertisement--

यौन उत्पीड़न के आरोप में कृषि विभाग के अतिरिक्त निदेशक शीतल प्रसाद बर्खास्त

यौन उत्पीड़न के आरोप में कृषि विभाग के अतिरिक्त निदेशक शीतल प्रसाद बर्खास्त

Danik Bhaskar | Mar 14, 2018, 02:23 PM IST

जयपुर. रिटायरमेंट से ठीक 18 दिन पहले प्रदेश सरकार ने कृषि विभाग के अतिरिक्त निदेशक शीतल प्रसाद शर्मा को बर्खास्त कर दिया है। कार्मिक विभाग की ओर से आदेश जारी कर दिया गया है। विभाग की महिलाओं ने ही यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया था। जानें पूरा मामला...

- विभाग की ओर से यौन उत्पीड़न के आरोपों की जांच करने के लिए गठित की गई कमेटी की रिपोर्ट में तथ्य सामने आने के बाद पूरे मामले को कार्मिक विभाग के पास भेज दिया गया था।

- कार्मिक विभाग ने पूरे तथ्यों की पड़ताल करने के बाद मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे से मंजूरी मिलने के सोमवार को ही शीतल प्रसाद शर्मा को नौकरी से बर्खास्त करने का आदेश जारी कर दिया था।
- दैनिक भास्कर ने 30 नवंबर 2017 के अंक में पेज नंबर एक पर यौन उत्पीड़न की जांच रिपोर्ट का खुलासा किया था।

- यह सामने आया था कि तीन महिलाओं ने मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के कार्यालय में यौन उत्पीड़न की शिकायत की थी।

विभागीय कमेटी बनाई गई

- मुख्यमंत्री कार्यालय के आदेश के बाद यौन उत्पीड़न के आरोपों की जांच के लिए विभाग की ओर विभागीय कमेटी का गठन किया गया था।

- इस कमेटी ने पूरे मामलों की जांच की, जिसमें यौन उत्पीड़न और प्रताड़ना के मामले की पुष्टि हुई।

- कृषि विभाग ने इस जांच रिपोर्ट को कार्रवाई करने के लिए कार्मिक विभाग के पास भेज दिया था।

- सचिव कार्मिक भास्कर ए सावंत ने बताया कि अतिरिक्त कृषि निदेशक शीतल प्रसाद को सेवा से पृथक करने का आदेश जारी कर दिया गया है।

- दूसरी ओर कृषि विभाग के निदेशक विकास सीताराम भाले ने बताया कि कार्मिक विभाग ने यौन उत्पीड़न के मामले में अतिरिक्त कृषि निदेशक शीतल प्रसाद को बर्खास्त का आदेश को अतिरिक्त निदेशक शीतल प्रसाद तुरंत प्रभाव से तामिल करा दिया गया है। उन्हें अब पेंशन या अन्य कोई लाभ नहीं मिलेगा।