--Advertisement--

जमींदार पार्टी छोड़ सोना देवी कांग्रेस में शामिल, बोलीं- बीजेपी ने यूज एंड थ्रो की नीति के तहत मेरा इस्तेमाल किया

विधायक सोना देवी पार्टी छोड़कर कांग्रेस से जुड़ गई हैं। इसकी जानकारी उन्होंने खुद एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान दी।

Danik Bhaskar | May 18, 2018, 01:08 PM IST
सचिन पायलट के साथ पीसी में सोना देवी। सचिन पायलट के साथ पीसी में सोना देवी।

जयपुर. जमींदार पार्टी से विधायक सोना देवी पार्टी छोड़कर कांग्रेस से जुड़ गई हैं। इसकी जानकारी उन्होंने खुद एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान दी। इस प्रेस कॉन्फ्रेंस में उनके साथ पीसीसी चीफ सचिन पायलट भी मौजूद रहे। इस दौरान सचिन पायलट ने कहा कि सोना बावरी के कांग्रेस में शामिल होने से गंगानगर में कांग्रेस को मजबूती मिलेगी।

- सोना देवी ने कहा कि बीजेपी ने हमेशा यूज एंड थ्रो की नीति के तहत मेरा इस्तेमाल किया है मैंने राज्यसभा और राष्ट्रपति के चुनाव में बीजेपी का साथ दिया, लेकिन भाजपा ने कभी भी मेरा साथ नहीं दिया।

- 2 अप्रैल को जो घटनाएं हुई उस से आहत होकर मैंने आज कांग्रेस की सदस्यता ग्रहण की है। भाजपा ने दलितों पर अत्याचार करने का काम किया है दलितों को केवल वोट बैंक ही समझा है इसलिए आज मैं कांग्रेस में बिना शर्त शामिल हो रही हूं। कांग्रेस की ओर से जो मुझे जिम्मेदारी दी जाएगी उसे पूरी तरह निर्वहन करने की कोशिश करूंगी।

- इस मौके पर कांग्रेस के प्रदेश प्रदेश अध्यक्ष सचिन पायलट ने सोना देवी के पार्टी में शामिल होने पर कहां की सोना देवी के कांग्रेस में शामिल होने से पार्टी बीकानेर हनुमानगढ़ और श्री गंगानगर में मजबूत होगी।

कौन है सोना देवी


- बता दें की सोना देवी श्रीगंगानगर के रायसिंहनगर से विधायक हैं। उन्होंने 2013 विधानसभा चुनाव में अपने सबसे करीबी बीजेपी उम्मीदवार को करीब 20 हजार वोटों से हराया था।

- सोना देवी ने 2013 चुनाम में अपनी कुल संपत्ति 61 हजार रुपए दिखाई थी। वे उस वक्त राजस्थान की सबसे गरीब विधायक रही थीं।

- वहीं जमींदार पार्टी से ही श्रीगंगानगर विधायक कामिनी जिंदल उस समय राजस्थान की सबसे अमीर विधायकों में से एक रहीं। सोना देवी और कामिनी जिंदल को कई मौकों पर एक साथ देखा जाता रहा है।

कई बार रही विवादों में


- वे एक दिन अपने साथ अपने तीन माह के बच्चे को भी सदन ले गईं थीं। सुरक्षा गार्डों ने इसके लिए नियमों का हवाला दिया कि बच्चे के साथ सदन में प्रवेश नहीं किया जा सकता। बाद में बावरी ने मीडिया के सामने इस पर विरोध जताया।
बावरी ने कहा कि एक मां होने के नाते वह बच्चे को साथ ले जा रही थी। लेकिन उसे प्रवेश से रोक दिया गया।
- इसके बाद सोना देवी तब चर्चाओं में आईं जब न्यायिक हिरासत में एक लड़के की मौत के बाद वे प्रदर्शन करने पहुंची। इस टकराव के दौरान वे गिरकर बेहोश हो गईं थीं।