Hindi News »Rajasthan News »Jaipur News» Sunil Kumar Left Job To Start Flower Business

3 लाख की नौकरी छोड़ खड़ा किया 30 लाख का बिजनेस, ऐसा था आइडिया

3 लाख की नौकरी छोड़ खड़ा किया 30 लाख का बिजनेस, ऐसा था आइडिया

Anant Aeron | Last Modified - Dec 23, 2017, 04:01 PM IST

सीकर. यहां के जयपुर रोड रामूकाबास निवासी 23 वर्षीय सुनील कुमार ने बीटेक तक की पढ़ाई की। जब प्राइवेट कंपनी में नौकरी मिली तो तीन लाख रुपए सालाना पैकेज छोड़कर तीन साल पहले बागवानी खेती अपना ली। आज बागवानी से ही सुनील सालाना 30 लाख रुपए कमा रहा है। खास बात यह है कि सुनील ने महज दो बीघा के फार्म पर ही प्रतिदिन सात लोगों को आठ हजार रुपए मासिक वेतन में स्थाई रोजगार भी दे रखा है।


- दरअसल, पढ़ाई के बाद सुनील ने मुंबई की एक निजी फर्म को नौकरी के लिए आवेदन भेजा। तीन लाख रुपए सालाना पैकेज पर सुनील का चयन भी हो गया। लेकिन नौकरी का पैकेज सुनील की पढ़ाई के कर्ज से काफी कम था। इसलिए पिता के कंधों का भार कम करने के लिए सुनील ने तीन लाख रुपए का पैकेज छोड़ दिया।

- नर्सरी की शुरुआत स्थानीय स्तर पर कई पौधों की प्रजातियों से की। आज काउंटर पर कई देशी-विदेशी प्रजातियों के पौधे देखने का मिल सकते है। - नर्सरी में करीब 500 से ज्यादा वैरायटी में सजावटी, छायादार, फलदार आदि प्रजातियों में 20 लाख से ज्यादा पौधे है। नर्सरी भी तीन अलग-अलग शाखाओं में संचालित की जाने लगी है।

हरियाली बढ़ाने में भी पीछे नहीं रहा


-बीटेक युवा इंजीनियर सुनील हरियाली बढ़ाने में भी पीछे नहीं रहा है। उसने सीकर के स्मृति वन की शोभा बढ़ाने के लिए विदेशी प्रजातियों के 500 से ज्यादा पौधे लगाए।
- लोगों को पौधरोपण के प्रति प्रेरित करना भी खास मकसद रहा है। इसके लिए किसी भी सार्वजनिक जगह पर पौधरोपण करने वाले व्यक्ति को कम कीमत पर पौधे मुहैया करवाए जाते है।



दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Jaipur News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: 3 laakh ki Naokari chhode khada kiyaa 30 laakh ka bijnes, aisaa thaa aaidiyaa
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Jaipur

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×