--Advertisement--

राजस्थान के तीन जवानों का अंतिम संस्कार, एक को 15 दिन तो दूसरे को 3 साल के बेटे ने दी मुखाग्नि

जम्मू में बुधवार पाकिस्तान की ओर से हुई गोलाबारी में बीएसएफ में तैनात राजस्थान के तीन जवान शहीद हो गए थे।

Dainik Bhaskar

Jun 15, 2018, 03:20 AM IST
हंसराज को उनके 15 दिन के बेटे ने मुखाग्नि दी। हंसराज को उनके 15 दिन के बेटे ने मुखाग्नि दी।

जयपुर.जम्मू में बुधवार पाकिस्तान की ओर से हुई गोलाबारी में बीएसएफ में तैनात राजस्थान के तीन जवान शहीद हो गए थे। गुरुवार सुबह इनका अंतिम संस्कार किया गया। शहीद जवानों में जितेंद्र सिंह जयपुर, एएसआई रामनिवास सीकर और कांस्टेबल हंसराज गुर्जर अलवर के रहने वाले थे। जितेंद्र को उनके 3 साल के बेटे ने और हंसराज को उनके 15 दिन के बेटे ने मुखाग्नि दी।

- जितेंद्र सिंह का अंतिम संस्कार उनके पैतृक गांव सलेमपुर में किया गया। यहां उनके तीन साल के बेटे ने उन्हें मुखाग्नि दी। शहीद के अंतिम दर्शन के लिए बड़ी संख्या में लोग यहां पहुंचे। इस दौरान लोगों में पाकिस्तान को लेकर गुस्सा भी दिखा।
- जितेंद्र सिंह का परिवार जयपुर में मानसरोवर स्थित रजत पथ पर रह रहा है। जितेंद्र सिंह जम्मू के सांबा सेक्टर में तैनात थे। उनकी पत्नी व बेटा जम्मू में ही साथ रह रहे थे।
- जितेंद्र सिंह के माता-पिता उनसे मिलने जम्मू गए थे। वहां जितेंद्र ने अपने माता-पिता को वैष्णो देवी के दर्शन करवाए। इसके बाद मंगलवार शाम को जितेंद्र ने उन्हें जयपुर के लिए ट्रेन में बैठाकर रवाना किया। दो दिन की छुट्टी के बाद जितेंद्र सिंह मंगलवार को फिर से ड्यूटी पर चले गए थे।

रामनिवास अपने गांव के पहले शहीद

- सीकर के रामनिवास का अंतिम संस्कार भी उनके पैतृक गांव में किया गया। 45 वर्षीय रामनिवास सीकर जिले के बानावाली ढाणी तन डाबला निवासी थे। उनकी बीएसएफ में 26 साल की सेवा हो गई थी। वे डाबला के पहले शहीद हैं।
- उनके बेटे सुनील यादव पंजाब के भठिंडा में एनडीआरएफ में तैनात हैं। परिवार में बुजुर्ग मां के अलावा पत्नी भगवती देवी, पुत्र सुनील व बेटी सुमन हैं। रामनिवास पांच भाइयों में तीसरे नंबर के थे। रामनिवास अप्रैल में ही गांव आकर गए थे। उन्होंने रात को ही घर पर पत्नी से बात की थी, तब वहां के हालात सामान्य बताए थे।

- शहीद के परिवार के लोगों ने बताया कि रामनिवास दो साल पहले सेवानिवृत्त होना चाहते थे। तब घरेलू कार्य अधिक था, लेकिन बाद में परिवार से चर्चा कर मन बदल दिया।

हंसराज को 15 दिन के बच्चे ने दी मुखाग्नि

- अलवर के बानसूर के मुगलपुर निवासी 28 वर्षीय हंसराज को उनके 15 दिन के बेटे ने मुखाग्नि दी। हंसराज पहली बार उसे देखने 15 जून को घर आने वाले थे। इसी दिन कुआं पूजन कार्यक्रम था। साधारण किसान परिवार में जन्मे हंसराज तीन भाइयों में सबसे छोटे थे। दो भाई खेती करते हैं।
- हंसराज वर्ष 2011 में बीएसएफ में कांस्टेबल के पद पर भर्ती हुए थे और रामगढ़ सेक्टर में तैनात थे।

- हंसराज दिसंबर में छुट्टी आए थे और जनवरी 2018 में वापस ड्यूटी पर लौट गए। इसके बाद मई में उसकी पत्नी ने एक बेटे को जन्म दिया। परिवार वालों ने बताया तो पहली बार देखने आऊंगा तो साथ ही कुआं पूजना करा लेंगे। परिवार में इसे लेकर खुशी थी, क्योंकि करीब एक साल पहले भी पत्नी ने बेटे को जन्म दिया, लेकिन डेढ़ माह बाद ही वह चल बसा था।

सीएम ने जताई संवेदना

- सीएम वसुंधरा राजे ने जम्मू-कश्मीर के सांबा सेक्टर में अंतरराष्ट्रीय सीमा पर हुई गोलीबारी में सीमा सुरक्षा बल के चार जवानों के शहीद होने पर संवेदना व्यक्त की है। सीएम ने संवेदना संदेश में कहा कि जयपुर के असिस्टेंट कमांडेंट जितेंद्र सिंह, सीकर जिले के एएसआई रामनिवास, अलवर के कांस्टेबल हंसराज गुर्जर व यूपी के एसआई रजनीश कुमार ने देश की सीमा की रक्षा करते हुए प्राण त्याग कर देश और प्रदेश का सिर गर्व से ऊंचा किया है। सीएम राजे ने ईश्वर से शहीदों की आत्मा की शांति तथा शोक संतप्त परिजनों को यह आघात सहन करने की शक्ति प्रदान करने के लिए प्रार्थना की है।

Three martyr jitendra, hansraj and ramniwas of rajasthan last right
सीकर : शहीद रामनिवास की पत्नी बोली : अब बेटी काे भी सेना में भेजूंगी सीकर : शहीद रामनिवास की पत्नी बोली : अब बेटी काे भी सेना में भेजूंगी

नीमकाथाना (सीकर). जम्मू के सांबा सेक्टर में सीमा पर पाकिस्तानी रेंजरों की जबरदस्त गोलाबारी में शहीद हुए एएसआई रामनिवास की गुरुवार को उनके पैतृक गांव सीकर जिले के नीमकाथाना इलाके में बानावाली ढाणी तन डाबला में राजकीय सम्मान से अंत्येष्टि की गई। शहीद के बेटे सुनील ने मुखाग्नि दी। जवानों ने गार्ड ऑफ ऑनर दिया। सुबह साढ़े 10 बजे शहीद की पार्थिव देह पैतृक गांव पहुंची। लोगों ने पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारे भी लगाए। परिवार के लोगों ने अंतिम दर्शन किए। शहीद रामनिवास यादव के साथी आशुतोष ने बताया कि वे हिम्मत नहीं हारने वाले जवान थे। पाक रेंजरों की गोली से एक साथी घायल हो गया था। वीरांगना भगवती देवी ने कहा कि पति की शहादत पर गर्व है। उन्हें सम्मान से विदा करना चाहती हूं, लेकिन हमारी सेना को भी पाक की करतूत का बदला लेना चाहिए। बेटा सेना में है। अब बेटी को भी भेजूंगी।

भरतपुर : शहीद जितेंद्र सिंह की याद में लोगों ने नहीं जलाए चूल्हे भरतपुर : शहीद जितेंद्र सिंह की याद में लोगों ने नहीं जलाए चूल्हे

- जिले के गांव सलेमपुर कलां गांव के शहीद जीतेन्द्र सिंह को गुरुवार को सुबह हजारों लोगांे ने नम आंखों से विदाई दी गई। शव यात्रा में हजारों लोग मौजूद थे, जो जितेन्द्र सिंह अमर रहे और पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारे लगा रहे थे। जितेन्द्र सिंह के शहीद होने की खबर क्षेत्र में बुधवार शाम को आग की तरह फैल गई, लोगों ने घरों में चूल्हे भी नहीं जलाए।

अलवर : बिन एक-दूसरे को देखे पिता-पुत्र जुदा, 20 दिन के बेटे ने दी शहीद पिता हंसराज गुर्जर को मुखाग्नि अलवर : बिन एक-दूसरे को देखे पिता-पुत्र जुदा, 20 दिन के बेटे ने दी शहीद पिता हंसराज गुर्जर को मुखाग्नि

 शहीद हंसराज गुर्जर की गुरुवार को उनके पैतृक गांव अलवर के मुगलपुर गांव में राजकीय सम्मान के साथ अंत्येष्टि की गई। 20 दिन के बेटे ने उन्हें मुखाग्नि दी। जम्मू कश्मीर के सांभा सेक्टर में पाक की ओर से फायरिंग में शहीद  62वीं बटालियन बीएसएफ की डेल्टा कम्पनी के कांस्टेबल हंसराज को अंतिम विदाई देने हजारों लोग पहुंचे। शहीद का शव देख एक माह पहले ही मां बनी शहीद की वीरांगना की तबीयत बिगड़ गई। बुजुर्ग माता-पिता भी बिलख उठे।

X
हंसराज को उनके 15 दिन के बेटे ने मुखाग्नि दी।हंसराज को उनके 15 दिन के बेटे ने मुखाग्नि दी।
Three martyr jitendra, hansraj and ramniwas of rajasthan last right
सीकर : शहीद रामनिवास की पत्नी बोली : अब बेटी काे भी सेना में भेजूंगीसीकर : शहीद रामनिवास की पत्नी बोली : अब बेटी काे भी सेना में भेजूंगी
भरतपुर : शहीद जितेंद्र सिंह की याद में लोगों ने नहीं जलाए चूल्हेभरतपुर : शहीद जितेंद्र सिंह की याद में लोगों ने नहीं जलाए चूल्हे
अलवर : बिन एक-दूसरे को देखे पिता-पुत्र जुदा, 20 दिन के बेटे ने दी शहीद पिता हंसराज गुर्जर को मुखाग्निअलवर : बिन एक-दूसरे को देखे पिता-पुत्र जुदा, 20 दिन के बेटे ने दी शहीद पिता हंसराज गुर्जर को मुखाग्नि
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..