--Advertisement--

बागीदौरा में महिलाऔ ने छेड़ा शराब मुक्ति अभियान, हाथों हाथ बंद करवाये अड्डे

बागीदौरा में महिलाऔ ने छेड़ा शराब मुक्ति अभियान, हाथों हाथ बंद करवाये अड्डे

Danik Bhaskar | Mar 04, 2018, 04:59 PM IST


बागीदौरा। उपखण्ड मुख्यालय बागीदौरा में रविवार को महिलाओं ने अवैध शराब के अड्डों को बंद करने के लिए अभियान छेड़ा। जिसके तहत महिलाएं डूंगरी बस्ती में एकत्रित हई और वहां से रैली के रूप में बागीदौरा चौकी पहुंची। अवैध शराब के अड्डों को तुरंत प्रभाव से बन्द करने को लेकर चौकी प्रभारी बाबूलाल डामोर को ज्ञापन दिया। इसके बाद महिलाएं रैली के रूप में ही आस पास चल रहे अवैध अड्डों पर गईं और उन्हें बन्द करवाया। जानिए और इस बारे में ...


- महिलाओं ने भास्कर को अपनी पीड़ा बताते हुए कहा कि किस तरह से शराब के सेवन से उनके परिवार बर्बाद हो गए। क्षेत्र की 40 प्रतिशत महिलाए विधवा हो गई हैं। उन्हें आर्थिक और शारीरिक क्षति हुई है। महिलाओं ने कहा कि हम हमारे बच्चों की जिन्दगी खराब नहीं करना चाहतीं और उन्हें इस कुरीति से दूर करना चाहती हैं। इसलिए हम क्षेत्र में जितने भी अवैध शराब की दुकानें है उन्हें बन्द करवाएंगे चाहे इसके लिए हमें किसी भी हद तक जाना पड़े। साथ ही उन्होंने प्रशासन को भी कड़े शब्दों में कहा कि अगर इलाके में अवैध शराब के अड्डे बंद नहीं हुए तो वह खाना-पीना छोड़ कर सड़कों पर उतर आएंगी।


बागीदौरा उपखण्ड मुख्यालय में 150 से उपर अवैध शराब के अड्डे
- उपखण्ड मुख्यालय बागीदौरा और कलिंजरा थाना में लगभग 150 अवैध शराब के अड्डे हैं। हर पंचायत में करीब पांच से छह अड्डे देखने को मिल जाएंगे। पुलिस भी इन्हें बंद कराने की कोशिश नहीं करती है।

वर्जन
- कचरी निनामा निवासी का पति डूंगर निनामा की मृत्यु मार्च 2016 में हो गई। कचरी ने बताया कि उसका पति रोज शराब पीता था। इससे वह बिमार हो गया। एक लाख रुपए की दवाई उधार लाकर इलाज करवाया, लेकिन 2016 में उसकी मृत्यु हो गई। कचरी के एक बच्ची और चार लड़के हैं जो ईंटों के भट्टे और बाजार में काम करके अपनी मां और खुद का पालन पोषण करते हैं।

फोटो : विकेश पाटीदार