--Advertisement--

सेवारत डॉक्टर्स और सरकार के बीच चल रही वार्ता

सेवारत डॉक्टर्स और सरकार के बीच चल रही वार्ता

Danik Bhaskar | Dec 27, 2017, 06:40 PM IST

जयपुर. शहर में पिछले 12 दिनों से चल रही सेवारत चिकित्सकों की हड़ताल खत्म होगी या नहीं इस पर सस्पेंस बना हुआ है। दिन से ही अशोक परनामी और रेवारत चिकित्सकों के बीच वार्ता जारी है। बता दें कि हाईकोर्ट के आदेश और सरकार द्वारा 24 घंटे दिए जाने के बावजूद मंगलवार को केवल 54 डॉक्टर ही काम पर लौटे थी। बाकी सेवारत और रेजीडेंट्स डॉक्टर काम पर नहीं लौटे। इस कारण प्रदेश में इलाज के अभाव में पांच और लोगों की मौत हो गई थी। जानें क्या खास...


- डॉक्टरों से वार्ता के लिए सरकार की तरफ से भाजपा प्रदेश अध्यक्ष अशोक परनामी, परिवहन मंत्री युनूस खान, सहकारिता मंत्री अजयसिंह किलक को मध्यस्थता के लिए चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री कालीचरण सराफ के साथ लगाया गया है।
- बुधवार सुबह परनामी सुबह 11 बजे से वार्ता कर रहे है।

इनको जबरन पकड़ ड्यूटी ज्वाइन करवाई


- डूंगरपुर में मंगलवार सुबह कोतवाली पुलिस जिला अस्पताल उपनियंत्रक डॉ. राजेश सरैया के घर पहुंची। उसके बाद शिशु रोग विशेषज्ञ डॉ. नीलेश गोठी के घर पर दबिश दी। डॉ. गोठी घर पर बच्चों का इलाज कर रहे थे। दोनों को जबरन अस्पताल लाकर ड्यूटी ज्वाइन करवा दी।
हड़ताल के कारण प्रदेशभर में चिकित्सा व्यवस्था चरमरा गई है। इलाज नहीं मिलने की वजह से डूंगरपुर में 7 दिन के बच्चे की मौत हो गई। वहीं बूंदी के सरकारी अस्पताल में भी उपचार के अभाव में एक युवक ने दम तोड़ दिया। सरपंच चतुर्भुज एरवाल ने बताया कि सिंगाड़ी निवासी फूलचंद (34) पुत्र कजोड़मल माली की मंगलवार सुबह अचानक तबीयत िबगड़ी। परिजन उसे लेकर बूंदी अस्पताल पहुंचे लेकिन चिकित्सक नहीं मिले। इसके बाद उसे कोटा निजी अस्पताल लाया गया जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया।