Hindi News »Rajasthan News »Jaipur News» Flights To Take Off From Terminal 1 At Jaipur Airport

टर्मिनल-1 पर फिर से होगा फ्लाइट्स का संचालन, जल्दी ही सभी इंटरनेशनल फ्लाइट्स भरेंगी उड़ान

टर्मिनल-1 पर फिर से होगा फ्लाइट्स का संचालन, जल्दी ही सभी इंटरनेशनल फ्लाइट्स भरेंगी उड़ान

Shivang Chaturvedi | Last Modified - Nov 05, 2017, 06:01 PM IST

जयपुर। यात्रियों की बढ़ती परेशानी को देखते हुए, अब जयपुर एयरपोर्ट प्रशासन एयरपोर्ट के पुराने टर्मिनल को फिर से शुरू करने की तैयारी में जुट गया है। चार साल बाद एयरपोर्ट के टर्मिनल-1 को फिर से सुचारू किया जाएगा। जयपुर इंटरनेशनल एयरपोर्ट के नए टर्मिनल यानी टर्मिनल-2 की शुरुआत जनवरी 2010 में हुई थी। इस दौरान यहां से घरेलू उड़ानों की शुरुआत की गई थी।जानिए और इस बारे में ...
- इंटरनेशनल उड़ानों को टर्मिनल-1 यानी पुराने सांगानेर एयरपोर्ट से संचालित किया जा रहा था, लेकिन जुलाई 2013 में जयपुर एयरपोर्ट प्रशासन ने एक नया निर्णय लिया था। इसके तहत इंटरनेशनल उड़ानों को भी जयपुर एयरपोर्ट के नए टर्मिनल पर शिफ्ट कर दिया गया।
- 16 जुलाई 2013 से इंटरनेशनल उड़ानों को टर्मिनल-1 के बजाय टर्मिनल-2 पर शिफ्ट कर दिया गया। बड़ी बात यह है कि जब यह निर्णय लिया गया था। उस समय जयपुर एयरपोर्ट से 24 फ्लाइट संचालित हो रही थीं। कारगो के लिए टर्मिनल-1 को आरक्षित करने के लिहाज से इंटरनेशनल फ्लाइट्स को टर्मिनल-2 पर किया गया था, लेकिन आज जयपुर एयरपोर्ट से रोजाना 53 डोमेस्टिक और 8 इंटरनेशनल फ्लाइट्स संचालित हो रही हैं। यानी फिलहाल ढाई गुने से भी ज्यादा फ्लाइट बढ़ चुकी हैं। अधिक यात्रीभार होने से यात्रियों को परेशानी हो रही है।
- डिपार्चर एरिया में सुबह के समय रोजाना यात्रियों की कतारें लग जाती हैं। वहीं अराइवल एरिया में यात्रियों के लगेज गुम होने की समस्या आम बात बन गई है।
इसलिए पड़ रही है जरूरत
- जुलाई 2013 में चल रही थी जयपुर से 24 फ्लाइट
- यानी हर रोज करीब 4 हजार यात्रियों का था आवागमन
- औसतन 6 हजार यात्रियों की क्षमता है टर्मिनल-2 की
- वर्तमान में रोज 61 फ्लाइट का हो रहा आवागमन
- यानी हर रोज 11 हजार से ज्यादा यात्रियों का आवागमन
- क्षमता से करीब दो गुना भार ढो रहा टर्मिनल-2
- वेटिंग लाउंज में सुबह-शाम बैठने को नहीं मिलती सीट
- कई बार ऐन टाइम पर पहुंचे लोगों की छूट जाती है फ्लाइट
जयपुर एयरपोर्ट पर 29 अक्टूबर से विंटर शेड्यूल लागू हो गया है। शेड्यूल में तीन नई फ्लाइट्स शुरू हुई हैं। ऐसे में यात्रियों की संख्या और बढ़ जाएगी जिससे एयरपोर्ट के टर्मिनल-2 पर यात्रियों के लिए परेशानी और बढ़ जाएगी। यात्रियों को सहूलियत देने के लिए अब एयरपोर्ट प्रशासन ने एयरलाइंस के साथ मीटिंग कर उनकी राय मांगी है। एयरलाइंस से पूछा गया है कि क्या वे एयरपोर्ट के टर्मिनल-1 यानी पुराने टर्मिनल से फ्लाइट शुरू करने के लिए राजी हैं। इस बारे में एयरपोर्ट प्रशासन ने दिल्ली स्थित मुख्यालय से भी मार्गदर्शन मांगा है।
- टर्मिनल-1 से अभी केवल हज की उड़ानों का ही संचालन होता है। इसके अलावा यहां से कारगो बुकिंग का काम होता है। टर्मिनल-1 पर फ्लाइट शिफ्ट करने पर यहां कारगो के कामकाज को एक हिस्से में शिफ्ट करना होगा।
इंटरनेशनल फ्लाइट्स का होगा संचालन
- टर्मिनल-1 से फिलहाल सभी इंटरनेशनल फ्लाइट्स के संचालन करने पर मंथन चल रहा है। इसे लेकर पिछले दिनों ही एयरपोर्ट प्रशासन और एयरलाइंस कंपनियों की बैठक भी हुई थी। जिसमें इस बात पर चर्चा की गई थी।
- अभी जयपुर एयरपोर्ट से आठ इंटरनेशनल फ्लाइट्स का संचालन किया जा रहा है। इनमें स्पाइस जेट और एयर इंडिया की दुबई, ओमान एयर की मस्कट, एतहाद एयरवेज की अबूधाबी, एयर अरबिया की शारजाह, एयर एशिया और थाई स्माइल की बैंकॉक और स्कूट एयरलाइन की सिंगापुर फ्लाइट शामिल हैं। संभव है कि जल्दी ही सभी इंटरनेशनल फ्लाइट्स का संचालन एक बार फिर से टर्मिनल-1 से ही किया जा सकता है।
एयरलाइंस कंपनियों के लिए बढ़ेगी परेशानी
- टर्मिनल-1 पर नहीं हैं विमानों के पार्किंग वे
- पहले थे पार्किंग वे, लेकिन अब खत्म किए गए
- यानी टर्मिनल-2 पर ही खड़े होंगे विमान
- यात्रियों को बसों से टर्मिनल-1 से टर्मिनल-2 पर ले जाएंगे
- एयरलाइंस का बसों से आवागमन का खर्चा बढ़ेगा
- यात्रियों की सुरक्षा जांच टर्मिनल-1 में ही की जाएगी
वर्जन
- जयपुर एयरपोर्ट प्रशासन ने मुख्यालय से शिफ्टिंग के संबंध में अनुमति मांगी है। यह अगले कुछ समय में मिलने की संभावना है, लेकिन उससे पहले एयरपोर्ट प्रशासन को एयरलाइंस की कुछ क्वेरीज को भी दूर करना होगा। - जेएस बलहारा, डायरेक्टर, जयपुर एयरपोर्ट
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Jaipur

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×