Hindi News »Rajasthan News »Jaipur News» Gajendra Kumar Snake Capture In Rajasthan

8 बार डस चुके सांप, फिर भी खड़ा है ये इंसान

8 बार डस चुके सांप, फिर भी खड़ा है ये इंसान

Anant Aeron | Last Modified - Nov 06, 2017, 12:49 PM IST

मेड़ता सिटी(राजस्थान). सांपों को देखते ही लोग घबरा जाते हैं, अगर बात जहरीले कोबरा की हो तो किसी की भी हालात खराब हो सकती है, लेकिन मेड़ता सिटी में एक शख्स ऐसा है जो सांपों से खेलता है। यह सर्प प्रेमी युवक रास्ता भटककर आबादी में आने वाले सांपों को मारने नहीं देता, बल्कि उन्हें बचाकर उन्हें सुरक्षित स्थान पर छोड़ता है। यह क्रम पिछले 18 सालों से जारी है। खतरों से खेलने का है शौक...

- यह युवक कोई सपेरा नहीं बल्कि ब्राह्मण समाज के 38 वर्षीय गजेंद्र कुमार व्यास हैं। जनरल स्टोर चलाने वाले गजेंद्र व्यास को 20 वर्ष की आयु से ही खतरों से खेलने का शौक है। वे मेड़ता सिटी सहित आसपास के क्षेत्र में सांपों को पकड़ने के लिए मशहूर हैं।
- आबादी क्षेत्र में कई भी सांप मिलने की सूचना पहुंचते ही गजेंद्र दुकान छोड़कर निकल पड़ते हैं और सांप को सुरक्षित स्थान पर छोड़ कर ही चैन लेते है।
- गजेंद्र बताते हैं कि 18 साल पहले राजस्थान के कुंडल सरोवर के पास क्रिकेट खेल रहे थे। इस दौरान मैदान में सांप गया। इस पर सभी साथी दूर भाग गए। मगर, उन्होंने हिम्मत करते हुए सांप को पूंछ से पकड़ लिया। कुछ देर इधर-उधर घुमा कर मैदान से दूर छोड़ दिया। तब से सांपों को पकड़ने का सिलसिला शुरू हो गया।
- इसके बाद अब तक गजेंद्र ने 2000 सांप पकड़ कर सुरक्षित स्थान पर छोड़ दिए हैं।
- बकौल गजेंद्र, सांप जहरीले जरूर होते है। मगर जब तक उनको नहीं छेड़ते तब तक वे हमें नहीं काटते है। इसलिए मुझे सांपों को डर नहीं लगता है। अब तो सांपों से दोस्ती हो गई है।
4 दिन अस्पताल रहे, लौटे और 3 दिन बाद पकड़ा सांप

- गजेंद्र को 18 साल में कमर, हथेली, अंगुलियों पर 8 बार सांप काट चुके हैं। एक महीने पहले एक केबिन में छोटे अंडरग्राउंड में घुसे सांप ने उनकी अंगुली पर 4 बार डस लिया था। 4 दिन अजमेर जेएलएन अस्पताल में भर्ती रहे। हाथ की एक अंगुली की सर्जरी करानी पड़ी थी। मेड़ता पहुंचने के तीन बाद फिर से सांप पकड़ने का सिलसिला शुरू हो गया। हालांकि, उनकी उंगली के अभी नियमित पट्टी करानी पड़ रही है। इसके बाद भी उनमें सांपों को सुरक्षित स्थान पर छोड़ने का जज्बा है।
परिवार के बच्चों को भी बना दिया निडर, वे भी खेलते हैं सांप से

- गजेंद्र बचपन से निडर साहसी हैं। वह बचपन में छिपकली जेब में रखकर घूमा करते थे। फिर गिरगिट और अब सांप, गोयरा, नेवला आदि की जिंदगियां बचा रहे हैं।
- गजेंद्र के इस शौक ने परिवार के बच्चों को साहसी बना दिया है। कई बार गजेंद्र ऐसे सांप जो जहरीले नहीं होते, उन्हें पकड़कर घर ले आते हैं। ऐसे में परिवार के बच्चे भी सांपों से खेलते रहते हैं।
आगे की स्लाइड्स में देखिए गजेंद्र कुमार के परिवार की फोटोज।
फोटोज- राकेश व्यास
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Jaipur

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×