Hindi News »Rajasthan News »Jaipur News» JDA Occupies 30 Bigha Land In Nindar, Police Arrests 11 People

नींदड़ आवासीय स्कीम की मंदिर माफी जमीन पर कब्जा लेने पहुंचा जेडीए, विरोध करने पर पुलिस ने 11 लोगों को किया गिरफ्तार

नींदड़ आवासीय स्कीम की मंदिर माफी जमीन पर कब्जा लेने पहुंचा जेडीए, विरोध करने पर पुलिस ने 11 लोगों को किया गिरफ्तार

Shyam Raj | Last Modified - Nov 11, 2017, 02:22 PM IST


जयपुर। जयपुर विकास प्राधिकरण (जेडीए) के अधिकारियों ने शनिवार सुबह पुलिस बल के साथ नींदड़ आवासीय योजना की 30 बीघा जमीन पर कब्जा कर लिया। जमीन पर वर्षों से काबिज लोगों व महिलाओं ने जेडीए कार्रवाई क विरोध किया तो उन्हें गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने दो महिलाओं सहित 11 लोगों को गिरफ्तार किया है।जानिए और इस बारे में ...
- जेडीए ने कार्रवाई लाला बाबा की ढाणी, साधु बाबा की ढाणी व आसपास के इलाके में की। यह जमीन मंदिर माफी की है और जेडीए ने मुआवजे की राशि कोर्ट में जमा करवा दी है। वहीं नींदड़ बचाओ संघर्ष समिति ने जेडीए की इस कार्रवाई पर वादा खिलाफी का आरोप लगाया है। लोगों का आरोप है कि जेडीए व पुलिस ने घर में घुसकर महिलाओं व बच्चों पर लाठीचार्ज किया और बदसलूकी की। पूरी कार्रवाई के दौरान प्रवर्तन विंग के पुलिस अधीक्षक राहुल जैन व जोन 12 के डिप्टी कमिश्नर राजकुमार सिंह मौके पर रहे।
- जेडीए के डिप्टी कमिश्नर राजकुमार सिंह का कहना है कि संघर्ष समिति से हुए समझौते के अनुसार ही जेडीए ने मंदिर माफी की खाली जमीन पर प्लानिंग के लिए कब्जा लिया है। यहां पर किसानों को ही मुआवजे के तौर पर विकसित जमीन दी जाएगी तथा इसका रेरा में भी रजिस्ट्रेशन करवा चुके हैं। लोगों ने बेवजह पत्थरबाजी व विरोध किया है। वहीं नींदड़ बचाओ युवा किसान संघर्ष समिति के संयोजक नगेंद्र सिंह शेखावत का कहना है कि जेडीए ने संघर्ष समिति को जानकारी दिए बिना ही कार्रवाई की है। यह गलत है।
जमीन समाधि सत्याग्रह से किसानों को नहीं हुआ फायदा :
- नींदड़ आवासीय स्कीम 1350 बीघा में बसाई जा रही है। इसमें जमीन में करीब 120 बीघा जमीन माफी की है। वहीं 175 बीघा जमीन जेडीए खातेदारी की सरकारी जमीन है। इसके अलावा 280 बीघा जमीन के खातेदारों ने अपनी जमीन जेडीए को पहले ही समर्पित कर दिया है। जेडीए ने 15 बीघा जमीन का मुआवजा कोर्ट में जमा करवा कर 16 सितंबर को कब्जा ले लिया है। इसके बाद लोग विरोध में उतर आए। आवासीय स्कीम के विरोध को लेकर किसानों ने 43 दिन आंदोलन किया। किसानों ने 30 दिन जमीन समाधि सत्याग्रह व उपवास भी किया। बाद में नींदड़ बचाओ युवा किसान संघर्ष समिति के बीच समझौता हो गया। समझौते के अनुसार जेडीए के काम शुरू करने पर सहमति बनी, लेकिन लोगों को बेदखल नहीं करने का वादा भी किया।



दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Jaipur

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×