Hindi News »Rajasthan News »Jaipur News» Padmavati Protests, Muslims Should Support This Said Dargah Diwan

पद्मावती का विरोध जायज, मुसलमानों को समर्थन करना चाहिए: दरगाह दीवान

पद्मावती का विरोध जायज, मुसलमानों को समर्थन करना चाहिए: दरगाह दीवान

Meenakshi Rathore | Last Modified - Nov 16, 2017, 01:26 PM IST

जयपुर/कोटा/अजमेर। बॉलीवुड निर्देशक संजय लीला भंसाली की अपकमिंग फिल्म पद्मावती को लेकर राजस्थान में विवाद गहराता जा रहा है। गुरुवार को इस विवादित फिल्म का राजस्थान में कोटा, जयपुर और अजमेर में विरोध किया गया। कोटा में करणी सेना के प्रदेशअध्यक्ष महिपाल सिंह मकराना ने दीपिका को नाक काटने की चेतावनी दी। वहीं अजमेर में दरगाह के आध्यात्मिक प्रमुख दरगाह दीवान ने कहा कि संजय लीला भंसाली का आचरण धार्मिक भावनाएं भड़काने वाला है इसलिए पद्मावती फिल्म का विरोध जायज है। मुसलमानों को इसका समर्थन करना चाहिए। वहीं जयपुर में ब्राह्मण समाज के लोगों ने खून से हस्ताक्षर कर फिल्म का विरोध किया। कैसा रहा पूरे राजस्थान का माहौल....

अजमेर में ये कहा दरगाह दीवान ने

-फिल्म पद्मावती के संबंध में गुरुवार को दरगाह दीवान ने एक बयान जारी किया। दीवान सैयद जैनुअल आबेदीन अली खान ने संजय लीला भंसाली द्वारा निर्मित फिल्म पद्मावती के विरोध का समर्थन करते हुए संजय लीला भंसाली की तुलना सलमान रुश्दी तस्लीमा नसरीन और तारिक फतेह से करते हुए कहा कि पद्मावती फिल्म के निर्माता संजय लीला भंसाली का किरदार ठीक उसी तरह है जैसे विवादित लेखक सलमान रुश्दी तस्लीमा नसरीन और तारिक फतह है, क्योंकि जिस तरह भंसाली ने इतिहास को तोड़ मरोड़ कर पद्मावती फिल्म का निर्माण करके देश के राजपूत समुदाय की धार्मिक भावनाओं को आहत किया है, उसी तरह अभिव्यक्ति की आजादी का सहारा लेकर सलमान रुश्दी और तस्लीमा नसरीन ने इस्लाम धर्म के खिलाफ अनर्गल बयानबाजी करके मुसलमानों की धार्मिक भावनाओं के साथ खिलवाड़ करने की कोशिश की है। इसी तरह पद्मावती फिल्म में अलाउद्दीन खिलजी और पद्मावती के प्रस्तुत किए गए कथित चित्रण से राजपूत समुदाय की धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचना स्वाभाविक है। इसलिए भंसाली और पद्मावती फिल्म का विरोध जायज है और इस विरोध में देश क मुसलमानों को राजपूतों का समर्थन करना चाहिए ।

- कोटा में करणी सेना के प्रदेशअध्यक्ष महिपाल सिंह मकराना ने चेतावनी दी है और कहा है कि ये टीवी एक्टर भड़काऊ बयान दे रहे है। पद्मावती की एक्ट्रेस दीपिका पादुकोण ने कल बोला है कि फिल्म तो चलके रहेगी। आप भड़काने का काम मत करें। जौहर की ज्वाला में घी डालने का काम न करें। और मैं कहना चाहता हूं, हजारों साल पहले श्रीराम और उनके भाई के पास इसी तरीके से एक राक्षसी आई थी। राक्षसी ने बार-बार मना करने पर भी उन दोनों भाईयों को भड़काया था। फिर दोनों भाईयों ने उसका नाक काटकर जवाब दिया था। क्षत्रिय कभी महिलाओं पर हाथ नहीं उठाता, पद्मावती फिल्म के नाम पर हमारे समाज को भड़काने का काम नहीं करें। दीपिका जी आप भी सुरक्षित रहिएगा। राजपूत क्षत्रिय है महिलाओं पर हाथ नहीं उठाएंगे। लेकिन सूर्पणखा के जैसे नाक काटना अभी भी आता है। ऐसा सबक सिखाएंगे। पूरे देश को समझ में आ जाएगा कि राजपूत समाज को गलत तरीके से दिखाना कितना महंगा पड़ सकता है।

- करणी सेना के प्रदेशअध्यक्ष महिपाल सिंह मकराना ने कोटा में दोपहर को शक्तिप्रदर्शन भी किया। जहां कोटा के आकाश सिनेमा हॉल में हुई तोड़फोड़ के मामले में गिरफ्तार करनी सेना के सदस्यों को रिहा करने की मांग की गई।

जयपुर में ये रहा माहौल

- राजधानी जयपुर में आज ब्राह्मणों ने फिल्म के विरोध में खून से हस्ताक्षर किए। सर्व ब्राह्मण महासभा के अध्यक्ष पं.सुरेश मिश्रा के नेतृत्व में ब्राह्मण समाज के लोग शहर के राजमंदिर सिनेमा हॉल के सामने इक्ट्ठा हुए और पद्मावती फिल्म के डायरेक्टर संजय लीला भंसाली और फिल्म के विरोध में जमकर नारेबाजी की।

- सर्व ब्राह्मण महासभा के अध्यक्ष पं.सुरेश मिश्रा ने बताया कि ऐसा पहली बार हुआ है जब ब्राह्मण समाज किसी फिल्म के विरोध में आगे आया है और खिलाफत करने के लिए अपना खून दिया है। उन्होनें कहा कि ब्राह्मणों ने हमेशा मानव सेवा ​के उद्देश्य से खून दिया है, मगर ऐसा पहली बार है कि किसी अन्य मामले में ब्राह्मण खून बहा रहा है।

आगे की स्लाइड्स में देखिए और फोटोज.....

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Jaipur

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×