लापरवाही / दीपावली के बाद शहर में चरमरा गई सफाई व्यवस्था, कचरे से पटीं गलियां

कचरे के लगे ढेर। कचरे के लगे ढेर।
X
कचरे के लगे ढेर।कचरे के लगे ढेर।

  • दिवाली पर  600 से 800 टन ज्यादा कचरा लेकिन व्यवस्थाएं आधी हुईं

दैनिक भास्कर

Nov 01, 2019, 02:41 AM IST

जयपुर. दिवाली बाद शहर में सफाई व्यवस्था चरमरा गई है। कई वार्डों से डोर-टू-डोर कचरा उठाने के लिए हूपर ही नहीं पहुंच रहे हैं। इस वजह से सड़कों पर कचरे के ढेर लग गए। दिवाली पर  सामान्य दिनों से 600 से 800 टन ज्यादा कचरा निकलता है। पार्षदों का आरोप है कि हर दिवाली पर वार्ड में सफाई के लिए अतिरिक्त कर्मचारी लगाए जाते रहे हंै लेकिन इस बार ऐसा नहीं हुआ।

 

वार्डों मंे जो कर्मचारी काम कर रहे थे उनमें से कईयों को हटाकर रात में मुख्य मार्गों की सफाई के लिए लगा दिया गया है।  इधर, बीवीजी कंपनी के संसाधन घटकर आधे ही रहे गए। हर वार्ड में सफाई यूनिट में एक जेसीबी व डंपर होना चाहिए लेकिन 4 से अधिक वार्डों की एक यूनिट बना रखी है। इस बारे में अधिकारियों का कहना है कि दिवाली  पर ज्यादा कचरा निकलने और गाेर्वधन पूजा के दिन कर्मचारियों ने छुट्टी की वजह से कचरा कलेक्शन नहीं हो सका। जल्द ही सफाई की सुचारु व्यवस्था हो जाएगी।  

 

कई वार्डों में एक भी गाड़ी नहीं चल रही

दिवाली बाद तो वार्ड में कचरे की बदतर स्थिति हो रखी है। घरों और कॉलोनियों से रोजाना कचरे को लेकर सैकड़ों शिकायतें आ रही हैं। कई वार्डों में डोर-टू-डोर कचरा कलेक्शन के लिए एक भी गाड़ी नहीं चल रही। पहले ओपन कचरा डिपो हटा दिए थे जो बीवीजी व निगम प्रशासन की वजह से दोबारा पनपने लगे हैं। इससे कॉलोनीवासियों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। लोगों का कहना है कि निगम की करतूत से जीना दुश्वार हो चुका है। 
 

दिवाली की वजह से पिछले 10 दिन से लगातार कचरा ज्यादा निकल रहा है। जबकि सामान्य दिनाें में रूटीन में 1500 से 1600 टन कचरा निकलता था। गाेवर्धन के दिन कर्मचारियों ने छूट्‌टी कर ली थी। इस वजह से कचरे की समस्या हुई है। संबंधित कर्मचारियों को और बीवी जी वालों को बोल दिया गया है कि कचरा ट्रांसफर स्टेशनों को खाली किया जाए। एक दो दिन में स्थिति सामान्य हो जाएगी।

- बन्ने सिंह मीणा, अधिशाषी अभियंता, प्राेजेक्ट डोर-टू-डोर

 

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना