जयपुर / मॉब लिचिंग रोकने के लिए असामाजिक तत्वों की पहचान करें, रात 8 बजे बाद शराब दुकान खुलनें पर जिम्मेदार हो कार्रवाई



CM Ashok Gehlot take A meeting in Cmo for crime control in rajasthan for mob lynching etc.
CM Ashok Gehlot take A meeting in Cmo for crime control in rajasthan for mob lynching etc.
X
CM Ashok Gehlot take A meeting in Cmo for crime control in rajasthan for mob lynching etc.
CM Ashok Gehlot take A meeting in Cmo for crime control in rajasthan for mob lynching etc.

  • मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने सीएमओ में क्राइम मीटिंग बुलाई
  • गहलोत ने कहा- राजस्थान पुलिस को नम्बर वन बनाना हमारा मिशन
  • अब बदलती चुनौतियों के अनुरूप खुद को तैयार करे पुलिस

Dainik Bhaskar

Aug 04, 2019, 07:48 PM IST

जयपुर. प्रदेश में कानून व्यवस्था तथा अपराध नियन्त्रण को लेकर को लेकर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने रविवार को सीएमओ में एक मीटिंग ली। जिसमें सीएम गहलोत ने कहा कि रात्रि 8 बजे के बाद शराब की दुकानों को बंद करने के निर्देशों की सख्ती से पालना की जाए। उन्होंने कहा कि यदि रात्रि 8 बजे बाद शराब की दुकान खुली मिलती है तो दुकान संचालक के साथ-साथ जिम्मेदार अधिकारियों पर भी कार्रवाई हो। इसी तरह, हुक्का बार प्रतिबंध का कानून बन गया है। अब कहीं भी हुक्का बार चलता पायें तो संबंधित रेस्टोरेंट मालिक पर कड़ी कार्यवाही की जाये।

 

अवैध बजरी खनन व भ्रष्टाचार पर यह बोले सीएम गहलोत

गहलोत ने कहा कि बजरी का अवैध खनन राज्य सरकार के लिए गंभीर चिंता का विषय बना हुआ है। उन्होंने अवैध खनन में लगी मशीनों को जब्त करने तथा अवैध बजरी परिवहन को रोकने के निर्देश दिए। मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए कि भ्रष्टाचार तथा अपराधियों को संरक्षण देने वाले पुलिस अधिकारियों एवं कार्मिकों के खिलाफ अनिवार्य सेवानिवृत्ति जैसे कठोर कदम उठाये जाएं।  

 

मॉब लिंचिंग रोकने के लिए बनाएं असामाजिक तत्वों की सूची
मुख्यमंत्री ने कहा कि गौ-तस्करी को रोकने की आड़ में कई स्थानों पर असामाजिक तत्व मॉब लिंचिंग जैसी घटनाओं को अंजाम देते हैं। ऎसे लोगों की सूची बनाएं और उन पर सख्ती से कार्रवाई करें। उन्होंने कहा कि महिला थानों में जहां भी काउंसलर नहीं हैं, वहां काउंसलर लगाएं ताकि सामान्य पारिवारिक मामलों को समझाइश के जरिए ही सुलझाया जा सके और महिला उत्पीड़न के मामलों में उनकी सहायता ली जा सके। मुख्यमंत्री ने कहा कि मॉब लिंचिंग तथा ऑनर किलिंग को रोकने के लिए हमारी सरकार सख्त कानून ला रही है।
 

राजस्थान पुलिस को नम्बर वन बनाना हमारा मिशन

गहलोत ने कहा है कि राजस्थान पुलिस अपनी छवि बदले और इस मिशन के साथ काम करे कि पूरे देश में हमारी पुलिस नम्बर वन हो। उन्होंने कहा कि जिलों में पुलिस अधीक्षक को पूरे अधिकार देने के साथ ही उनकी जिम्मेदारी भी तय करें। उन्होंने कहा कि बदलते सामाजिक परिवेश में अपराधों की प्रकृति भी बदल रही है, ऎसे में तकनीक और नए तौर-तरीकों को अपनाकर पुलिस अधिकारी अपनी कार्य कुशलता बढ़ाएं।

 

क्राइम ब्रांच, साइबर सेल और एसओजी को बनाएं मजबूत
गहलोत ने कहा कि क्राइम ब्रांच, साइबर सेल और एसओजी पुलिस की महत्वपूर्ण विंग हैं। अपराध नियंत्रण और अपराधियों पर कार्रवाई करने में इनकी अहम भूमिका है। ऎसे में इनमें काबिल अफसर लगाए जाएं। साथ ही इन्हें आवश्यक संसाधन सुलभ करवाकर मजबूत बनाया जाए। मुख्यमंत्री ने कहा कि पुलिस में अनुसंधान अधिकारियों की कमी को दूर करने, रिक्त पदों को भरने सहित आवश्यक संसाधन उपलब्ध करवाने में सरकार कोई कमी नहीं रखेगी।

 

उन्होंने कहा कि बदलते दौर में पुलिस अधिकारी बेहतर पुलिसिंग के लिए सोशल मीडिया टूल्स का भी उपयोग करें। अफवाहों को रोकने की दिशा में प्रो-एक्टिव रहकर काम करें। उन्होंने शांति समितियों और सीएलजी का पुनर्गठन करने के भी निर्देश दिए।मुख्यमंत्री ने कहा कि अपराधियों पर अंकुश रखने के साथ-साथ बदलती सामाजिक व्यवस्था में पुलिस की चुनौतियां भी बढ़ी हैं। खाप पंचायत, ऑनर किलिंग, अंतरजातीय विवाह तथा सामाजिक कुप्रथाओं से संबंधित कई ऎसे संवेदनशील मामले हैं, जिनमें पुलिस सोसायटी को जागरूक कर बड़ी संख्या में अपराधों पर नियंत्रण कर सकती है। 

 

बैठक में अतिरिक्त मुख्य सचिव गृह राजीव स्वरूप, पुलिस महानिदेशक भूपेन्द्र सिंह, महानिदेशक कानून-व्यवस्था एमएल लाठर, एडीजी क्राइम बीएल सोनी, एडीजी इंटेलीजेंस उमेश मिश्रा, एडीजी कार्मिक राजीव शर्मा, एडीजी सिविल राइट्स जंगा श्रीनिवास राव, एडीजी एसओजी अनिल पालीवाल, पुलिस आयुक्त जयपुर आनंद श्रीवास्तव, डीआईजी सीआईडी सीबी गौरव श्रीवास्तव सहित अन्य अधिकारी मौजूद थे।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना