--Advertisement--

राजस्थान / परिसीमन के बाद से शाहपुरा एवं विराटनगर विधानसभा में नहीं खुला कांग्रेस का खाता



Congress account is not open in Shahpura and Viratnagar assembly since the
X
Congress account is not open in Shahpura and Viratnagar assembly since the
  • परिसीमन से पहले बैराठ विधानसभा से कांग्रेस ने कुल सात बार जीत दर्ज की

Dainik Bhaskar

Nov 09, 2018, 12:57 PM IST

शाहपुरा. चुनाव आयोग ने 2008 में बैराठ विधानसभा का परिसीमन करते हुए शाहपुरा और विराटनगर दो अलग अलग विधानसभा सीटों का गठन किया गया था। परिसीमन के बाद से ही शाहपुरा और विराटनगर विधानसभा सीट पर कांग्रेस अपना खाता नहीं खोल पाई है। शाहपुरा में भाजपा से लगातार दो बार से राव राजेंद्र सिंह एवं विराटनगर में से डॉ.फूलचंद भिंडा जीत रहे है।

 

जबकि बैराठ विधानसभा कांग्रेस का गढ़ मानी जाती थी। यहां पर वर्ष 1952 से 1998 तक बैराठ विधानसभा से सात बार कांग्रेस को जीत मिली थी। इसके बाद 2003 में भाजपा के राव राजेंद्र सिंह जीते थे। 2008 में हुए परिसीमन के बाद यहां पर राजनीतिक समीकरण बदल गए और शाहपुरा एवं विराटनगर दोनों सीटों पर ही भाजपा को लगातार जीत मिल रही है।

 

डॉ.कमला ने पांच बार जीत दर्ज की थी

 

परिसीमन से पहले बैराठ विधानसभा से कांग्रेस ने कुल सात बार जीत दर्ज की। जिसमें पूर्व राज्यपाल एवं पूर्व उपमुख्यमंत्री रही डॉ.कमला बेनीवाल ने सबसे ज्यादा पांच बार यहां विधायक रही। शाहपुरा सीट से डॉ.कमला के पुत्र आलोक बेनीवाल दो बार कांग्रेस के टिकट से चुनाव लड़ रहे है, लेकिन अभी तक जीत नसीब नहीं हो पाई।

 

स्टोरी : मुकेश प्रजापत

Bhaskar Whatsapp
Click to listen..