--Advertisement--

दलों की सोशल मीडिया आर्मी / दोनों ही दलों के आईटी सेल इन दिनों वॉर रूम बने हुए हैं, देखिए कैसे काम कर रहे हैं?



Congress and bjp it cell working hard for rajasthan election
X
Congress and bjp it cell working hard for rajasthan election

  • भाजपा : सैकंडों में 20 लाख लोगों को मैसेज, राज्य में 50 हजार बूथ 
  • कांग्रेस : 72 लोगों की कोर टीम, 25 हजार वॉलंटियर, 3000 ग्रुप

Dainik Bhaskar

Oct 16, 2018, 08:26 PM IST

जयपुर. प्रदेश की सियासत में इस वक्त सत्ता का संग्राम चरम पर है। भाजपा और कांग्रेस रैलियों और सभाओं में एक-दूसरे के खिलाफ तीखे हमले कर रही है। वहीं इस युद्ध का एक हिस्सा मैदानों से दूर सोशल मीडिया पर लड़ा जा रहा है। दोनों ही पार्टियों ने इसके लिए अपने योद्धाओं की टीम तैयार कर रखी है जो दूसरी पार्टी के नेताओं को ट्रोल करने और सियासी मुद्दों पर उनकी घेराबंदी कर रहे हैं। 

इन मुद्दों पर एक-दूसरे के नेताओं को कर रहे ट्रोल

  1. भाजपा के मुद्दे

    परिवारवाद : धौलपुर में राहुल की रैली का वीडियो #राहुल जवाब दो के नाम से डाला गया। इसी हैशटैग से एक कार्टून डाला गया। मोदी को जनता का सेवक, वहीं कांग्रेसी राहुल की आरती उतारते दिख रहे हैं।

     

    गुजरात हिंसा : कांग्रेसी विधायक अल्पेश ठाकोर के भड़काऊ बयान का वीडियो वायरल किया।

  2. कांग्रेस के मुद्दे

    बेरोजगारी: वसुंधरा सरकार के खिलाफ इस मुद्दे को कांग्रेस ने अभियान के रूप में छेड़ा हुआ है। खाली पदों को लेकर हमला बोला हुआ है।
    भूख से मौतें, कर्मचारियों की नाराजगी : हाल ही राजसमंद में पेंशन न मिलने से भूखमरी के चलते मौत और हड़ताल के मुद्दों को कांग्रेस पुरजोर तरीके से सोशल मीडिया पर उठा रही है।

  3. भाजपा का आईटी सेल ज्यादा सक्रिय

    • फेसबुक- 6.80 लाख फॉलोअर्स हैं
    • टि्वटर- 1.40 लाख फॉलोअर्स
    • वॉट्सअप- 5000 से ज्यादा ग्रुप बनाए हुए हैं
    • एक अनुमान के तौर पर एक वक्त में एक साथ 20 लाख लोगों तक पहुंचने की ताकत है भाजपा आईटी सेल के पास।
    • पूरे राज्य में 50,000 बूथ, हर बूथ पर एक आईटी सदस्य

  4. 67.53 लाख नए वोटर पर फोकस, अमित शाह लगातार ले रहे हैं बैठकें

    विधानसभा चुनावों के मुकाबले राजस्थान में इस बार मतदाताओं की संख्या में करीब 67.53 लाख की बढ़ोतरी हुई है। इसमें युवाओं की तादाद सबसे ज्यादा है और राजनैतिक दल युवाओं के वोट को 'टर्निंग प्वाइंट' मान रहे हैं। इसलिये सोशल मीडिया और ज्यादा जोर है। प्रदेश में सोशल मीडिया का दायरा तेजी से बढ़ रहा है। यहां फेसबुक यूजर्स की संख्या 95 लाख और टि्वटर यूजर्स की संख्या 7.5 लाख है।

  5. मीम बनाने के लिए लगातार हायरिंग

    10-12 डिजाइयनर हायर किए गए हैं मीम बनाने के लिए। 5 हजार से ज्यादा व्हाट्सअप ग्रुप के अलावा भाजपा का अपना यू ट्यूब चैनल भी है, जो लगातार वीडियोज लोगों तक पहुंचाता रहता है।
    भाजपा अपने चुनावी कैंपेन में सोशल मीडिया को कितनी अहमियत दे रही है इसका अंदाजा इसी बात से लग जाता है कि पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह पिछले तीन महीनों में सोशल मीडिया वालेंटियर्स की जयपुर, उदयपुर व कोटा में संभाग स्तरीय बैठक ले चुके हैं। भाजपा के आईटी सेल के राष्ट्रीय प्रभारी भी पिछले कुछ अरसे में प्रदेश में पांच दौरे कर चुके हैं। शुक्रवार को जयपुर प्रांत की सोशल मीडिया की अहम बैठक रखी गई है।

  6. कांग्रेस की स्थिति- 72 एक्सपर्ट की कोर टीम

    कांग्रेस में 72 लोगों की कोर टीम सोशल मीडिया संभाल रही है। इसके अलावा लगभग 25 हजार वालेंटियर्स भी कांग्रेस सोशल मीडिया से जुड़े हैं। प्रोजेक्ट शक्ति के बाद पार्टी की सोशल मीडिया टीम ज्यादा सक्रिय हो गई है। इनके तीन हजार से ज्यादा व्हाट्सअप ग्रुप हैं। इसमें आईटी से जुड़े एक्सपर्ट हैं। इनके लिए कांग्रेस ने सी स्कीम में एक आईटी रूम भी तैयार कर रखा है। फैन फोलोइंग में कांग्रेस, भाजपा से पीछे चल रही है। राजस्थान कांग्रेस के टि्वटर फॉलोअर्स की संख्या 34773 है। वहीं फेसबुक पेज को 6 लाख 51 हजार लोग फोलो कर रहे हैं।

  7. भाजपा की सोशल मीडिया टीम विधानसभा चुनावों के लिए और ज्यादा एक्टिव हो गई है। जरूरत के अनुसार हायरिंग की जा रही है। हीरेंद्र कौशिक, भाजपा में सोशल मीडिया की कमान संभाल रहे हैं।
    कांग्रेस को सोशल मीडिया पर जबरदस्त समर्थन मिल रहा है। राहुल गांधी की धौलपुर रैली के मौके पर सोशल मीडिया पर 'राहुलमय राजस्थान' को कुछ ही घंटों में इसे 40 हजार लोगों के लाइक्स मिल गए। -दानिश अबरार, कांग्रेस के सोशल मीडिया कॉर्डिनेटर

Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..