• Home
  • Rajasthan News
  • Jaipur News
  • News
  • Jaipur - कांस्टेबल भर्ती : लिखित परीक्षा से चयनित अधिकतर अभ्यर्थी शारीरिक दक्षता में फेल
--Advertisement--

कांस्टेबल भर्ती : लिखित परीक्षा से चयनित अधिकतर अभ्यर्थी शारीरिक दक्षता में फेल

कांस्टेबल भर्ती परीक्षा-2018 में शारीरिक दक्षता परीक्षा में बड़ी तादाद में चयनित अभ्यर्थियों के फेल होने के मामले ने...

Danik Bhaskar | Sep 11, 2018, 04:12 AM IST
कांस्टेबल भर्ती परीक्षा-2018 में शारीरिक दक्षता परीक्षा में बड़ी तादाद में चयनित अभ्यर्थियों के फेल होने के मामले ने मुख्यालय के अफसरों की चिंता बढ़ा दी है। राजस्थान पुलिस के इतिहास में यह पहला मौका होगा, जब कांस्टेबल भर्ती परीक्षा में 5 गुना अभ्यर्थी चयनित होने के बाद भी सभी पद नहीं भर पाएंगे। बताया जा रहा है कि करीब 1500 से ज्यादा सीटें खाली रह जाएंगी। कांस्टेबल भर्ती की ऑफलाइन लिखित परीक्षा में 13,142 पदों के लिए 65,710 अभ्यर्थियों का चयन किया था। चयनित अभ्यर्थियों की 28 अगस्त से शारीरिक दक्षता परीक्षा शुरू हुई थी, जो अभी भी चल रही है। बड़ी तादाद में अभ्यर्थी शारीरिक दक्षता परीक्षा में निर्धारित समय में 5 किमी की दौड़ पूरी नहीं कर पा रहे हंै। ऐसे में अधिकतर चयनित अभ्यर्थी फेल हो गए। इससे 1500 से 1800 कांस्टेबल के पद रिक्त रहने का अनुमान लगाया जा रहा है। माना जा रहा है कि साढ़े 11 हजार चयनित अभ्यर्थी ही शारीरिक दक्षता परीक्षा उत्तीर्ण कर पाएंगे।

लिखित परीक्षा में 5 गुना अभ्यर्थी पास, फिर भी खाली रह जाएंगे 1500 से ज्यादा पद

15 लाख आवेदन

12 लाख अभ्यर्थियों ने दी लिखित परीक्षा

65 हजार से ज्यादा अभ्यर्थियों का चयन

लिखित परीक्षा 14 और 15 जुलाई को हुई थी।


चूक : मुख्यालय की गलती का खामियाजा अभ्यर्थी भुगते

पुलिस मुख्यालय ने शारीरिक दक्षता में हिस्सा लेने के लिए चयनित अभ्यर्थियों के प्रवेश पत्र खुद की वेबसाइट पर डाउनलोड किए थे। लेकिन कई अभ्यर्थियों के प्रवेश पत्र डाउनलोड ही नहीं हुए। ऐसे में वें शारीरिक दक्षता परीक्षा में हिस्सा नहीं ले पाए। ऐसे पीड़ित अभ्यर्थियों ने सोमवार को पुलिस मुख्यालय के बाहर हंगामा भी किया। लेकिन अधिकारियों ने मिलने से ही इंकार कर दिया। खास बात यह है कि आईजी भर्ती सेल ने पांच नंबर गेट पर बने आगंतुक कक्ष में बैठे अफसरों को ऐसे अभ्यर्थियों को पुलिस मुख्यालय में एंट्री नहीं देने के मौखिक आदेश दे दिए। इससे कई अभ्यर्थियों को मुश्किलों का सामना करना पड़ा।