दैनिक भास्कर / रिटेल कॉनक्लेव में विशेषज्ञों ने कहा-जो रिटेलर डिफरेंट करेगा, उसे ही फायदा



कॉनक्लेव में मौजूद स्पेशल एक्सपर्ट गेस्ट कॉनक्लेव में मौजूद स्पेशल एक्सपर्ट गेस्ट
कॉनक्लेव में मौजूद रियल एस्टेट कारोबारी कॉनक्लेव में मौजूद रियल एस्टेट कारोबारी
कॉनक्लेव में मौजूद रियल एस्टेट कारोबारी कॉनक्लेव में मौजूद रियल एस्टेट कारोबारी
X
कॉनक्लेव में मौजूद स्पेशल एक्सपर्ट गेस्टकॉनक्लेव में मौजूद स्पेशल एक्सपर्ट गेस्ट
कॉनक्लेव में मौजूद रियल एस्टेट कारोबारीकॉनक्लेव में मौजूद रियल एस्टेट कारोबारी
कॉनक्लेव में मौजूद रियल एस्टेट कारोबारीकॉनक्लेव में मौजूद रियल एस्टेट कारोबारी

  • शहर के कई रियल एस्टेट कारोबारियों ने लिया हिस्सा

Dainik Bhaskar

Sep 13, 2019, 07:08 PM IST

राजेंद्र शर्मा/मीनाक्षी राठौड़. जयपुर. देश के नामी रिटेल सेक्टर विशेषज्ञों का मानना है कि मौजूदा दौर कंज्यूमर के माइंडसेट को बदलने का है। जो रिटेलर डिफरेंट करेगा, उसे इस मार्केट में फायदा होगा। विशेषज्ञों ने ये विचार गुरुवार को होटल होलीडे इन में दैनिक भास्कर की ओर से आयोजित एक दिवसीय रिटेल कॉन्क्लेव 'गेटिंग- टू द -कंज्यूमर' में व्यक्त किए। कॉन्क्लेव का उद‌्घाटन करते हुए प्रदेश के परिवहन मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास ने कहा है कि अब आर्थिक गति का दौर आ गया है। कारोबारी गतिविधियों में पॉजिटिव सोच दिखाई दे रही है। बिजनेसमैन खुलकर आगे आएंगे तो मनी ट्रांजेक्शन बढ़ेगा। उन्होंने कहा, दैनिक भास्कर समाज के दर्पण के रूप में काम कर रहा है। आज सबसे बड़ी जरूरत यही है कि मार्केट को खोला जाए। इसमें भास्कर की भूमिका सराहनीय है।

 

अखबार जब परिवर्तन की सोचता है तो यह विचार निश्चित रूप से समाज में क्रांति लाता है। खाचरियावास ने कहा, इस आयोजन के माध्यम से सेंटिमेट्स के सुधरने की चर्चा तेज हुई है। अब समय आ गया कि जो कारोबारी पैसा खर्च करेगा वह दस गुना कमाएगा। उन्होंने समारोह में मौजूद उद्योग और व्यापार जगत के प्रतिनिधियों से कहा कि प्रदेश में बिजनेस को खड़ा करने में सरकार से यदि उनकी अपेक्षाएं हैं तो वे उन्हें बताएं ताकि इस दिशा में काम हो सके। उन्होंने कहा कि वे जनता के काम के लिए हमेशा उपलब्ध हैं।

 

कार्यक्रम में भास्कर ग्रुप के प्रेसिडेंट हरीश एम भाटिया, स्टेट एडिटर लक्ष्मी प्रसाद पंत, बिजनेस हैड राजस्थान पुनीत बाली और एयू बैंक के एमडी संजय अग्रवाल भी मौजूद थे। प्रदेश के शीर्ष उद्योग और व्यापारिक संगठनों के प्रतिनिधि इस आयोजन में शाामिल हुए।

 

अब कंपीटिशन में कोलेबोरेशन का दौर: डॉ. आरएल भाटिया
वर्ल्ड सीएसआर डे एंड सस्टेनेब्लिटी के फाॅउडर डाॅ. आरएल भाटिया के अनुसार बिजनेस बढ़ाने के लिए अब कंपीटिशन में काेलेबाेरेशन का दाैर आ गया है। इससे आपकी लाइफ भी बदल सकती है। इसके साथ ही इस बात का ध्यान रखा जाए कि ज्यादा कंपीटिशन वाले ट्रेड में इस प्रकार के कदम से सक्सेस मिलने की संभावना बढ़ जाती है। स्मार्ट तरीके से कस्टमर को टेलर मेड प्रोडक्ट्स देकर उनके यूजर एक्सपीरियंस को बढ़ाया जा सकता है।

 

उपभोक्ता के पास पैसा, उसे मार्केट तक लाएं : गिराज शर्मा
बिहाइंड द मून कंसलटेंट के फाउंडर गिराज शर्मा ने कहा, मंदी मार्केट में नहीं कंज्यूमर के माइंड में है। उपभोक्ताओं की जेब में पैसा है, उनको मार्केट तक लाने के लिए रिटेलर्स को बिजनेस के तरीके बदलने पड़ेंगे। भारत में 86 लाख करोड़ रुपए का रिटेल मार्केट है, जबकि 75% कंज्यूमर युवा है। रिटेलर्स को यूथ के हिसाब से बिजनेस मॉडल को बदलने की जरूरत है। जो रिटेलर डिफरेंट करेगा, उसको फायदा होगा।

 

समय छाती ठाेककर मार्केट में खड़े रहने का : अमोल शिम्पी
स्कूल ऑफ रियल एस्टेट, आरआईसीएस स्कूल ऑफ बिल्ट इन्वेस्टमेंट के एसाेसिएट डीन और डायरेक्टर अमोल शिम्पी के अनुसार मौजूदा दौर बाजार से भागने का नहीं बल्कि छाती ठोककर मार्केट में खड़े रहने का है। बिल्डर्स मिलकर काम करें और कंज्यूमर को सर्विस दें। स्लो डाउन में विज्ञापन कम न करें। शोरूम की तरह लाइटें जलाकर रखें, ग्राहक उजाला देखकर आएगा।

 

कंज्यूमर के माइंडसेट के साथ ही रिटेलर्स को बदलने होंगे बिजनेस के तरीके 

विशेषज्ञों ने कहा कि उपभोक्ताओं की जेब में पैसा है, इनको मार्केट तक लाने के लिए रिटेलर्स को बिजनेस के तरीके बदलने पड़ेंगे। मेपिंग दी नीड ऑफ द इंडियन कंज्यूमर-न्यू कंज्यूमर बिहेवियर ट्रेंड एंड इनसाइट सत्र में मुख्य वक्ता बिहाइंड द मून कंसलटेंट के फाउंडर गिराज शर्मा ने कहा कि भारत में 86 लाख करोड़ रुपए का रिटेल मार्केट है, जबकि 75 फीसदी कंज्यूमर युवा है। रिटेलर्स को यूथ के हिसाब से बिजनेस मॉडल को बदलने की जरूरत है। ब्रांड के साथ कंज्यूमर का जुड़ाव होना चाहिए। सहूलियत, अनुभव, लोकल टच औैर कंज्यूमर के हिसाब से प्रोडक्ट अपडेट कराना जरूरी है। रिटेलर्स के लिए यह नई इमेज बनाने का मौका है। रिटेलर्स को ऑफर्स आकर्षक बनाने पड़ेंगे। इससे रिटेलर्स बिजनेस को बेहतर तरीके से चला सकते हैं। ऑटो सेक्टर में एमजी और किया जैसी ऑटोमोबाइल कंपनियों ने एक लाख से अधिक गाड़ियों की बुकिंग की है जाे बताता है कि कंज्यूमर नया चाहता है।

 

फेस्टिवल सीजन में कंज्यूमर की अपेक्षाओं को पहचानने और रिटेलर्स के लिए इसे फायदेमंद बनाने जैसे महत्वपूर्ण पहलुओं पर गहन विचार-विमर्श से जुड़े कुल पांच सेशन आयोजित किए गए जिनमें दो पैनल डिस्कशन के सत्र भी थे। मुख्य वक्ताओं में सीएसआर डे एंड वर्ल्ड सस्टेनेबिलिटी के फाउंडर, चेंज मैनेजमेंट एंड ऑॅर्गेनाइजेशन टर्नअराउंड स्पेशलिस्ट डॉ. आरएल भाटिया, स्कूल ऑफ रियल एस्टेट, आआईसीएस स्कूल ऑफ बिल्ट इन्वेस्टमेंट के एसोसिएट डीन और डायरेक्टर अमाेल शिम्पी, शामिल थे। 

 

नए माइंडसेट से बिजनेस करें तो अच्छे नतीजे

सेशन के दौरान पेनल डिस्कशन में विशेषज्ञों ने कहा कि नए माइंडसेट के साथ रिटेलर्स बिजनेस करे तो नतीजे भी बेहतर मिलेंगे। पेनल में शामिल इनअाेशियन वर्ल्डवाइड के ज्वाइंट एमडी विवेक श्रीवास्तव ने कहा कि रिटेलर्स बिजनेस के पॉजिटिव साइड पर ध्यान दें। 50 साल से अधिक के उम्र के लोगों का एक बड़ा वर्ग है। यह पैसा खर्च करने को तैयार है। इस वर्ग पर भी फोकस करना चाहिए। डिजिटल मार्केटिंग की खूब चर्चा हो रही है, लेकिन आज भी प्रिंट मीडिया ज्यादा विश्वसनीय है। प्रिंट में दिए गए विज्ञापनों का असर बड़ा होता है। फेसबुक, वाट्सएप तथा अमेजन जैसे डिजिटल प्लेटफार्म भी प्रिंट का इस्तेमाल करते हैं। कंज्यूमर को बेहतर ऑफर मिलेंगे तो सेल्स भी बढ़ेगी।

 

बेहतर ऑफर, फाइनेंस और सर्विस देने की जरूरत

सनशाइन होंडा ऑटोमोबाइल्स के मालिक अंकित मित्तल ने कहा कि ऑटोमोबाइल शोरूम पर आने वाले 80 फीसदी ग्राहक पहले से गाड़ी के बारे में सर्च करने आते है। ऐसे में उसको बेहतर ऑफर, फाइनेंस और सर्विस देने की जरूरत होती है। कंज्यूमर के साथ रिलेशनशिप बेहतर होना जरूरी है।

 

मार्केट की रिसर्च जरूरी
एलजी की जयपुर ब्रांच के हैड कमल तिवारी ने कहा कि रिटेलर्स को मार्केट की रिसर्च करनी चाहिए। ग्राहक के आने का इंतजार नहीं करे। ग्राहकों तक पहुंचे। इस रणनीति के साथ काम करने से बेहतर रिजल्ट मिलेंगे। एलजी इस रणनीति के साथ काम कर रही है। एलजीटी की एमओटी पॉलिसी के अच्छे नतीजे मिले। आफ्टर सेल सर्विस बेहतर होना जरूरी है।

 

अच्छी रणनीति होगी तो बढ़ेगा बिजनेस
राजेश किया मोटर्स के निदेशक सिद्धार्थ शाह ने कहा कि कम्पीटिशन एक ट्रेड के बिजनेस हाउस के बीच नहीं होता। दूसरे ट्रेड से भी कम्पीटिशन होता है। इसके मद्देनजर माइंडसेट बनाकर काम करना चाहिए। अच्छी रणनीति होगी तो बिजनेस बढ़ेगा। हर कंज्यूमर महत्वपूर्ण होता है। इसलिए अगर कोई कंज्यूमर शोरूम की विजिट के बाद भी खरीदारी नहीं करे तो उसका कारण जानना चाहिए।

 

इवेंट के खर्चों में कमी नहीं
चंद्रा ट्रायो की निदेशक मुद्रिका धोका ने कहा कि कार्पोरेट सेक्टर पर मंदी का असर नहीं है। लोग वेडिंग पर अब भी खूब खर्च कर रहे हैं। लेकिन इवेंट के खर्च में कमी नहीं हो रही है। वेडिंग के लिए कपड़े, आभूषण जैसी चीजों के बजट में कटौती नहीं की गई है।

 

सोने-चांदी में निवेश बेहतर, निवेशक घबराएं नहीं
सर्राफा ट्रेडर्स कमेटी, जयपुर के अध्यक्ष कैलाश मित्तल ने कहा कि सोने-चांदी की कीमतों में तेजी आने की संभावना है। लेकिन निवेशक थोड़ी गिरावट से घबराकर बिकवाली शुरू कर देते हैं। यह सही नहीं है। सोना-चांदी बेहतर निवेश है। बुरे दौर में यह सबसे ज्यादा काम आता है। इसको बेचना आसान है। पहले लोग गिफ्ट में सोना-चांदी से बनी चीजें देते थे। अब ऐसा नहीं है, जबकि सोने-चांदी की गिफ्ट बेहतर होती है।

 

ब्रांड वैल्यू में इजाफा हो
किराना किंग के महाप्रबंधक मार्केटिंग एंड पीआर मनीष जैन ने कहा कि मंदी कहीं नहीं है। बस केवल कंज्यूमर का माइंडसेट बदलना पड़ेगा। कुछ अलग करने की जरूरत है। रिटेलर्स में बिजनेस को आगे बढ़ाने की ललक होनी चाहिए। ब्रांड की वैल्यू को बढ़ाने की जरूरत है। मार्केट की अच्छी तरह रिसर्च करें।

 

इनपुट चेंज करना पड़ेगा
माई एफएम के सीओओ राहुल नामजोशी ने कहा कि रिटेलर्स को इनपुट चेंज करना पड़ेगा। कंज्यूमर के पास पैसा है। लेकिन कंज्यूमर को मार्केट तक लाने के लिए क्रिएटिव करने की जरूरत है। रिटेलर्स को 360 डिग्री की अप्रोच करनी पड़ेगी। 

 

इन नौ सवालों का जवाब आपके पास है तो आप अच्छे बिजनेस मैन है।

क्या आप बिजनेस में आने वाली रुकावटों का हल निकाल सकते है?
क्या आप जानते है बिजनेस में आने वाली किसी समस्या से बाहर कैसे निकला जाता है?
क्या आप आपके कम्फर्ट जोन के बाहर निकलकर काम करते है? 
क्या आप वैश्वेविक स्तर पर अपने बिजनेस को ले जाने के बारे में सोचते है? 
क्या आप आपके कस्टमर के बारे में जानते है कि वें कौन है, कहां से आए है और उनकी जरूरतें क्या है? 
क्या आपकी ऑर्गनाइजेशन कस्टमर की जरुरतों को पूरा करती है? 
क्या आपको पता है कि आपके प्रोडक्ट की लागत क्या है? 
क्या आप मार्केट की प्रतिस्पर्धा के लिए तैयार है ?  
क्या आप मार्केट में आगे बढ़ना चाहते है?

 

DBApp

 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना