अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस / एक हजार से अधिक स्कूलों में बेटियां बनीं एक दिन की प्रिंसिपल, ली अपने ही गुरुजी की हाजिरी



सीट पर बैठते ही कहा, मुझे रिजल्ट चाहिए सीट पर बैठते ही कहा, मुझे रिजल्ट चाहिए
स्टाफ से काम की जानकारी ली स्टाफ से काम की जानकारी ली
X
सीट पर बैठते ही कहा, मुझे रिजल्ट चाहिएसीट पर बैठते ही कहा, मुझे रिजल्ट चाहिए
स्टाफ से काम की जानकारी लीस्टाफ से काम की जानकारी ली

  • सुबह स्कूल समय से पूर्व पहुंचकर प्रिंसिपल रूम आना और उसके बाद अपने गुरुजी की हाजिरी ली
  • प्रिंसिपल बनी बालिकाओं की हाजिरी में स्कूल के चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी से लेकर उनके ही प्रिंसिपल तक खड़े थे

Dainik Bhaskar

Oct 12, 2019, 07:15 AM IST

जोधपुर. जिले की करीब एक हजार से भी अधिक सरकारी सैकंडरी व सीनियर सैकंडरी स्कूलों में बेटियाें के पास प्रिंसिपल-हैडमास्टर का चार्ज था। सुबह स्कूल समय से पूर्व पहुंचकर प्रिंसिपल रूम आना और उसके बाद अपने गुरुजी की हाजिरी लेने से लेकर बच्चों को मिड-डे-मील खिलाने और क्लासें लेने का काम किया। गुरुजनों ने भी सहज रूप से एक दिन के प्रिंसिपल को स्कूल समय में सम्मान के साथ कुर्सी पर बिठाकर काम करवाया। प्रिंसिपल बनी बालिकाओं की हाजिरी में स्कूल के चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी से लेकर उनके ही प्रिंसिपल तक खड़े थे। 

 

125 बालिकाओं की स्वास्थ्य जांच

अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस पर शुक्रवार सुबह 125 बालिकाओं का स्वास्थ्य परीक्षण किया गया। उपनिदेशक महिला अधिकारिता फरसाराम विश्नोई ने बताया कि  बालिकाओं की स्वास्थ्य जांच डॉ. हीराराम व मेडिकल टीम की ओर से किया गया। किशोरी बालिकाओं को स्वास्थ्य के प्रति जागरूक करने के साथ ही किशोर स्वास्थ्य एवं किशोरियों में पाई जाने वाली सामान्य बीमारियों के लक्षण व बचाव की जानकारी दी गई। 

 

स्टाफ से काम की जानकारी ली

राउमावि सिवांचीगेट में 11वीं कक्षा में कला संकाय में टॉप रही छात्रा भाविका एक दिन की प्रिंसिपल बनी। भाविका हाथ में बैग लेकर स्कूल खुलने से पहले ही सुबह पौने सात बजे गेट पर आ गई। चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी ने एक दिन की प्रिंसिपल के लिए गेट खोला। तब तक अन्य स्टाफ भी आ चुका था। स्टाफ अपनी प्रिंसिपल को प्रधानाचार्य कक्ष में लेकर गए और वहां पर प्रिंसिपल किशोर कुमार ने भाविका को कुर्सी पर बिठाया। इसके बाद भाविका ने वहां मौजूद मीनाक्षी, भावना देवड़ा, कुमुद शर्मा, चंदा मेढ़, प्रकाश चौहान, ताराराम, रामकिशोर, करतारसिंह, महेंद्रसिंह, विनीता सहित सभी स्टाफ की हाजिरी ली और प्रार्थना सभा में बच्चों को संबोधन भी दिया। इसके बाद स्कूली कामकाज की जानकारी लेकर उन्हें निपटाने का काम भी किया।
 

सीट पर बैठते ही कहा, मुझे रिजल्ट चाहिए
राउमावि सांगरिया में 12वीं कक्षा की छात्रा कंचन गहलोत एक दिन की प्रिंसिपल बनी। यहां पर कंचन ने पदभार संभाला और एक रजिस्टर में साइन करने के बाद स्टाफ से नए सत्र से लेकर अब बच्चों को पढ़ाए गए कोर्स की जानकारी लेने के साथ ही अर्द्धवार्षिक परीक्षा से पूर्व कोर्स पूरा करने के निर्देश दिए। इसी के साथ प्रिंसिपल थानाराम विश्नोई ने कंचन कोे स्कूल की गतिविधियों और योजनाओं से अवगत करवाया तो कंचन ने बालिका शिक्षा के लिए पैरेंट्स का भी सहयोग लेने के निर्देश दिए। इस दौरान प्रिंसिपल कंचन ने स्टाफ की हाजिरी ली और क्लास रूम में जाकर बच्चों की क्लास ली।
 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना