अयोध्या विवाद पर फैसला / हिंदू-मुस्लिम धर्मगुरुओं की अपील भावनाएं काबू में रखें



Decision on Ayodhya dispute today news and update
X
Decision on Ayodhya dispute today news and update

  • हिंदू-मुस्लिम धर्मगुरुओं की अपील, किसी के बहकावे में न आएं, अपने शहर की शांति बनाए रखें
  • अफवाहें फैलाने वालों को 3 से 5 साल तक सजा हो सकती है, सोशल मीडिया पर भी भरोसा न करें

Dainik Bhaskar

Nov 09, 2019, 04:56 PM IST

जयपुर. आखिर वो घड़ी आ ही गई, जिसका कई दशकों से बेसब्री से इंतजार हो रहा था। अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुना दिया। ऐसे में शहर का माहौल न बिगड़े, इसके लिए हिंदू-मुस्लिम धर्मगुरुओं ने अमन चैन कायम रखने की अपील की है। दाेनाें धर्माें के प्रमुख धर्मगुरुओं ने कहा कि फैसला जाे भी आए हमें भावनाओं पर काबू रखना है और अफवाहाें पर ध्यान देने और इन्हें फैलाने से बचना है।

 

गंगा-जमुनी संस्कृति बनाए रखिए

जयपुर एक सौहार्दपूर्ण और शांतिपूर्ण शहर है। यहां सभी धर्म और जातियों के लोग मिलजुलकर रहते हैं। यहां की संस्कृति को हमेशा ही गंगा-जमुनी संस्कृति कहा गया है। भगवान गणेशजी के आशीर्वाद से आगे भी हम सब मिलकर गंगा-जमुनी संस्कृति बनाए रखेंगे। - महंत कैलाश शर्मा, मोती डूंगरी गणेशजी महाराज

 

जो सम्मान मिला है वह धूमिल ना हो

जयपुर की जब से स्थापना हुई है तब से उसके विकास में सभी जातियों व धर्मों का सहयोग रहा है। आज जयपुर पूरे विश्व में धरोहर के रूप में सम्मिलित हुआ है। इस सौहार्दपूर्ण से जो सम्मान मिला है वह धूमिल ना हो। -महंत अंजन कुमार गोस्वामी, राधागोविंददेवजी मंदिर

 

सभी को हर धर्म का सम्मान करना है

जनमानस में सामंज्य बना रहे और आपसी विचारधाराओं के विषय की कोई बातचीत है तो अपने-अपने धर्मगुरुओं से अथवा समाज के प्रबुद्ध और बुद्धिजीवी महानुभावों से संपर्क करके ही अपने विचारों का समाधान करें। -अलबेली माधुरी शरण महाराज, पीठीधीश्वर, सरस निकुंज

 

अफवाहों पर ध्यान नहीं दें

जनमानस में सामंज्य बना रहे और आपसी विचारधाराओं के विषय की कोई बातचीत है तो अपने-अपने धर्मगुरुओं से अथवा समाज के प्रबुद्ध और बुद्धिजीवी महानुभावों से संपर्क करके ही अपने विचारों का समाधान करें। -अलबेली माधुरी शरण महाराज, पीठीधीश्वर, सरस निकुंज

 

फैसला जो भी हो दिल से स्वीकार करें

मेरे प्यारे नगरवािसयों, हमारा प्यारा गुलाबी नगर ऐतिहासिक ही नहीं बल्कि आपसी प्रेम, सद्भभाव और अपनी गंगा-जमुना संस्कृति के लिए पूरे विश्व में अपनी खास पहचान रखता है। फैसला जो भी हो, हमें उसे दिल से स्वीकार करना है। हमें ऐसा कोई कार्य नहीं करना जिससे हमारी परंपरा को ठेस पहुंचे। - जाकिर नोमानी, मुफ्ती शहर, जयपुर

 

भाईचारा, अमन चैन कायम रखें

सुप्रीम काेर्ट का फैसला कानून के अधीन हाेगा वाे सभी काे स्वीकार हाेना चाहिए। सबसे जरूरी चीज है फैसले के बाद आपसी भाईचारा, अमन चैन कायम रखना हाेगा। क्याेंकि देश में अन्य कई एेसे भी मुद्दे पर जिन पर ध्यान दिया जाए ताे देश काे विकास के पथ पर ले जाया जा सकता है। ऐसे समय में अफवाहाें पर ध्यान न दें। -खालिद उस्मानी, चीफ काजी

 

भावनाओं पर काबू रखना होगा

फैसला जाे भी हाे सभी काे अपनी भावनाओं पर काबू रखना है। खासकर युवाओं काे भड़काऊ मैसेज, अफवाहाें पर ध्यान नहीं देना है। ऐसे समय में हमें फैसले के साथ एक-दूसरे का सम्मान भी करना हाेगा ताकि गंगा जमुनी तहजीब बरकरार रह सके। सभी से अपील है कि असामाजिक व उपद्रव फैलाने तत्वाें से दूर रहे। -नईमुद्दीन कुरैशी, सदर, जामा मस्जिद

 

देश की एकता और अखंडता बरकरार रखें

सुप्रीम कोर्ट के आने वाले फैसले के प्रति सभी वतन भाइयों से अपील है कि जो भी फैसला हो, उसका सम्मान करें और अपने देश की एकता और अखंडता को किसी भी सूरत में मुतअस्सिर ना होने दें क्योंकि वतन ए अजीज की सालमियत हमारे लिए सबसे बड़ी चीज है और भाई चारे का माहौल हमारी सदियों पुरानी तहजीब, जिसे बरकरार रखना हमारी सबसे बड़ी जिम्मेदारी। -खालिद अय्यूब मिस्बाही

 

भास्कर अपील

अपील है कि ऐसे मैसेज के बहकावे में न आएं। और न ही इन मैसेज को फारवर्ड करें। शहर में शांति बनाए रखने की सबसे बड़ी जिम्मेदारी हमारी ही है। न तो किसी अफवाह पर ध्यान दें और न उसे फैलाने का जरिया बनें।

 

ये भी जान लें

  • सोशल मीडिया पर भड़काऊ बयान, एकदूसरे को गाली गलाैज या अपमानजनक शब्द, अभद्र भाषा इस्तेमाल करने पर आईटी एक्ट की धाराओं में 3 से 5 साल की सजा प्रावधान है। 
  • एक्ट 67ए में साेशल मीडिया पर अपशब्द इस्तेमाल करना गैर जमानती अपराध है। 
  • आर्थिक जुर्माने का भी प्रावधान है। जो व्यक्ति धर्म, भाषा, नस्ल के आधार पर नफरत फैलाने की कोशिश करते हैं, उन्हें धारा 153ए के तहत 3 साल तक कैद या जुर्माना या दोनों हो सकते हैं।
  • अगर ये अपराध किसी धार्मिक स्थल पर किया जाए तो 5 साल तक की सजा हाे सकती है।
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना