बड़ी चूक / 20 माह पहले डेंगू ‘नोटिफाइड डिजीज’ घोषित.... जेके लोन में हो रही पुरानी तकनीक से जांच

Dengue declared 'Notified Disease' 20 months back
X
Dengue declared 'Notified Disease' 20 months back

  • सरकार ने 28 मई 2018 को मलेरिया, डेंगू व चिकनगुनिया नोटिफाइड डिजीज घोषित

दैनिक भास्कर

Jan 09, 2020, 03:08 PM IST

जयपुर। एडीज एजिप्टाई मच्छर के काटने से फैलने वाले डेंगू को सरकार ने 20 माह पहले नोटिफाइड डिजीज घोषित कर दिया है। इससे अस्पतालों में डेंगू की कन्फर्म जांच के लिए एलाइजा टेस्ट अनिवार्य हो गया है, लेकिन चिकित्सा विभाग नोटिफाइड डिजीज घोषित होने का फायदा मरीजों को दिलाने में नाकाम साबित हो रहा है।

चौंकाने वाली बात यह है कि नोटिफाइड डिजीज घोषित होने के बाद भी प्रदेश का सबसे बड़े जयपुर के जेके लोन में रेपिड या कार्ड टेस्ट से जांच की जा रही है। ऐेसे में डेंगू का सही आंकड़ा और आने वाली रिपोर्ट पॉजिटिव या नेगेटिव को लेकर संदेह बना हुआ है।

जानकारी के अनुसार जयपुर समेत प्रदेश के अनेक अस्पताल है, जहां डेंगू की कार्ड टेस्ट से जांच की जा रही है। अस्पताल प्रशासन का कहना है कि डेंगू कन्फर्म करने के लिए एसएमएस मेडिकल कॉलेज में भेजा जाता है जबकि चिकित्सा विभाग के अधिकारियों का कहना है कि नोटिफाइड डिजीज घोषित होने के बाद एलाइजा जांच से करना अनिवार्य है। उल्लेखनीय है कि चिकित्सा विभाग के डिप्टी सेक्रेटरी पारस चंद जैन की ओर से 28 मई 2018 को नोटिफाइड डिजीज घोषित करने का सर्कुलर जारी किया गया है।

क्या है नोटिफाइड डिजीज
 

नोटिफाइड डिजीज घोषित होने के बाद सरकारी व निजी अस्पतालों को मादा एनोफिलिज मच्छर के काटने से मलेरिया, एडीज एजिप्टाई मच्छर के काटने से डेंगू व स्वाइन फ्लू के एच 1 एन 1 मरीजों की रिपोर्ट देना अनिवार्य है। किसी भी संस्थान की ओर से पॉजिटिव व मौत होने पर चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग को मरीज का नाम, पता, मोबाइल नंबर व चल रहे इलाज के बारे में जानकारी देना अनिवार्य है।

नहीं देने पर सरकार नियमानुसार कार्रवाई कर सकती है। साथ ही मरीज चाहे तो अपनी रिपोर्ट गोपनीय रख सकता है, लेकिन इसके लिए अस्पताल प्रबंधन को लिखकर देना पड़ेगा। ऐसा संभव मलेरिया, डेंगू व स्वाइन फ्लू को राजस्थान एपिडेमिक डिजीज एक्ट 1957 के तहत नोटिफाइड डिजीज घोषित किया गया है।

न्यूज: सुरेन्द्र स्वामी
 

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना