--Advertisement--

विधानसभा चुनाव 2018 / चुनाव में अवैध शराब की बिक्री पर रोक के लिए आबकारी ने बनाई शहर में 60 स्टॉफ की 9 टीमें



डेमो पिक। डेमो पिक।
X
डेमो पिक।डेमो पिक।

Dainik Bhaskar

Oct 12, 2018, 05:11 PM IST

जयपुर। प्रदेश में चुनाव का एलान होते ही आबकारी विभाग ने अवैध शराब बिक्री रोक के लिए कमर कस ली है। शहर में अवैध शराब की ब्रिक्री के लिए विभाग ने 60 कर्मचारी-अधिकारियों की 9 टीम का गठन किया है। ये टीमें शहर में अवैध सप्लाई होने वाली शराब पर नजर रखेंगे। साथ ही विभाग से जुड़े गोदामों पर निर्वाचन विभाग ने सीसीटीवी कैमरे भी लगवा दिए हैं।

वोटे के बदले शराब का लालच

  1. चुनाव के समय वोट बैंक के लिए राजस्थान में शराब का लालच देना आम बात है और इसके लिए दूसरे राज्यों से अवैध रूप से भी शराब लाई जाती है। अधिकारियों की माने तो चुनावों के सीजन में शराब बिक्री आमतौर पर डेढ़ से दो गुना तक बढ़ जाती है। लेकिन बिक्री अवैध शराब की न हो, इसे लेकर आबकारी विभाग ने इस बार अभी से विशेष अभियान शुरू कर दिया है।

  2. यहां रहेगी नजर

    आबकारी विभाग से जुड़े सूत्रों ने बताया कि खासतौर पर 3 प्रमुख जगहों पर सावधानी बरती जा रही है। इनमें शराब के मैन्यूफैक्चरिंग पॉइंट, इसके बाद शराब की दुकानों और रेस्टोरेंट और तीसरे ऐसे पॉइंट जहां पर शराब अवैध रूप से लाई जाकर स्टोर की जा रही हो। अवैध शराब मुख्य रूप से हरियाणा से लाई जाती है, इसके लिए आबकारी विभाग ने चैकिंग पॉइंट पर टीम लगा दी हैं।

  3. जयपुर शहर में ऐसे स्थानों पर आबकारी निरोधक दल कार्रवाई करेगा। विभाग के अधिकारी न केवल सभी दुकानों और रेस्टोरेंट की शराब बिक्री का स्टॉक चैक करेंगे, साथ ही क्षेत्र विशेष में बिक्री बढ़ने पर इस बारे में निर्वाचन विभाग को सूचना भी देंगे।
     

  4. शहर में यह रहता है शराब का कारोबार

    जयपुर शहर में 194 देशी और 205 अंग्रेजी शराब की दुकानें संचालित हो रही है। साथ ही शहर में 280 बियर बार, बार और रेस्ट्रोबार खुले हुए हैं। शहर में हर दिन करीब 4500 पेटी अंग्रेजी शराब की रोज खपत होती है।

     

    इसकी कीमत लगभग 42 लाख रुपए हैं। इसके अतिरिक्त 9800 पेटी बियर की रोज खपत है। इसकी कीमत लगभग 16 लाख रुपए हैं। 6100 पेटी देशी शराब की रोज बिक्री, कीमत लगभग 10 लाख रुपए हैं।

  5. निर्वाचन विभाग ने आबकारी से मांगा हर दिन का शराब का रिकॉर्ड

    आचार संहिता लगने के साथ ही निर्वाचन विभाग आबकारी विभाग से हर दिन का शराब बिक्री का रिकॉर्ड मांगना शुरू कर दिया है। इसके तहत रोजाना हो रही शराब की बिक्री, कीमत और स्टॉक की जानकारी ऑनलाइन भेजी जा रही है। साथ में आबकारी विभाग की तरफ से की जाने वाली कार्रवाई की जानकारी भी मंगवाई जा रही है। इसके अलावा शराब कारखानों से उत्पादन, शराब के डिस्पैच और स्टॉक रजिस्टर की जानकारी भी मंगवाई जा रही है।
     

  6. यह है आबकारी विभाग की फोर्स

    8 सर्कल में बंटा हुआ है जयपुर शहर का आबकारी क्षेत्र। इसमें 6 आबकारी निरीक्षक पदस्थापित हैं। झोटवाड़ा सर्किल का चार्ज नॉर्थ इंचार्ज हरीश शर्मा, जगतपुरा सर्किल का चार्ज साउथ-ईस्ट इंचार्ज उमेश गुप्ता के पास है। इसके अतिरिक्त शहर में 5 आबकारी हैं। इनमें 3 निरीक्षक, 5 एएसआई और करीब 50 जवान कार्यरत हैं।

  7. वर्जन ...

    शहर में चुनाव में होने वाली अवैध शराब ब्रिक्री रोक के लिए टीमों को गठन किया है। ये टीमें शहर में हर दुकानों, रेस्टारेंटों सहित शहर में आने वाली अवैध शराब के मुख्य पाइंटों पर नजर रखेगी। साथ हर दिन दुकानों पर होने वाली ब्रिक्री का रिकॉर्ड जांच करेगी।  --- राजेश वर्मा, जिला आबकारी अधिकारी, जयपुर शहर

     

    कंटेंट : नरेश वशिष्ठ
     

Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..